World Cup 2019: विश्व कप जीत चुके इस कप्तान ने कहा- हमारी टीम के खिलाड़ी आपस में लड़ रहे हैं...

1996 में अपनी टीम को विश्व चैंपियन बनाने वाले कप्तान ने कहा, अनुशासनहीनता के कारण आगामी विश्व कप में उनकी टीम का प्रदर्शन निराशाजनक रहेगा.

World Cup 2019: विश्व कप जीत चुके इस कप्तान ने कहा- हमारी टीम के खिलाड़ी आपस में लड़ रहे हैं...
55 साल के अर्जुन रणतुंगा फिलहाल श्रीलंका के परिवहन मंत्री हैं. (फाइल फोटो)

कोलंबो: श्रीलंका को 1996 में विश्व चैंपियन बनाने वाले अर्जुन रणतुंगा का मानना है कि उनके देश की टीम अगले विश्व कप (ICC World Cup 2019) में पहला राउंड भी पार नहीं कर पाएगी. रणतुंगा ने इसकी वजह भी बताई कि उन्हें ऐसा क्यों लगता है. इस दिग्गज क्रिकेटर ने शुक्रवार को कहा कि देश के क्रिकेट बोर्ड में फैले भ्रष्टाचार और खिलाड़ियों में अनुशासनहीनता इसकी सबसे बड़ी वजह होने जा रही है, जिसके कारण आगामी विश्व कप (World Cup 2019) में टीम का प्रदर्शन निराशाजनक रहेगा. अगला विश्व कप 30 मई से इंग्लैंड में होना है. 

श्रीलंका ने अर्जुन रणतुंगा (Arjuna Ranatunga) की कप्तानी में ही 1996 विश्व कप का खिताब जीता था. श्रीलंका की टीम इसके अलावा 2007 और 2011 के विश्व कप फाइनल में भी पहुंच चुकी है. साल 1996 में श्रीलंका ने फाइनल में ऑस्ट्रेलिया को हराया था. जबकि, 2007 में वह खिताबी मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया और 2011 में भारत से हार गया था. 

यह भी पढ़ें: World Cup 2019: ऑस्ट्रेलिया ने दिए संकेत, वह इस बार वर्ल्ड कप नहीं जीत सकता

हमारे खिलाड़ियों का मनोबल टूटा हुआ है
अर्जुन रणतुंगा श्रीलंका की मौजूदा सरकार में परिवहन मंत्री हैं. 55 साल के इस पूर्व खिलाड़ी ने कहा, ‘क्रिकेट बोर्ड में भ्रष्टाचार व्याप्त है. खिलाड़ियों का मनोबल टूटा हुआ है. खिलाड़ी एक दूसरे से लड़ रहे है. ऐसी टीम से आप खिताबी जीत की उम्मीद नहीं कर सकते.’ श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड की बागडोर अपने हाथ में लेने की तैयारी कर रहे रणतुंगा ने कहा कि राष्ट्रीय टीम के खराब प्रदर्शन के लिए क्रिकेट बोर्ड और कुछ खिलाड़ी जिम्मेदार है. 

2018 में सिर्फ जिम्बाब्वे से अधिक मैच जीते 
श्रीलंका की टीम का प्रदर्शन पिछले एक साल में बेहद खराब रहा है. वह साल 2018 में 17 मैचों में से सिर्फ छह मैच ही जीत सका था. साल 2018 में सिर्फ एक ही टीम (जिम्बाब्वे) ऐसी रही, जिसने श्रीलंका के बराबर या उससे अधिक मैच खेलकर भी उससे कम मैच जीते. जिम्बाब्वे ने 2018 में 26 मैचों में से सिर्फ पांच मैच जीते. 

यह भी पढ़ें: एमएसके प्रसाद ने खोला राज, चयन समिति ने कब से वर्ल्डकप की तैयारी शुरू कर दी थी

रैंकिंग में फिलहाल आठवें नंबर पर है श्रीलंका
श्रीलंका की टीम के इस खराब प्रदर्शन का असर उसकी रैंकिंग पर भी पड़ा है. वह फिलहाल रैंकिंग में आठवें नंबर पर है. अपेक्षाकृत कमजोर मानी जाने वाली बांग्लादेश की टीम भी श्रीलंका से बेहतर स्थिति में है. टेस्ट टीमों में सिर्फ वेस्टइंडीज, अफगानिस्तान, जिम्बाब्वे और आयरलैंड की वनडे रैंकिंग ही श्रीलंका से कम है. 

(इनपुट: भाषा)