Ahmedabad Pitch Controversy: ICC की सजा से बच सकता है Narendra Modi Stadium, चौथे टेस्ट के लिए कैसा होगा विकेट?

अहमदाबाद (Ahmedabad) के नरेंद्र मोदी स्टेडियम (Narendra Modi Stadium) में भारत और इंग्लैंड (IND vs ENG) के बीच तीसरा टेस्ट महज 2 दिनों में खत्म हो गया. इसके बाद यहां की पिच पर कई दिग्गजों ने सवाल उठाए है.

Ahmedabad Pitch Controversy: ICC की सजा से बच सकता है Narendra Modi Stadium, चौथे टेस्ट के लिए कैसा होगा विकेट?
अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम (फोटो-IANS)

नई दिल्ली: भारत और इंग्लैंड (IND vs ENG) के बीच पिंक बॉल टेस्ट 2 दिनों के अंदर खत्म होने के बाद अहमदाबाद की पिच (Pitch) को लकर काफी आलोचना हुई है. इसके बावजूद  आईसीसी (ICC) से गंभीर सजा मिलने की आशंका नहीं है क्योंकि आखिरी टेस्ट की पिच के बल्लेबाजी के अनुकूल होने की उम्मीद है.

भारत 4 टेस्ट मैचों की सीरीज में 2-1 से आगे चल रहा है और आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में क्वालीफाई करने के लिए उसे अहमदाबाद में होने वाले आखिरी टेस्ट को सिर्फ ड्रॉ कराना होगा. एक और स्पिन की अनुकूल पिच की संभावना कम है क्योंकि घरेलू टीम पिच को लेकर कोई जोखिम नहीं उठाना चाहती.

यह भी पढ़ें- IND vs ENG Series में जलवा बिखेर रही हैं एंकर Kira Narayanan, दीवाने हुए क्रिकेट फैंस

मामले की जानकारी रखने वाले बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर बताया, ‘अच्छी पिच की उम्मीद है जो ठोस रहेगी और समान उछाल मिलेगा. ये बल्लेबाजी के अनुकूल होगी और यह पारंपरिक लाल गेंद का टेस्ट मैच होगा इसलिए यहां 4 से 8 मार्च तक होने वाले मुकाबले में काफी बड़े स्कोर की उम्मीद की जा सकती है.’

बीसीसीआई (BCCI) के टॉप अधिकारियों के साथ टीम प्रबंधन (Team Management) भी समझता है कि धूल से भरी एक और पिच नए वेन्यू के लिए अच्छी नहीं होगी जिसके इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) और आईसीसी टी20 वर्ल्ड कप (ICC T20 World Cup) के दौरान कई अहम मैचों की मेजबानी करने की उम्मीद है.

बीसीसीआई अधिकारी ने कहा, ‘अगर एक ही वेन्यू पर 2 मैच होते हैं तो आप एक नतीजे को अलग नहीं कर सकते. आखिरी टेस्ट होने दीजिए और इसके बाद ही मैच रैफरी जवागल श्रीनाथ की रिपोर्ट के आधार पर आईसीसी अपनी कार्रवाई को लेकर फैसला करेगा. साथ ही अब तक इंग्लैंड की टीम ने भी कोई आधिकारिक शिकायत दर्ज नहीं कराई है.’

 

अगर एक ही वेन्यू पर एक अच्छी और एक खराब पिच होती है तो आईसीसी के कार्रवाई करने की संभावना नहीं है. भारत इस सीरीज को 3-1 से अपने नाम करके खुश होगा लेकिन टीम को नतीजा देने वाली स्पिन की अनुकूल पिच की जरूरत नहीं है क्योंकि उसके लिए ड्रॉ ही काफी है. साथ ही भारतीय टीम प्रबंधन ऐसी पिच नहीं चाहता जिस पर बेहद अहम मैच में खेलते हुए उसे नुकसान उठाना पड़े.

उन्होंने कहा, ‘पिंक बॉल टेस्ट अच्छा रहा क्योंकि ये गेंद से ज्यादा जुड़ा हुआ मामला था. गेंद पिच पर गिरकर तेजी से आ रही थी जबकि पिच में कोई परेशानू नहीं थी जैसा इंग्लैंड के कई पूर्व दिग्गज खिलाड़ी कह रहे हैं. वो सीधी गेंदों का सामना करने में नाकाम रहे, लेकिन इस तरह की पिचें खुद पर भी भारी पड़ सकती हैं और बीसीसीआई को इसकी अच्छी तरह जानकारी है.’

अगले टेस्ट के टीम कॉम्बिनेशन में बदलाव होगा क्योंकि जसप्रीत बुमराह को निजी कारणों से अगले टेस्ट में नहीं खेलने की मंजूरी दे दी गई है. मोहम्मद सिराज के आखिरी टेस्ट में इशांत शर्मा का नई गेंद से साथ निभाने की उम्मीद उमेश यादव के मुकाबले ज्यादा है जबकि तीनों स्पिनरों का खेलना लगभग तय है. वॉशिंगटन सुंदर की बेहतर बल्लेबाजी क्षमता आखिरी टेस्ट में मिडिल ऑर्डर के लिए अहम हो सकती है.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.