Grahan 2020: अगले माह लगने वाले हैं दो ग्रहण, जानिए तारीख और सूतक काल

आने वाले दो महीनों में तीन ग्रहण लगेंगे. इसमें जून महीने में सूर्य और चंद्र ग्रहण दोनों हैं, वहीं जुलाई में एक चंद्र ग्रहण होगा. इस तरह कुल मिलाकर जून और जुलाई में तीन बड़े ग्रहण लग रहे हैं.

Grahan 2020: अगले माह लगने वाले हैं दो ग्रहण, जानिए तारीख और सूतक काल

नई दिल्‍ली: आने वाले दो महीनों में तीन ग्रहण लगेंगे. इसमें जून महीने में सूर्य और चंद्र ग्रहण दोनों हैं, वहीं जुलाई में एक चंद्र ग्रहण होगा. इस तरह कुल मिलाकर जून और जुलाई में तीन बड़े ग्रहण लग रहे हैं. इसमें पहला चंद्र ग्रहण 5 जून को लगेगा लगेगा और उसके बाद 21 जून को सूर्य ग्रहण है. वहीं इसके बाद पांच जुलाई को फिर से चंद्र ग्रहण लगेगा. बता दें कि इससे पहले 10 जनवरी को साल का पहला ग्रहण लग चुका है. 

इस साल कुल 5 ग्रहण लगने वाले है. जून में लगने वाले दोनों ही ग्रहण भारत में दिखाई देंगे. जबकि जुलाई वाला ग्रहण अमेरिका, दक्षिण पूर्व यूरोप और अफ्रीका में दिखाई देगा. वहीं 21 जून को लगने वाला सूर्य ग्रहण भारत, दक्षिण पूर्व यूरोप और एशिया में दिखाई देगा.

ये होंगे तीनों ग्रहण के समय 
5 जून को लगने वाला चंद्र गहण 3 घंटे 18 मिनट का होगा. यह एक पेनुमब्रल चंद्र ग्रहण होगा जिसमें आमतौर पर एक पूर्ण चंद्रमा से अंतर करना मुश्किल होता है. यह चंद्र ग्रहण 5 जून को रात 11:15 बजे से शुरू होगा. रात 12:54 बजे इसका सबसे ज्यादा असर दिखाई देगा और 6 जून 02:34 बजे समाप्त हो जाएगा. वहीं 21 जून के सूर्यग्रहण का आंशिक ग्रहण सुबह 9:15 पर शुरू होगा. 12:10 पर अधिकतम ग्रहण और दोपहर 3:04 बजे आंशिक ग्रहण समाप्‍त होगा. 5 जुलाई को चंद्र ग्रहण सुबह 08:38 बजे से 11:21 बजे तक रहेगा. 

ज्योतिषियों की ही ग्रहण पर नजर 
इस साल के सूर्य ग्रहण पर सबसे ज्‍यादा ज्योतिषियों की नजर है, क्योंकि यह ग्रहण मिथुन राशि में लगेगा. 21 जून को लगने वाले ग्रहण का सूतक काल 12 घंटे पहले ही लग जाएगा. इस साल पड़ने वाले ग्रहण बहुत महत्वपूर्ण माने जा रहे हैं. ज्योतिषियों के अनुसार इन ग्रहण से मिथुन राशि के जातकों पर विशेष प्रभाव पड़ेगा.

ग्रहण के दौरान इन बातों का रखें ध्‍यान
ग्रहण काल के दौरान खाना-पीना नहीं चाहिए. इस समय कोई भी शुभ कार्य, यहां तक की भगवान की सामान्‍य पूजा-आरती भी नहीं करना चाहिए. मंदिर या घर में बने मंदिर में भी भगवान के पट बंद करने की बात शास्‍त्रों में कही जाती है. सूतक लगने के बाद से ही गर्भवती महिलाओं को घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए, क्योंकि ग्रहण काल के दौरान नकारात्मक शक्तियां प्रबल होती हैं, जिसका असर गर्भ में पल रहे बच्चे पर पड़ सकता है. ग्रहण खत्म होने के बाद स्नान करने की भी मान्यता है. ग्रहण काल की सूतक से पहले ही खाने की सभी चीजों में तुलसी के पत्ते रख देना चाहिए.

ये भी देंखे: