IND vs BAN: पिंक बॉल टेस्ट को लेकर उत्साहित हैं अश्विन, बोले- 'नए युग का होगा आगाज'

कोलकाता में होने वाला डे-नाइट टेस्ट मैच भारत में होने वाला पहला डे-नाइट टेस्ट मैच है. अश्विन को उम्मीद है इस मैच से एक नए युग की शुरुआत होगी. 

IND vs BAN: पिंक बॉल टेस्ट को लेकर उत्साहित हैं अश्विन, बोले- 'नए युग का होगा आगाज'
अश्विन ने इंदौर टेस्ट में शानदार गेंदबाजी की थी और मैच में छह विकेट लिए थे. (फोटो: IANS)

कोलकाता: दो दिन बाद भारत और बांग्लादेश (India vs Bangladesh) के बीच शुरू हो रहे पहले डे-नाइट टेस्ट (Day-Night Test) मैच को लेकर दोनों टीमें बहुत उत्साहित हैं. दोनों टीमों ने कोलकाता के ईडन गार्डन मैदान पर अभ्यास भी शुरू कर दिया है. टीम इंडिया के ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (R Ashwin) का कहना है कि यह मैच भारतीय क्रिकेट में एक नए युग की शुरुआत कर सकता है.

टेस्ट क्रिकेट की लोकप्रितयता में होगा इजाफा
अश्विन का मानना है कि इस मैच से टेस्ट क्रिकेट की लोकप्रयिता में इजाफा होगा. एक टीवी चैनल के कार्यक्रम में बोलते हुए अश्विन ने कहा, "मैं उम्मीद करता हूं कि इस मैच को दर्शकों को मैदान तक लाने के लिए एक नई शुरूआत के तौर पर देखा जाएगा. मैच के समय में बदलाव होने से  अब लोग अपना काम निपटाकर टेस्ट मैच देखने आ सकेंगे और इससे टेस्ट क्रिकेट को बढ़ावा मिलेगा." 

यह भी पढ़ें: राहुल द्रविड़ ने कहा, दर्शकों को खींचेगी पिंक बॉल, लेकिन इन बातों पर भी देना होगा ध्यान

बल्लेबाजों के लिए अहम होगा दिन का दूसरा सत्र- शमी
पिछले कुछ समय से टीम इंडिया के लिए बेहतरीन गेंदबाजी कर रहे मोहम्मद शमी इस बारे में बताया कि पिंक बॉल टेस्ट में बल्लेबाजों को किन बातों का ध्यान रखना चाहिए. शमी ने कहा, " बल्लेबाजों को बीच के सत्र पर विशेष ध्यान देना चाहिए, तब जब ईडन गार्डन में गुलाबी गेंद के स्विंग होने की संभावना ज्यादा है. खास तौर पर गुलाबी गेंद पहले सत्र में ज्यादा स्विंग करेगी. 

इंदौर में ही पिंक बॉल से शुरू कर दी थी प्रैक्टिस
टीम इंडिया इस मैच के लिए मंगलवार को ही कोलकाता पहुंची. इससे पहले भारत और बांग्लादेश दोनों ने ही पिंक बॉल टेस्ट नहीं खेला है. इससे पहले इंदौर में हुए पहले टेस्ट मैच में टीम इंडिया ने मैच के तीसरे दिन ही नतीजा देते हुए बांग्लादेश को एक पारी और 130 रन से हरा दिया था. यह टीम इंडिया की लगातार तीसरी पारी के अंतर से जीत थी. इसके बाद से दोनों टीमें गुलाबी गेंद से प्रैक्टिस कर रही हैं

स्पिनर्स को मदद मिलने की संभावना कम
इस मैच में संभावना जताई जा रही है कि स्पिनर्स को ज्यादा मदद नहीं मिल सकती है. क्योंकि लाल गेंद की तरह गेंद की चमक जल्दी नहीं जाएगी. लाल गेंद को जहां डाइ किया जाता है, वहीं पिंक बॉल पर रंग की दो परत चढ़ाई जाती है. ऐसे में गेंद स्पिनर्स के लिए मददगा कम ही हो सकेगी. इस वजह से अश्विन अपनी गेंदबाजी में भी इस गेंद के मुताबिक बदलाव कर रहे हैं. यहां तक कि वे नेट प्रैक्टिस के दौरान अपने एक्शन में भी बदलाव करते दिखे. 
(इनपुट आईएएनएस)