Bearded Dragon: Temperature बढ़ने पर बदल जाता है इस जीव का लिंग, जानिए कैसे

Dragon Lizard: धरती पर एक ऐसा प्राणी भी है, जिसका लिंग परिवर्तन क्लाइमेट चेंज होने की वजह से हो जाता है. इन जीवों में तापमान बढ़ने की वजह से मादा (Female) की संख्या लगातार बढ़ रही है. 

Bearded Dragon: Temperature बढ़ने पर बदल जाता है इस जीव का लिंग, जानिए कैसे
बियर्डेड ड्रैगन | फोटो साभार: रॉयटर्स

कैनबरा: किसी जीव का लिंग निर्धारण (Gender Determination) उसके पैदा होने से पहले मां के भ्रूण (Embryo) या अंडे (Egg) में होता है. लेकिन धरती पर एक ऐसा प्राणी भी है, जिसका लिंग परिवर्तन क्लाइमेट चेंज होने की वजह से हो जाता है. इन जीवों में तापमान बढ़ने की वजह से मादा (Female) की संख्या लगातार बढ़ रही है. ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि तापमान ज्यादा होने पर अंडे से मादा ही निकल रही है. गर्मी ज्यादा होने पर अंडे के अंदर जीव का लिंग परिवर्तन हो रहा है.

 प्राकृतिक रूप से बदलाव

बता दें कि यह जीव एक छिपकली है. जिसे फ्रांस के वैज्ञानिकों ने साल 1960 में वेस्ट अफ्रीका के सेनेगल जंगल में खोजा था. इस छिपकली के चेहरे पर त्वचा (Skin) की ऐसी बनावट होती है, जो दाढ़ी जैसी दिखती है. इसलिए इस छिपकली को बियर्डेड ड्रैगन (Bearded Dragon) कहा जाता है. अगर बियर्डेड ड्रैगन के अंडे 30 डिग्री सेल्सियस के तापमान के संपर्क में आते हैं तो उनमें प्राकृतिक रूप से बदलाव होता है. मतलब अंडे में अगर नर भ्रूण (Male Embryo) है तो वह मादा में बदल जाता है.

ये भी पढ़ें- मिशन मंगल! नासा ने रचा इतिहास, पहली बार दूसरे ग्रह पर हेलीकाप्टर ने भरी उड़ान

मादा के पैदा होने के 2 तरीके

गौरतलब है कि कुछ मछलियों के अंडों (Fish's Eggs) के साथ भी ऐसा होता है. बियर्डेड ड्रैगन के नर में 2 एक जैसे क्रोमोसोम्स (Chromosomes) ZZ होते हैं. वहीं मादा में ZW क्रोमोसोम्स होते हैं. अगर अंडों की हैचिंग के वक्त वे ज्यादा तापमान के संपर्क आए तो अंडे से मादा के बाहर आने के चांस बढ़ जाते हैं. इसका मतलब है कि बियर्डेड ड्रैगन में मादा के पैदा होने के 2 तरीके हैं.

मादा के पैदा होने का तरीका प्राकृतिक

बियर्डेड ड्रैगन की मादा के पैदा होने का पहला तरीका प्राकृतिक है. जब अंडे से सीधे मादा जन्म लेती है. गर्मी के कारण नर भ्रूण (Male Embryo) का मादा में बदल जाना दूसरा तरीका है. इस प्रक्रिया में नर भ्रूण के जीन्स महिला के जीन्स में बदल जाते हैं. वैज्ञानिक भी लगभग आधी सदी तक इस पहेली को नहीं सुलझा पाए थे.

ये भी पढ़ें- सावधान! यहां हो रही है प्लास्टिक की बारिश, घरों में कैद होने को मजबूर हुए लोग

ये भी देखें-

बियर्डेड ड्रैगन की जेनेटिक सिक्वेंसिंग

इसकी जांच करने के लिए ऑस्ट्रेलिया (Australia) की कैनबरा यूनिवर्सिटी (Canberra University) की जेनेटिक साइंटिस्ट (Genetic Scientist) सारा व्हाइटली ने अपनी टीम के साथ मिलकर एक प्रयोग किया. उन्होंने बियर्डेड ड्रैगन की जेनेटिक सिक्वेंसिंग (Genetic Sequencing) की. एक सिक्वेंसिंग (Sequencing) को 28 डिग्री सेल्सियस तापमान में किया गया. जिससे नर क्रोमोसोम्स ZZ प्राकृतिक तरीके से विकसित हो पाएं. वहीं ZZ क्रोमोसोम्स की दूसरी सिक्वेंसिंग (Sequencing) 36 डिग्री सेल्सियस तापमान पर की गई.

सारा और उनकी टीम ने पाया कि गर्मी के कारण नर भ्रूण मादा में बदल गया. उन्होंने ये देखा कि सामान्य रूप से विकसित हुई मादा और नर भ्रूण से बनी मादा छिपकली के सक्रिय जीन्स (Active Genes) में अंतर था.

विज्ञान से जुड़ी अन्य पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

LIVE TV

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.