फालुन गोंग के अनुयायियों के ऑर्गन निकाल लेता था चीन? जानें पूरा मामला

फालुन गोंग चीन की सरकारी नास्तिकता के सिद्दांत का सबसे बड़ा शिकार बन गया है. फालुन गोंग एक धार्मिक आंदोलन है, ये पुण्य के प्रताप पर यकीन करता है और आध्यात्मिकता से ज्ञान की प्राप्ति पर जोर देता है.

फालुन गोंग के अनुयायियों के ऑर्गन निकाल लेता था चीन? जानें पूरा मामला

नई दिल्ली: फालुन गोंग (Falun Gong) या ‘धर्म चक्र अभ्यास’ चीन (China) की पुरानी क्वीगोंग परम्परा के तहत शरीर और मस्तिष्क के सुधार का एक सिस्टम है. ये बुद्ध और ताओवादी शिक्षाओं का मिलाजुला रूप है और सहनशीलता के जरिए नैतिक चरित्र को बढ़ाने में भरोसा रखता है. फालुन गोंग की स्थापना मशहूर चीनी आध्यात्मिक गुरू ली होंगझी ने मई 1992 में की थी. ली के इस आंदोलन से लाखों लाख चीनी शहरी नागरिक जुड़ गए थे. इसने बेहद अहम लोकप्रियता दुनियाभर में भी हासिल कर ली, क्योंकि उन्हीं दिनों चीनी छात्रों का पश्चिमी देशों में बड़ी मात्रा में विस्थापन हुआ.

90 के पूरे दशक के दौरान फालुन गोंग के क्लब और एसोसिएशंस यूरोप के हर हिस्से में खुलते रहे, लेकिन जैसे ही फालुन गोंग आंदोलन को इंटरनेशनल मीडिया में तबज्जों मिलने लगी, चीन की कम्युनिस्ट पार्टी और फालुन गोंग के अनुयायियों के बीच तनाव बढ़ना शुरू हो गया.

चीन ने इसे गैरकानूनी घोषित कर दिया और इस पर अंधविश्वास फैलाने के आरोप जड़ दिए. आने वाले सालों में चीनी कम्युनिस्ट पार्टी ने फालुन गोंग को अपने प्रोपेगेंडा के जरिए ‘दुष्ट पंथ’ के तौर पर प्रचारित करना शुरू कर दिया. चीनी सरकारी मीडिया ने तमाम लेख छापे कि कैसे फालुन गोंग लोगों की आंखों में धूल झोंक रहा है, हजारों फालुन गोंग अनुयायियों को गिरफ्तार कर लिया गया, हिरासत में ले लिया गया. उन्हें मजदूर कैम्पों में बंधक बना लिया गया, तमाम जुल्म किए गए और अंगों तक को निकाल लिया गया.

ये भी पढ़ें:- राशिफल 24 जुलाई: इन 5 राशिवालों के आज पूरे होंगे अटके काम, सुधरेगी आर्थिक स्थिति

2006 में कनाडा के सांसद डेविड किलगौर ने एक रिपोर्ट में फालुन गोंग अनुयायियों पर चीनी अत्याचार का खुलासा किया. रिपोर्ट ने बड़ा खुलासा किया कि कैसे जिस साल यानी 1999 से फालुन गोंग पर चीन सरकार ने अपना ऑपरेशन शुरू किया, उसी साल से चीन में ऑर्गन ट्रांसप्लांट की दर में बड़ी तेजी आनी शुरू हो गई. 2016 मे एक और रिपोर्ट जारी की गई जिसमें अनुमान लगाया गया कि चीन में करीब 1 लाख लोगों के अंगों को निकाला गया था. आज की तारीख में फालुन गोंग चीन देश में कहीं भी नजर नहीं आता. उसके अनुयायी दुनियाभर के देशों से अपने दुर्दशा की तरफ दुनिया का ध्यान खींचने की कोशिश करते रहते हैं.

सितम्बर 2019 में WION  संयुक्त राष्ट्र महासभा का सत्र कवर करने न्यूयॉर्क पहुंचा. हमने संयुक्त राष्ट्र महासभा मुख्यालय के बाहर होने वाले सालाना विरोध प्रदर्शनों पर एक रिपोर्ट पेश की. फालुन गोंग के अनुयायी चुपचाप उन प्रदर्शनकारियों के बीच बैठे थे. उनके ऊपर उनके विश्वासों के चलते जुल्म किया गया, उनकी प्रेक्टिस के चलते उनको देश से निकाल दिया गया और उनके शरीर के अंग निकाल लिए गए. फालुन गोंग के अनुयायी अभी भी अपनी वैधता के लिए लड़ रहे हैं, और घर लौटने का इंतजार कर रहे हैं.  

ये भी देखें-

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.