close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

खेल पंचाट ने आईएएएफ की विवादित नीति पर लगा निलंबन बढ़ाया, दुति चंद को होगा फायदा

जुलाई 2015 में खेल पंचाट ने अंतिम फैसले में आईएएएफ की इस नीति को निलंबित कर दिया था. 

खेल पंचाट ने आईएएएफ की विवादित नीति पर लगा निलंबन बढ़ाया, दुति चंद को होगा फायदा
दुती चंद ने हाइपरएंड्रोजेनिस्म नियम को चुनौती दी थी (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: खेल पंचाट ने 19 जनवरी अंतरराष्ट्रीय एथलेटिक्स महासंघ की विवादास्पद नीति पर लगे निलंबन को बढ़ाने का फैसला किया है, जिसमें पुरूष हारमोन की अधिकता वाली महिला एथलीट को टूर्नामेंट में भाग लेने से रोक दिया जाता है, इससे धाविका दुती चंद को काफी राहत मिली. इस आदेश से दुती चंद का आगामी राष्ट्रमंडल खेलों में भाग लेने का रास्ता खुला रहेगा, बशर्ते वह भारतीय एथलेटिक्स महासंघ के कठिन क्वालीफाइंग मानक को पार कर ले. दुती चंद को 2014 राष्ट्रमंडल खेलों में भाग लेने से रोक दिया गया था, उन्होंने इस हाइपरएंड्रोजेनिस्म नियम को चुनौती दी थी और जुलाई 2015 में खेल पंचाट ने अंतिम फैसले में आईएएएफ की इस नीति को निलंबित कर दिया था. 

आईएएएफ से इस नियम के समर्थन में सबूत पेश करने को कहा था और खेल पंचाट ने कहा था कि अगर वह ऐसा करने में विफल् होता है तो इस नियम को अवैद्य घोषित कर दिया जायेगा.

यह भी पढ़ें: VIDEO: पिता का सपना पूरा करने आया क्रिकेटर मचा रहा है अंडर-19 में धूम

पिछले साल सितंबर में आईएएएफ ने खेल पंचाट के समक्ष सबूत पेश किये जिसमें विशेषज्ञ रिपोर्ट और कानूनी प्रस्तुतियां भी शामिल थीं. लेकिन इस दस्तावेज में संशोधित नियमों का ड्राफ्ट शामिल था जो महिलाओं की 400 मीटर से एक मील तक की ट्रैक स्पर्धा पर ही लागू होता था.

इसके जवाब में दुती चंद ने पिछले साल अक्तूबर में खेल पंचाट के समक्ष पेश किया कि इन सबूतों में साफ पता चलता है कि उसने ये प्रस्तावित संशोधित नियम के समर्थन में पेश किये हैं, मौजूदा हाइपरएंड्रोजेनिस्म नियम के लिये नहीं इसलिये इन नियमों को अवैद्य घोषित किया जाना चाहिए.

यह भी पढ़ें: विवादों में घिरे विराट कोहली, टीम इंडिया को मिला 'टर्बनेटर' भज्जी का साथ

उन्होंने यह भी कहा कि वह भविष्य में 400 मीटर या एक मील की रेस में भाग नहीं लेंगी और उनकी ऐसा करने की कोई इच्छा नहीं है तो उन पर इस प्रस्तावित संशोधित नियम से कोई असर नहीं पड़ेगा.