EXCLUSIVE: भारतीय सेना के बंकरों को निशाना बनाने के लिए पाकिस्तान रच रहा साजि‍श, खरीदेगा GPS गाइडेड मोर्टार

अब पाक‍िस्‍तान भारत के खि‍लाफ बड़ी साज‍िश को अंजाम देने की फ‍िराक में लग गया है. पाकिस्तानी सेना दुनिया के कुछ देशों के पास मौजूद आधुनिक माने जाने वाले जीपीएस गाइडेड मोर्टार खरीदने की तैयारी में लगी है. इससे वह सीमा पर मौजूद हमारे जवानों को निशाना बना सके.

EXCLUSIVE: भारतीय सेना के बंकरों को निशाना बनाने के लिए पाकिस्तान रच रहा साजि‍श, खरीदेगा GPS गाइडेड मोर्टार
अमेर‍िका ऐसे मोर्टार का इस्‍तेमाल अफगान‍िस्‍तान में कर चुका है. प्रतीकात्‍मक फोटो

नई दि‍ल्‍ली : आपने अक्सर भारत पाकिस्तान सीमा पर दोनों देशों की सेनाओं की तरफ से इस्तेमाल होने वाले आम मोर्टार के बारे में सुना होगा. लेक‍िन अब पाक‍िस्‍तान भारत के खि‍लाफ बड़ी साज‍िश को अंजाम देने की फ‍िराक में लग गया है. पाकिस्तानी सेना दुनिया के कुछ देशों के पास मौजूद आधुनिक माने जाने वाले जीपीएस गाइडेड मोर्टार खरीदने की तैयारी में लगी है. इससे वह सीमा पर मौजूद हमारे जवानों को निशाना बना सके.

इन मोर्टार की सबसे खास बात ये है की जीपीएस की मदद से दुश्मन देश की सेनाओ पर अचूक निशाना लगाया जा सकता है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पाकिस्तानी सेना इन मोर्टार को खरीदने के लिए अपने दूतावास की मदद ले रही है. बता दें कि इन मोर्टार की टेक्नोलॉजी कुछ यूरोपियन देशों के साथ-साथ चीन के पास भी मौजूद है. हालाँकि चीनी मोर्टार के बारे में ज्यादा जानकारी उपलब्ध नहीं है.

जम्मू कश्मीर में तैनात ब्लैक कैट कमांडो कर रहे है आतंकियों के खिलाफ ऑपेरशन की तैयारी

रक्षा मंत्रालय से जुड़े एक अधिकारी के मुताबिक जीपीएस गाइडेड मोर्टार की सबसे खास बात ये होती है कि जीपीएस की मदद से दागे गए मोर्टार को टारगेट को हिट करने से पहले दिशा में परिवर्तन यानि कोर्स करेक्शन कराया जा सकता है. जिससे इन मोर्टार की मारक क्षमता बढ़ जाती है.  जानकारी के मुताबिक जीपीएस की मदद से  कम से कम टारगेट में ज्यादा रिजल्ट मिलता है.

कश्‍मीर में सेना ने एक साल में ढेर क‍िए 256 आतंकी, 9 से घटाकर 6 माह कर दी उम्र

देखा जाए तो दुनिया भर के देशों की सेनाएं अलग-अलग रेंज के मोर्टार का इस्तेमाल करती हैं. इन मोर्टार की रेंज 100 मीटर से लेकर करीब 5 किमी तक की होती है. जीपीएस गाइडेड मोर्टार का इस्तेमाल अमेरिकी सेना ने अफ़ग़ानिस्तान में तालिबनी आतंकियों के ठिकानों पर भी किया था. इन मोर्टार ने तालिबानी आतंकियों पर बेहद अचूक निशाने लगाये थे. ऐसे में काफी लम्बे वक़्त से इस्तेमाल हो रहे इन मोर्टार की टेक्नोलॉजी में लगातार बदलाव किया जा रहा है, जिससे वो पहले के मुकाबले अब ये और घातक हो चुके हैं.

कुछ जानकारो के मुताबिक मोर्टार ये भी पता लगा सकते है कि किस टारगेट पर हमला करना है और किस पर नहीं. पाकिस्तानी सेना के पास ऐसे मोर्टार मौजूद होने से वो इसका इस्तेमाल सीमा पर बने भारतीय सेना और बीएसफ के बंकर पर भी कर सकती है.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.