close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

PM मोदी की महिला सांसदों के साथ नाश्‍ते पर मुलाकात, कल युवा सांसदों से मिले थे

लोकसभा चुनावों के बाद बीजेपी ने नवनिर्वाचित सांसदों के साथ प्रधानमंत्री की बैठकों का कार्यक्रम बनाया है. इस कड़ी में पीएम मोदी की यह पांचवीं मीटिंग है.

PM मोदी की महिला सांसदों के साथ नाश्‍ते पर मुलाकात, कल युवा सांसदों से मिले थे

नई दिल्‍ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पार्टी की महिला सांसदों के साथ अपने आधिकारिक आवास पर नाश्‍ते पर मुलाकात करेंगे. लोकसभा चुनावों के बाद बीजेपी ने नवनिर्वाचित सांसदों के साथ प्रधानमंत्री की बैठकों का कार्यक्रम बनाया है. इस कड़ी में पीएम मोदी की यह पांचवीं मीटिंग है. इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को युवा सांसदों से अपने घर पर नाश्ते पर मुलाकात की. सभी युवा सांसदों का विस्‍तृत रूप से परिचय हुआ.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने युवा सांसदों से पूछा था कि राजनीति के अलावा आप क्या-क्या काम करते हैं? इसके अलावा बाकी कामों में क्या रुचि है? प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि समाज में लोगों के सामने राजनीति के अलावा जो काम आप करते हैं, समाज में वह उभर कर सामने आना चाहिए. लोगों को उनकी जानकारी होनी चाहिए. लोग खांटी राजनीति के अलावा दूसरे कामों को ज्यादा पसंद करते हैं इसलिए उन पर भी ध्यान दिया जाना चाहिए.

जब PM मोदी ने युवा सांसदों से पूछा, आप राजनीति के अलावा क्‍या काम करते हैं?

इसी तरह पिछले दिनों लोकसभा चुनाव में शानदार जीत के बाद बीजेपी संसदीय दल की बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने '2 अक्टूबर (गांधी जयंती) से लेकर  31 अक्टूबर (सरदार पटेल जयंती) तक सभी सांसदों को अपने-अपने क्षेत्र में 150 किलोमीटर पदयात्रा निकालने का निर्देश दिया. सांसद को हर रोज 15 किलोमीटर की पदयात्रा करनी है.'

इसके लिए अलग-अलग ग्रुप बनेंगे और सांसद एक दिन एक ग्रुप के साथ पदयात्रा करेंगे. इसमें बीजेपी विधायक, कार्यकर्ता सभी शामिल होंगे. रोज 15 किमी की पदयात्रा करेंगे और सभी बूथ कवर करेंगे. राज्यसभा सांसदों को भी संसदीय क्षेत्र अलॉट होगा. पदयात्रा के माध्यम से गांधी जी के विचारों , शिक्षाओं का प्रचार करेंगे और वृक्षारोपण करेंगे. पीएम मोदी ने कहा कि संकल्प यात्रा में जो भी कहा गया था, वह भविष्य की हमारी दृष्टि में परिलक्षित होना चाहिए.