INDvsENG: केएल राहुल ने द्रविड़ का रिकॉर्ड तोड़ा, ग्रेग चैपल की बराबरी की

केएल राहुल भारत-इंग्लैंड के बीच जारी टेस्ट सीरीज में 14 कैच लपक चुके हैं. 

INDvsENG: केएल राहुल ने द्रविड़ का रिकॉर्ड तोड़ा, ग्रेग चैपल की बराबरी की
(फोटो: @klrahul11)

लंदन: इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में बल्ले से फ्लॉप रहे केएल राहुल ने फील्डिंग में नए रिकॉर्ड बना दिए हैं. उन्होंने ओवल में खेले जा रहे पांचवें टेस्ट में इंग्लैंड की दूसरी पारी में बेन स्टोक्स का कैच लिया. इसके साथ ही उन्होंने मौजूदा सीरीज में 14 कैच पूरे कर लिए हैं. राहुल ने इसके साथ ही एक टेस्ट सीरीज में सबसे ज्यादा कैच लपकने के मामले में राहुल द्रविड़ के भारतीय रिकॉर्ड को पीछे छोड़ दिया है. 

राहुल द्रविड़ ने 2014 में बनाया था रिकॉर्ड 
राहुल द्रविड़ ने 2004 में ऑस्ट्रेलिया दौरे पर बॉर्डर-गावस्कर सीरीज के दौरान 4 मैचों में 13 कैच लपके थे, जो अब तक भारतीय रिकॉर्ड था. वैसे एक टेस्ट सीरीज में सबसे ज्यादा कैच लपकने की बात करें तो यह रिकॉर्ड ऑस्ट्रेलिया के जैक ग्रेगरी के नाम है, जिन्होंने 1920-21 की एशेज सीरीज के दौरान 15 कैच लपके थे. केएल राहुल और ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान ग्रेग चैपल 14-14 कैच के साथ संयुक्त दूसरे स्थान पर हैं. चैपल ने इंग्लैंड के खिलाफ ही 1974-75 में छह मैचों में 14 कैच लपके थे.

कुक के पास भी ऐसा ही रिकॉर्ड बनाने का मौका 
अपना आखिरी टेस्ट मैच खेल रहे एलिस्टेयर कुक के पास एक सीरीज में सबसे अधिक कैच का नया रिकॉर्ड बनाने का मौका है. वे भारत की दूसरी पारी में तीन कैच लेकर ग्रेगरी का रिकॉर्ड तोड़ सकते हैं. कुक ने अब तक मौजूदा सीरीज में 13 कैच लिए हैं. अगर वे एक कैच भी और ले लेते हैं तो केएल राहुल और ग्रेग चैपल की बराबरी पर आ जाएंगे. 

द्रविड़ के नाम है 210 कैच का रिकॉर्ड 
इंटरनेशनल क्रिकेट में सबसे ज्यादा लपकने की बात करें तो इस लिस्ट में भारत के राहुल द्रविड़ टॉप पर हैं. द्रविड़ ने 164 मैचों के अपने करियर में 210 कैच लिए हैं. श्रीलंका के महेला जयवर्धने इस मामले में दूसरे नंबर पर हैं. उन्होंने 149 मैचों के करियर में 205 कैच लपके थे.

केएल राहुल के पास बल्लेबाज रिकॉर्ड सुधारने का मौका 
केएल राहुल 5 मैचों की मौजूदा सीरीज में अब तक सिर्फ 196 रन बना सके हैं. इनमें एक भी अर्धशतक शामिल नहीं है. राहुल भारत की दूसरी पारी में अभी 46 रन बनाकर नाबाद हैं. यह सीरीज में उनका सर्वोच्च स्कोर भी है. राहुल जब मंगलवार को मैदान पर उतरेंगे तो उनके पास सीरीज में अपनी बैटिंग रिकॉर्ड सुधारने का मौका होगा.