टीशर्ट और लड्डू का लालच भी नहीं लुभा पाया दर्शकों को

भारत का 500वां टेस्ट मैच, सचिन तेंदुलकर सहित कई पूर्व कप्तानों की उपस्थिति और दो मजबूत टीमों के बीच की संभावित रोमांचक जंग के साथ आयोजकों का मुफ्ट टीशर्ट और लड्डू देने का लालच भी क्रिकेट प्रेमियों को भारत और न्यूजीलैंड के बीच यहां खेले जा रहे पहले टेस्ट क्रिकेट मैच के शुरूआती दिन ग्रीन पार्क स्टेडियम में नहीं खींच पाया। 

कानपुर : भारत का 500वां टेस्ट मैच, सचिन तेंदुलकर सहित कई पूर्व कप्तानों की उपस्थिति और दो मजबूत टीमों के बीच की संभावित रोमांचक जंग के साथ आयोजकों का मुफ्ट टीशर्ट और लड्डू देने का लालच भी क्रिकेट प्रेमियों को भारत और न्यूजीलैंड के बीच यहां खेले जा रहे पहले टेस्ट क्रिकेट मैच के शुरूआती दिन ग्रीन पार्क स्टेडियम में नहीं खींच पाया। 

भारत और न्यूजीलैंड की टीमें सुबह 8.30 बजे स्टेडियम में पहुंच गयी थी लेकिन तब चंद दर्शक ही उनका अभिवादन करने के लिए स्टेडियम में मौजूद थे। भारत के टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने के फैसले से दर्शकों की संख्या में कुछ इजाफा हुआ लेकिन तेज धूप और भारतीय कप्तान विराट कोहली के जल्दी आउट होने से वह भी नदारद हो गये। 

ग्रीन पार्क की क्षमता 26 हजार दर्शकों की है और जब कोहली पर क्रीज पर उतरे तब लगभग स्टेडियम का 30 प्रतिशत हिस्सा भरा था। भारतीय टेस्ट कप्तान के प्रति दर्शकों ने विशेष लगाव दिखाया। चेतेश्वर पुजारा के आउट होने के बाद दर्शक मायूस नहीं हुए क्योंकि कोहली ने क्रीज पर कदम रखा लेकिन वह जल्दी आउट हो गये। इसके बाद दर्शक भी स्टेडियम से कूच करने लगे। जो दर्शक मौजूद थे उनमें स्कूली बच्चे अधिक थे जिन्हें मुफ्त में प्रवेश दिया गया था। 

उत्तर प्रदेश क्रिकेट संघ (यूपीसीए) का मुफ्त में लड्डू और 500वें टेस्ट मैच की यादगार टीशर्ट देने का लालच भी क्रिकेट प्रेमियों को स्टेडियम में नहीं खींच पाया। पुलिस प्रशासन ने भी टिकट और पास की जांच करने में थोड़ी ढील बरती। एक टिकट पर पूरे परिवार को प्रवेश करते हुए भी देखा गया। सुरक्षा कड़ी थी और इसलिए पुलिसकर्मी अधिक दिखायी दिये। ग्रीन पार्क की वीआईपी रोड हमेशा रात से ही पुलिस द्वारा बैरिकेडिंग लगाकर बंद कर दी जाती है लेकिन मैच के पहले और मैच के दौरान यह सामान्य दिनों की तरह वाहनो के लिये खुली रही। 

यूपीसीए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ललित खन्ना ने सुबह उम्मीद जतायी थी कि खेल आगे बढ़ने के साथ दर्शकों की संख्या में बढ़ोतरी होगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ। जिन स्कूली छात्र छात्राओं को यूपीसीए ने लड्डू और टीशर्ट दिये वे भी लंच के बाद स्टेडियम से जाने लगे थे। ग्रीन पार्क के बाहर झंडे और टीशर्ट बेचने वाले वेंडर भी दर्शकों में उत्साह की कमी के कारण बिक्री न होने से निराश दिखे। ऐसे ही एक वेंडर अमित ने बताया कि वह सुबह चार बजे से स्टेडियम के बाहर खड़े हैं अभी तक दो टीशर्ट ही बिकी हैं। यहां तक कि भारत के झंडे और कलाई के बैंड लेने वाले भी बस कुछ ही दर्शक हैं। 

ग्रीन पार्क के गेट नंबर 8 पर खड़े एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि अधिकारियों का आदेश है कि स्टेडियम में आने वाले दर्शकों के साथ ज्यादा सख्ती न बरती जाये। बस उन्हें सुरक्षा जांच के बाद स्टेडियम के अंदर आने दिया जाये। इसलिये वह भी टिकटों की अधिक जांच नहीं कर रहे थे। बस सुरक्षा जांच के बाद लोगो को अंदर जाने दे रहे थे।