close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पंजाब में रिटायर्ड पुलिस और सेना के अधिकारियों को निशाना बनाने के लिए ISI का 'प्रोजेक्ट हार्वेस्टिंग कनाडा '

गृह मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तान की आईएसआई पंजाब में लगातार खालिस्तानी समर्थकों और उससे जुड़े आतंकियों को लगातार मदद करने में लगी है जिससे पंजाब में अशांति फैलाई जा सके.

पंजाब में रिटायर्ड पुलिस और सेना के अधिकारियों को निशाना बनाने के लिए ISI का  'प्रोजेक्ट हार्वेस्टिंग कनाडा '
फाइल फोटो

नई दिल्लीः खुफिया एजेंसियों ने गृह मंत्रालय को भेजे एक रिपोर्ट में कहा है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआईए ने पंजाब समेत देश भर में अहम पदों पर रहे  रिटायर्ड पुलिस अधिकारियों के साथ साथ  रिटायर्ड सैन्य अधिकारियों को निशाना बनाने की साजिश रची है और इसके लिए आईएसआई ने बेहद गोपनीय प्लान 'प्रोजेक्ट हारवेसटिंग कनाडा ' बनाया है . रिपोर्ट के मुताबिक इस काम को अजांम देने के लिए कनाडा में रहने वाले एक खालिस्तानी आतंकी को 'प्रोजेक्ट हारवेसटिंग कनाडा ' की जिम्मेदारी दी है . गृह मंत्रालय से जुड़े एक अधिकारी के मुताबिक खुफिया एजेंसियों की इस रिपोर्ट को काफी गंभीरता से लिया जा रहा है .

गृह मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तान की आईएसआई पंजाब में लगातार खालिस्तानी समर्थकों और उससे जुड़े आतंकियों को लगातार मदद करने में लगी है जिससे पंजाब में अशांति फैलाई जा सके. पहले भी ऐसे कई  इनपुट मिले हैं जिसके मुताबिक पंजाब समेत देश के दूसरे राज्यों में रह रहे पुलिस अधिकारियों को निशाना बनाने की साजिश रची गई थी . हमारी एजेंसियां ये पता करने की कोशिश में हैं कि 'प्रोजेक्ट हारवेसटिंग कनाडा '  के तहत अब तक कितने आतंकियों को आईएसआई ने इसमें शामिल किया है और इसका नेटवर्क कहां कहां है. 

पाकिस्तान की आईएसआई भारतीय सेना की छवि खराब करने के लिए भी  साजिश रच रही है. जानकारी के मुताबिक आईएसआई भारतीय सेना से जुड़े कई फर्जी डाक्यूमेंटस को भारत में सर्कुलेट कर रही है जिससे सेना को लेकर लोगों में गलत छवि बने . आईएसआई ने फर्जी डाक्यूमेंटस को अलग अलग ग्रुपों के जरिये भारतीय सोशल मीडिया पर वायरल करने में लगी हुई है. पिछले दिनों भारतीय  सेना के मिलिट्री इंटेलिजेंस से जुड़ा एक फेक लैटर सामने आया था जिसमें कहा गया था कि भारतीय सेना में जो सिख जवान है उन पर नज़र रखी जा रही है . 

यह भी पढ़ेंः पठानकोट रेलवे स्टेशन पर पड़ी ISI की ना'पाक' नजर, उड़ाने की है प्लानिंग: सूत्र

आईएसआई  इस काम के लिए अलगवादी गुट सिख फॉर जस्टिस की मदद ले रही है ,फर्जी लैटर सामने आने के बाद एक खास प्लानिंग के जरिये सिख फॉर जस्टिस ने पिछले दिनों सेना के खिलाफ दुनिया के कई देशो में प्रदशर्न किया था और भारतीय सेना को बदनाम करने की कोशिश की थी ,सेना ने बाद में इस रिपोर्ट को गलत  बताया था और सिख फॉर जस्टिस ने जिस मिलिट्री इंटेलिजेंस से जुड़े लैटर पर विरोध किया था उसे फर्जी बताया था .

रिपोर्ट के मुताबिक देश में रह रहे है सिख युवकों को भारत के खिलाफ भड़काने के लिए आईएसआई अलगवादी गुट  सिख फॉर जस्टिस (एसएफजे) की मदद ले रही है .हम आपको बता दे कि  सिख फॉर जस्टिस को आईएसआई फंडिंग कर रही है  जो इसके जरिये पूरी दुनिया में रह रहे सिख समुदाय से जुड़े लोगो को भारत के खिलाफ भड़काने  की साजिश में लगी हुई है .

देखा जाये तों आईएसआई की नज़र पाकिस्तान में करतारपुर साहिब  दर्शन के लिए जाने वाले भारतीयो पर भी नज़र है जो  सिख फॉर जस्टिस  गुट के मदद से भारत के खिलाफ गलत दुष्प्रचार करने की साजिश में लगी है .इस काम में तेज़ी लाने के लिए पिछले दिनों  आईएसआई ने लाहौर में सिख फॉर जस्टिस का दफ्तर खुलवाया है .आईएसआई ने हाफिज सईद की आतंकवादी संस्था जमात उद दावा और सिख फॉर जस्टिस के बीच बेहतर तालमेल के लिए कई राउंड की बैठक करवा चुकी है .

भारतीय एजेंसीज को शक है कि आईएसआई इन अलगवादी गुटों की मदद से पंजाब में एक बार फिर से आतंकी हमले करवाना चाहती है पाकिस्तान में अभी भी कई खालिस्तानी समर्थित आतंकी गुट मौजूद है और आईएसआई  सिख फॉर जस्टिस की मदद से सिख युवकों का ब्रेनवाश कर भारत के खिलाफ आतंकी हमलो के लिए इस्तेमाल करना चाहती है .आईएसआई और सिख फॉर जस्टिस की मदद से भारतीय सेना और भारत के बारे में सिख युवकों के बीच दुष्प्रचार की कोशिश में लगी है जिस तरह से एक के बाद एक फर्जी लैटर सोशल मीडिया पर जरी किये जा रहे है इससे जाहिर होता है की पाकिस्तान एक बार फिर से पंजाब को अस्थिर करने की पूरी कोशिश में लगा हुआ है .