UNGA में भारत के खिलाफ जहर उगलते रहे इमरान खान, जानें उन्‍होंने क्‍या-क्‍या भड़काऊ बातें कही

Imran Khan : इमरान ने भाषण में चेतावनी देते हुए कहा कि भारत के जम्मू एवं कश्मीर में जब कर्फ्यू हटेगा, तब वहां खूनखराबा होगा.

UNGA में भारत के खिलाफ जहर उगलते रहे इमरान खान, जानें उन्‍होंने क्‍या-क्‍या भड़काऊ बातें कही

संयुक्त राष्ट्र : पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) में अपने भाषण में भारत (India) के खिलाफ जहर उगलते हुए भड़काऊ बातें कही. उन्‍होंने कश्मीर (Kashmir) मुद्दे पर अपना ध्यान केंद्रित करते हुए भारत पर निशाना साधा और अपने संबोधन में उन्हीं सब बातों को दोहराया, जो वह बीते कुछ सप्ताह से कर रहे थे. इमरान खान ने शीर्ष विश्व फॉरम को भी अपने संप्रदायिक दृष्टिकोण से नहीं बख्शा. उन्होंने खुले तौर पर अपनी बात रखने के लिए इस मंच का दुरुपयोग किया और बोलने की निर्धारित समयसीमा को भी लांघ दिया.

यूएन में अपने देश और इसकी समस्या को उठाने की बजाय वे भारत पर भी निशाना साधते रहे. इमरान खान ने भाषण में अपना ध्यान पूरी तरह से कश्मीर पर दिया.

इमरान खान ने आतंकवाद को सही ठहराया, भारत का UN में पाकिस्‍तान को जवाब

इमरान ने भाषण में चेतावनी देते हुए कहा कि भारत के जम्मू एवं कश्मीर में जब कर्फ्यू हटेगा, तब वहां खूनखराबा होगा. तब क्या होगा. क्या किसी ने इस बारे में सोचा है.

उन्होंने पांच अगस्त को जम्मू एवं कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को हटाए जाने का संदर्भ दिया. इमरान खान ने चेतावनी देते हुए कहा कि 'तब एक और पुलवामा होगा और तब भारत पाकिस्तान पर आरोप लगाएगा.' आपको बता दें कि जम्मू एवं कश्मीर में 14 फरवरी को पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मुहम्मद के ऑपरेटिव द्वारा किए आत्मघाती हमले में 40 भारतीय जवान शहीद हो गए थे.

इमरान खान ने कहा, "आरएसएस मुस्लिमों के जातीय सफाये पर विश्वास करता है और प्रधानमंत्री मोदी आरएसएस के नेता हैं."

 

'जिस शख्‍स ने कभी 'जेंटलमेन गेम' क्रिकेट खेला हो, उसका UN में भाषण नफरत से भरा था'

इमरान ने परमाणु युद्ध की धमकी देते हुए कहा, "मैं सोचता हूं कि मैं कश्मीर में होता और 55 दिनों से बंद होता, तो मैं भी बंदूक उठा लेता. आप ऐसा करके लोगों को कट्टर बना रहे हैं. मैं फिर कहना चाहता हूं कि यह बहुत मुश्किल समय है. इससे पहले कि परमाणु युद्ध हो, संयुक्त राष्ट्र की कुछ करने की जिम्मेदारी है. हम हर स्थिति के लिए तैयार हैं. अगर दो देशों के बीच युद्ध हुआ तो कुछ भी हो सकता है."

 

उन्होंने कहा, "कश्मीर में लोगों को क्यों बंद कर दिया गया है. वे इंसान हैं. कर्फ्यू उठ जाएगा तो क्या होगा. तब मोदी क्या करेंगे. उन्हें लगता है कि कश्मीर के लोग इस स्थिति को स्वीकार कर लेंगे? कर्फ्यू उठने के बाद कश्मीर में खून की नदियां बहेंगी, लोग बाहर आएंगे. क्या पीएम मोदी ने सोचा कि तब क्या होगा?"