Microplastic: US में हो रही प्लास्टिक की बारिश, आसमान में अब भी छाई माइक्रो प्लास्टिक

Raining Plastic in US: अमेरिका में प्लास्टिक की बारिश हो रही है. हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि वहां आसमान में चारों तरफ 1,100 टन माइक्रो प्लास्टिक दिख रही है. माइक्रो प्लास्टिक की समस्या दिन पर दिन बढ़ती जा रही है.

Microplastic: US में हो रही प्लास्टिक की बारिश, आसमान में अब भी छाई माइक्रो प्लास्टिक
अमेरिका में प्लास्टिक की बारिश | फोटो साभार: रॉयटर्स

वाशिंगटन: अमेरिका (America) में प्लास्टिक की बारिश हो रही है. हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि वहां आसमान में चारों तरफ 1,100 टन माइक्रो प्लास्टिक दिख रही है. माइक्रो प्लास्टिक की समस्या दिन पर दिन बढ़ती जा रही है. माइक्रो प्लास्टिक (Micro Plastic) पहले कुछ जानवरों के शरीर में पाई गई लेकिन हाल ही में इसे इंसानों में भी पाया गया.

84 फीसदी माइक्रो प्लास्टिक एयरबॉर्न

नेशनल एकेडमी ऑफ साइंस (National Acadmy Of science) की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, 84 फीसदी माइक्रो प्लास्टिक एयरबॉर्न है, जो वेस्टर्न अमेरिका के प्रमुख शहरों में सड़कों के आसपास से उड़कर आसमान में छा गई है. रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि 11 प्रतिशत माइक्रो प्लास्टिक हवा के जरिए समुद्र की तरफ से आई है.

ये भी पढ़ें- नासा का हेलीकॉप्टर Ingenuity हुआ पूरी तरह तैयार, इस दिन भरेगा मंगल ग्रह पर ऐतिहासिक उड़ान

बैग और बोतल से बनी प्लास्टिक 

जान लें कि ये माइक्रो प्लास्टिक जो अमेरिका में आसमान में छाई हुई है उसकी लंबाई 5 मिलीमीटर से भी कम है. ये प्लास्टिक बैग और बोतल से बनी है, जो इंसानों ने नदी, समुद्र या पानी के अन्य स्त्रोत में फेंक दिए थे. प्लास्टिक बैग और बोतल अब बहुत छोटे-छोटे पार्टिकल में टूट गई है.

नष्ट नहीं होती है प्लास्टिक

एक स्टडी के अनुसार, वॉशिंग पाउडर भी माइक्रो प्लास्टिक का एक सोर्स है. सिंथेटिक कपड़े वॉशिंग पाउडर से धोने के बाद माइक्रोफाइबर्स पानी में मिल जाते हैं. बता दें कि प्लास्टिक कभी भी पूरी तरह से नष्ट नहीं होती है. प्लास्टिक समुद्र में जाकर छोटे-छोटे टुकड़ो में टूट जाती है. इसी वजह से समुद्र में माइक्रोप्लास्टिक की मात्रा लगातार बढ़ती जा रही है.

ये भी पढ़ें - Doggy पेशाब सूंघकर बताएगा आपको Corona है या नहीं, स्टडी में एकदम नया दावा

मानव जीवन के लिए भी खतरा

माइक्रोप्लास्टिक समुद्री जीव के लिए खतरनाक है और अगर बड़ी मात्रा में शरीर में जाए तो यह मानव जीवन के लिए भी खतरा पैदा कर सकता है. प्लास्टिक को महासागरों में प्रदुषण का प्रमुख कारण माना जाता है, और पिछले कुछ दशकों में महासागरों में प्लास्टिक कचरे के भरमार मिले हैं.

(साभार- WION)

विज्ञान से जुड़ी अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

LIVE TV

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.