close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

INDvsNZ: पहले मैच से बड़ी है दूसरे वनडे में टीम इंडिया की जीत, जानिए क्यों है ऐसा

माउंट माउंगानुई में सीरीज के दूसरे वनडे में भारत ने न्यूजीलैंड को 90 रनों से हराया जो पहले वनडे की 8 विकेट से जीत से ज्यादा अहम है.

INDvsNZ: पहले मैच से बड़ी है दूसरे वनडे में टीम इंडिया की जीत, जानिए क्यों है ऐसा
विराट कोहली ने न्यूजीलैंड में मौके का फायदा उठाया और टीम के कई विभागों की जरूरतों को समझा. (फोटो: Reuters)

माउंट माउनगुई (न्यूजीलैंड): टीम इंडिया ने शनिवार को बे ओवल मैदान पर खेले गए दूसरे वनडे मैच में न्यूजीलैंड को 90 रनों से हरा दिया. इसी के साथ भारत ने पांच मैचों की वनडे सीरीज में 2-0 की बढ़त ले ली है. इससे पहले टीम इंडिया ने नेपियर में हुए पहले वनडे में न्यूजीलैंड को 8 विकेट से हराया था. यह टीम इंडिया की न्यूजीलैंड में सबसे बड़ी जीत थी, लेकिन दूसरे वनडे की जीत टीम इंडिया के लिए कई लिहाज से ज्यादा अहम और बेहतर जीत मानी जाएगी.

325 के टारगेट को किया डिफेंड 
माउंट माउनगुई में दोनों टीमों के बीच पहली बार हुए सीरीज के दूसरे मैच में भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 50 ओवरों में चार विकेट के नुकसान पर 324 रन बनाए थे. न्यूजीलैंड की टीम इस लक्ष्य को हासिल नहीं कर पाई और 40.2 ओवरों में 234 रनों पर ढेर हो कर मैच हार गई. न्यूजीलैंड के लिए सबसे ज्यादा 57 रन डग ब्रैसवेल ने बनाए. उन्होंने अपनी पारी में 46 गेंदों का सामना करते हुए पांच चौके और तीन छक्के लगाए. भारत के लिए कुलदीप यादव ने चार विकेट लिए. भुवनेश्वर कुमार और युजवेंद्र चहल को दो-दो सफलताएं मिलीं. मोहम्मद शमी और केदार जाधव को एक विकेट मिला. 

शानदार रही टीम इंडिया की बल्लेबाजी
इससे पहले, टॉस जीतकर बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम के लिए रोहित शर्मा ने सबसे ज्यादा 87 रन बनाए जिसके लिए उन्होंने 96 गेंदों का सामना किया. रोहित की पारी में नौ चौके और तीन छक्के शामिल रहे. शिखर धवन ने 67 गेंदों का सामना करते हुए नौ चौकों की मदद से 66 रन बनाए.  रोहित शर्मा और शिखर धवन की 154 रनों की साझेदारी के बाद विराट कोहली (43 ), अंबाती रायडू ( 47) रनों की पारियों ने भारत को मजबूती दी. इसके बाद एमएस धोनी (48) और केदार जाधव  (10 गेंदों पर 22 रन) ने अंत में तेजी से रन बटोरे 324 रनों को  स्कोर भी बना दिया. न्यूजीलैंड के लिए ट्रैंट बाउल्ट और लॉकी फर्ग्युसन ने दो-दो विकेट लिए.

पहले वनडे इसलिए बेहतर रही यह जीत
वहीं पहले वनडे में टीम इंडिया ने पहले न्यूजीलैंड को 38 ओवर में 157 रनों पर समेट दिया था और 34.5 ओवर में ही 156 रनों का (संशोधित) लक्ष्य हासिल कर लिया था. यह टीम इंडिया की न्यूजीलैंड पर सबसे बड़ी जीत मानी गई थी. इसके बावजूद दूसरे वनडे की जीत टीम इंडिया के लिए ज्यादा खास मानी जानी चाहिए. इसकी वजह से यह है कि टीम इंडिया इस समय लक्ष्य का पीछा करने में तो बेहतरीन टीम है, लेकिन लक्ष्य देकर उसे डिफेंड करने में उसका रिकॉर्ड , कम से कम हालिया रिकॉर्ड बहुत अच्छा नहीं हैं. ऑस्ट्रेलिया में भी तीन वनडे मैचों की सीरीज में तीनों मैचों में उसने लक्ष्य का पीछा किया था जिसमें आखिरी दो वनडे मैचों में उसने जीत हासिल की थी. 

खुद विराट कोहली ने किया था यह इशारा
यह वजह टीम इंडिया के लिए खास क्यों है यह राज टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली के उस बयान में छिपा है जो उन्होंने माउंट माउनगुई में टॉस जीतने के बाद दिया.  टॉस जीतने के बाद विराट ने कहा, “ हम पहले बल्लेबाजी करने जा रहे हैं. लगता है कि ट्रैक बल्लेबाजी के लिए बढ़िया है. हमें जो चीज मजबूत करनी है, वह है बोर्ड पर रन लगाना. गेंदबाजों से डिफेंस करने को कहा है जिसमें हम नियमित नहीं हैं. जिन बातों पर हमें काम करना है वहां हमें स्मार्ट होना होगा. यह एक तरह से खुद को अलग तरह की चुनौती देने की बात है. पिछले कुछ मैचों में हमने बढ़िया क्रिकेट खेला था, पिछला मैच क्लीनिकल था. हम कुछ चीजों में बेहतर होने की कोशिश कर रहे हैं. हमें यहां आकर खुद को जाहिर करना है. हमने कोई बदलाव नहीं किया है.”

वर्ल्ड की तैयारी है इस सब के पीछे
विराट के बयान से साफ है कि टीम इंडिया को लक्ष्य देकर उसे डिफेंड करने के मामले में मजबूत होने की जरूरत थी. अब वनडे वर्ल्ड कप में जब चार महीने का ही समय बचा है तो ऐसे में टीम को इस विभाग में मजबूत होने की बहुत जरूरत थी. ऐसे में यह जीत टीम में नया विश्वास पैदा करेगी. इस मैच में टीम को अपनी उन कमजोरियों के बारे में भी पता चला जिसमें उसे मजबूत होने की जररूत है, खासकर गेंदबाजों को स्कोर डिफेंड करते समय गेंदबाजी को कैसे मजबूत करना है, यह उनमें से एक है. 

रिकॉर्ड के लिहाज से भले ही पहला मैच बड़ा हो, लेकिन वर्ल्ड कप की तैयारियों के लिहाज से, टीम को बेहतर करने के लिहाज से, दूसरे वनडे की जीत ज्यादा अहम मानी जाएगी.