close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सावन में इसलिए मनाई जाती है हरियाली तीज, जानें क्या है व्रत कथा

तीज पर्व पार्वती को समर्पित है. ऐसा कहा जाता है कि अगर किसी लड़की के विवाह में अड़चन आ रही है, तो इस दिन व्रत तथा पूजा अर्चना करनी चाहिए.

सावन में इसलिए मनाई जाती है हरियाली तीज, जानें क्या है व्रत कथा
हरियाली तीज का त्यौहार हर साल सावन महीने के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को आता है.

नई दिल्ली: सावन का महीना अपने साथ कई त्यौहार भी लेकर आता है. जहां भोले के भक्त इन माह में भक्ति में डूबे रहते हैं, वहीं, इस मास में लड़कियों और महिलाओं के व्रत और त्यौहार आते हैं. सुहागनों के बीच हरियाली तीज का अपना ही महत्व है. राजस्थान, हरियाणा, बिहार और उत्तर भारत के कई हिस्सों में इस त्यौहार को बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है. 

कब मनाया जाता है त्यौहार
हरियाली तीज का त्यौहार हर साल सावन महीने के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को आता है. यह पर्व सावन के महीने में आता है क्योंकि सावन में हर ओर हरियाली छाई होती है. इसलिए इस त्यौहार को हरियाली तीज के नाम से जाना जाता है.

हरियाली तीज 2018: पहली बार रख रही हैं तीज माता का व्रत, तो याद रखें ये 5 बातें

इसलिए मनाया जाता है ये पर्व
मान्यता है इसी दिन मां पार्वती ने भगवान शिव को कठिन तपस्या के बाद पाया था. पार्वती के तप से प्रसन्‍न होकर शिव ने उन्‍हें पत्‍नी के रूप में स्‍वीकार कर लिया. तीज पर्व पार्वती को समर्पित है. ऐसा कहा जाता है कि अगर किसी लड़की के विवाह में अड़चन आ रही है, तो इस दिन व्रत तथा पूजा अर्चना करनी चाहिए. वहीं, जिन महिलाओं को विवाह हो चुका है, उन्हें शिव और पार्वती दोनों की उपासना करनी चाहिए.  

लाइव टीवी देखें

 

हरियाली तीज की व्रत कथा
एकबार की बात है माता पार्वती अपने पुराने जन्म के बारे में याद करने में असमर्थ थीं तब शिवजी उनसे कहते हैं- शिवजी कहते हैं, 'हे पार्वती! बहुत समय पहले तुमने हिमालय पर मुझे वर के रूप में पाने के लिए घोर तप किया था. इस दौरान तुमने अन्न-जल त्याग कर सूखे पत्ते चबाकर दिन व्यतीत किया था. मौसम की परवाह किए बिना तुमने निरंतर तप किया. तुम्हारी इस स्थिति को देखकर तुम्हारे पिता बहुत दुःखी और नाराज़ थे. ऐसी स्थिति में नारदजी तुम्हारे घर पधारे.

जब तुम्हारे पिता ने उनसे आगमन का कारण पूछा तो नारदजी बोले- 'हे गिरिराज! मैं भगवान् विष्णु के भेजने पर यहां आया हूं. आपकी कन्या की घोर तपस्या से प्रसन्न होकर वह उससे विवाह करना चाहते हैं. इस बारे में मैं आपकी राय जानना चाहता हूं.' नारदजी की बात सुनकर पर्वतराज अति प्रसन्नता के साथ बोले- हे नारदजी! यदि स्वयं भगवान विष्णु मेरी कन्या से विवाह करना चाहते हैं तो इससे बड़ी कोई बात नहीं हो सकती. मैं इस विवाह के लिए तैयार हूं.'

शिवजी पार्वती जी से कहते हैं, 'तुम्हारे पिता की स्वीकृति पाकर नारदजी, विष्णुजी के पास गए और यह शुभ समाचार सुनाया. लेकिन जब तुम्हें इस विवाह के बारे में पता चला तो तुम्हें बहुत दुख हुआ. तुम मुझे यानी कैलाशपति शिव को मन से अपना पति मान चुकी थी.

तुमने अपने व्याकुल मन की बात अपनी सहेली को बताई. तुम्हारी सहेली ने सुझाव दिया कि वह तुम्हें एक घनघोर वन में ले जाकर छुपा देगी और वहां रहकर तुम शिवजी को प्राप्त करने की साधना करना. इसके बाद तुम्हारे पिता तुम्हें घर में न पाकर बड़े चिंतित और दुःखी हुए. वह सोचने लगे कि यदि विष्णुजी बारात लेकर आ गए और तुम घर पर ना मिली तो क्या होगा? उन्होंने तुम्हारी खोज में धरती-पाताल एक करवा दिए लेकिन तुम ना मिली.

तुम वन में एक गुफा के भीतर मेरी आराधना में लीन थी. श्रावण तृतीय शुक्ल को तुमने रेत से एक शिवलिंग का निर्माण कर मेरी आराधना कि जिससे प्रसन्न होकर मैंने तुम्हारी मनोकामना पूर्ण की. इसके बाद तुमने अपने पिता से कहा, 'पिताजी! मैंने अपने जीवन का लंबा समय भगवान शिव की तपस्या में बिताया है और भगवान शिव ने मेरी तपस्या से प्रसन्न होकर मुझे स्वीकार भी कर लिया है. अब मैं आपके साथ एक ही शर्त पर चलूंगी कि आप मेरा विवाह भगवान शिव के साथ ही करेंगे.' पर्वत राज ने तुम्हारी इच्छा स्वीकार कर ली और तुम्हें घर वापस ले गए. कुछ समय बाद उन्होंने पूरे विधि-विधान के साथ हमारा विवाह किया.'

भगवान् शिव ने इसके बाद बताया, 'हे पार्वती! श्रावण शुक्ल तृतीया को तुमने मेरी आराधना करके जो व्रत किया था, उसी के परिणाम स्वरूप हम दोनों का विवाह संभव हो सका. इस व्रत का महत्‍व यह है कि मैं इस व्रत को पूर्ण निष्ठा से करने वाली प्रत्येक स्त्री को मन वांछित फल देता हूं.' भगवान शिव ने पार्वती जी से कहा कि इस व्रत को जो भी स्त्री पूर्ण श्रद्धा से करेंगी उसे तुम्हारी तरह अचल सुहाग प्राप्त होगा.