close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

वॉशिंगटन में पाकिस्तानी PM इमरान खान के समर्थकों और अल्पसंख्यकों के बीच झड़प, जमकर हुई नारेबाजी

अपनी पहली आधिकारिक यात्रा पर अमेरिका पहुंचे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. ताजा घटनाक्रम में वॉशिंगटन में इमरान खान के समर्थक और अल्पसंख्यक समुदाय के बीच झड़प हुई है. 

वॉशिंगटन में पाकिस्तानी PM इमरान खान के समर्थकों और अल्पसंख्यकों के बीच झड़प, जमकर हुई नारेबाजी
फोटो सौजन्य: ANI
Play

वॉशिंगटन: अपनी पहली आधिकारिक यात्रा पर अमेरिका पहुंचे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. ताजा घटनाक्रम में वॉशिंगटन में इमरान खान के समर्थक और अल्पसंख्यक समुदाय के बीच झड़प हुई है. न्यूज एजेंसी ANI के मुताबिक, सोमवार को इमरान खान और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की मुलाकात से पहले वॉशिंगटन डीसी में अल्पसंख्यक समुदाय और इमरान खान के समर्थकों के बीच झड़प हुई. इस दौरान अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों के इमरान खान और पाकिस्तान विरोधी नारे भी लगाए.

कई जगहों पर हो रहे हैं विरोध
अमेरिका में इमरान का विरोध भी शुरू हो गया है. इमरान खान के अमेरिकी दौरे को लेकर बलोच, सिंधी और मोहाजिर समेत पाकिस्तान के कई धार्मिक अल्पसंख्यक समुदाय विरोध प्रदर्शन भी कर रहे हैं. इन समुदायों ने व्हाइट हाउस और कैपिटल हिल एरेना के सामने भी विरोध करने की योजना बनाई है. दरअसल पाकिस्तानी सरकार पर हमेशा से ही बलोच और सिंधी समाज के खिलाफ अत्याचार करने के आरोप लगते रहे हैं.

स्वागत के लिए नहीं आए थे अधिकारी
तीन दिनी अमेरिका दौरे के लिए रविवार को वॉशिंगटन पहुंचे इमरान के स्वागत के लिए ट्रंप प्रशासन का कोई मंत्री तो दूर, कोई अधिकारी तक एयरपोर्ट नहीं पहुंचा था. पहले से ही अमेरिका में मौजूद पाक विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी और राजदूत असद मजीद खान ने इमरान का स्वागत किया. बेइज्जती की हद तो तब हो गई है, जब इमरान खान को अपने ही अधिकारियों के साथ मेट्रो की यात्रा कर अपने राजदूत के आवास तक जाना पड़ा. मेट्रो में भी इनके साथ कोई अमेरिकी अधिकारी नहीं था. इमरान किसी होटल के बजाय अपने राजदूत के यहां ही ठहरे हैं. वह विशेष विमान के बजाय कतर एयरवेज की सामान्य उड़ान से यहां पहुंचे थे.