Bhog: मनपसंद भोग लगाने से जल्‍दी प्रसन्‍न होते हैं देवी-देवता, जानिए किस भगवान को क्‍या चढ़ाएं

बिना भोग (Bhog) के भगवान (God) की पूजा अधूरी होती है, फिर चाहे वह भोग गुड़ की छोटी सी डली का हो या 56 प्रकार के व्‍यंजनों का. कहते हैं कि भगवान तो भक्ति-भाव से चढ़ाई गई छोटी सी चीज को भी स्‍वीकार कर लेते हैं लेकिन भगवान को उनका प्रिय भोग (God's favorite Bhog) चढ़ाना अच्‍छा होता है. धर्म-पुराणों में सभी देवी-देवताओं (God-Goddess) के प्रिय भोग के बारे में बताया गया है. आज जानते हैं कि किस देवी-देवता को प्रसन्‍न करने के लिए कौन सा भोग उन्‍हें अर्पित करना चाहिए. 

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Sep 15, 2021, 08:28 AM IST
1/6

गणपति बप्‍पा

Bhog for Lord Ganpati

भगवान गणेश को मोदक और लड्डू बहुत प्रिय हैं. उन्‍हें मोतीचूर या बेसन के लड्डू चढ़ाए जाते हैं, वहीं कई तरह के मोदक भी उन्‍हें अर्पित किए जाते हैं.  

2/6

भगवान शिव

Bhog for Lord Shiva

भगवान शिव को पंचामृत बहुत प्रिय है. यह दूध, दही, घी, शक्‍कर, शहद से मिलकर बनता है. इसके अलावा उन्‍हें भांग भी बहुत पसंद है. 

3/6

भगवान विष्णु

Bhog for Lord Vishnu

श्री हरि यानी कि भगवान विष्णु को पूजा में खीर या सूजी के हलवे का भोग लगाना चाहिए. याद रखें कि उनके भोग को प्रसाद के रूप में बांटते समय उसमें तुलसी जरूर मिलाएं. ऐसा करने से भगवान सारी मनोकामनाएं पूरी करते हैं. 

 

4/6

देवी दुर्गा

Bhog for Devi Durga

शक्ति की प्रतीक मां दुर्गा को पूजा में सफेद मिठाइयां चढ़ाना चाहिए. खासतौर पर दूध से बने भोग उन्‍हें बहुत प्रिय हैं, जैसे- खीर, नारियल-मावे की बर्फी, मालपुए, सूजी का हलवा आदि. 

5/6

देवी सरस्वती

Bhog for Devi Saraswati

ज्ञान की देवी सरस्वती को भी भोग में सफेद चीजें चढ़ाना चाहिए. जैसे- पंचामृत, दूध-दही, मक्खन, सफेद तिल के लड्डू. वसंत पंचमी की पूजा में देवी सरस्‍वती को धान का भोग खासतौर पर लगाया जाता है. 

6/6

हनुमान जी

Bhog for Lord Hanuman

हनुमानजी की कृपा पाने के लिए उन्‍हें चोला चढ़ाना सबसे अच्‍छा होता है. इसके साथ ही उन्‍हें भोग में मोतिचूर और बेसन के लड्डू प्रिय हैं. इसके अलावा उन्‍हें हलवा, पंच मेवा, गुड़ से बने लड्डू, मीठा पान चढ़ाने से वे जल्‍दी प्रसन्‍न होते हैं. 

(नोट: इस लेख में दी गई सूचनाएं सामान्य जानकारी और मान्यताओं पर आधारित हैं. Zee News इनकी पुष्टि नहीं करता है.)