close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

AUSvsBAN : नाथन लायन ने की शेन वॉर्न के 23 साल पुराने रिकॉर्ड की बराबरी

बांग्लादेश के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच के पहले दिन लायन ने 5 विकेट लिए हैं.

AUSvsBAN : नाथन लायन ने की शेन वॉर्न के 23 साल पुराने रिकॉर्ड की बराबरी
दूसरे टेस्ट के पहले दिन 5 विकेट लेकर नाथन लायन ने बनाए 3 बड़े रिकॉर्ड (FILE PHOTO)

नई दिल्ली : ऑस्ट्रेलिया के बेहतरीन स्पिन गेंदबाज नाथन लायन ने बांग्लादेश के खिलाफ दूसरे टेस्ट के पहले ही दिन 5 विकेट लेकर अपना कमाल दिखा दिया है. ढाका में खेले गए पहले टेस्ट में 20 रनों से हारने के बाद कंगारू टीम के लिए ये करो या मरो जैसी हालत में है, लेकिन दूसरे टेस्ट के पहले ही दिन नाथन लायन ने 5 विकेट चटका कर अपनी मंशा जाहिर कर दी है. 

शेन वॉर्न की बराबरी की

ऑस्ट्रेलिया बनाम बांग्लादेश चटगांव टेस्ट के पहले दिन नाथन लायन ने पांच विकेट चटका कर शेन वॉर्न के 23 साल पुराने रिकॉर्ड की बराबरी कर ली. लायन लगातार तीन टेस्ट में पांच विकेट हॉल लेने वाले ऑस्ट्रेलिया के दूसरे गेंदबाज बन गए हैं. शेन वार्न ने 1994 में ये कारनामा किया था. लायन ने भारत के खिलाफ धर्मशाला टेस्ट में फाइव विकेट हॉल लेने की शुरुआत की थी. इसके बाद उन्होंने बांग्लादेश के खिलाफ पहले टेस्ट की दूसरी पारी में भी 6 विकेट झटके और अब चटगांव टेस्ट में भी उन्होंने अपने नाम 5 विकेट हासिल कर महान लेग स्पिनर शेन वॉर्न के रिकॉर्ड की बराबरी की.

बनाया एलबीडब्ल्यू का वर्ल्ड रिकॉर्ड 

लायन ने बांग्लादेश के खिलाफ दूसरे टेस्ट में टॉप 4 बल्लेबाजों को एलबीडब्ल्यू आउट किया जो कि एक वर्ल्ड रिकॉर्ड है. लायन ऐसा करने वाले दुनिया के पहले गेंदबाज हैं. लायन ने तमीम इकबाल, सौम्या सरकार, इमरुल कायस और मोमिनुल हक को एलबीडब्ल्यू आउट किया.

इन दो बड़े रिकॉर्डों के साथ लायन ने एक और कीर्तिमान अपने नाम किया है. लायन बिल ओ’रेली के बाद टेस्ट मैच के पहले दिन गेंदबाजी की शुरुआत करने वाले दूसरे ऑस्ट्रेलियाई स्पिनर हैं. आमतौर पर कप्तान तेज गेंदबाजों के साथ शुरुआत करते हैं लेकिन स्टीवन स्मिथ ने पिच को देखते हुए लायन के साथ जाने का फैसला किया जो टीम के हक में गया.

बता दें कि चटगांव टेस्ट के पहले दिन बांग्लादेश ने 6 विकेट के नुकसान पर 253 रन बना लिए थे. दिन का खेल खत्म होने तक मुशफिकुर रहीम (62) और नासिर होसैन (19) रन बनाकर क्रीज पर टिके हुए थे. पहले दिन ऑस्ट्रेलिया की तरफ से नाथन लायन ने सबसे ज्यादा (5) विकेट लिए. वहीं 1 विकेट एश्टन एगर को हासिल हुआ. ऑस्ट्रेलिया ने इस दौरान कुल 6 गेंदबाजों को आजमाया लेकिन 2 गेंदबाजों को छोड़कर किसी को भी विकेट हासिल नहीं हो सका.

नाथन लायन ने चटगांव टेस्ट को करियर का सबसे मुश्किल मैच बताया

ढाका में खेले गए पहले टेस्ट में 20 रनों से हारने के बाद कंगारू टीम के लिए ये करो या मरो जैसी स्थिति है। ऐसे में लायन का भी यही कहना है कि बांग्लादेश के खिलाफ दूसरा टेस्ट उनके करियर के सबसे मुश्किल मैचों में से एक है. क्रिकबज ने लायन के हवाले से लिखा, “ये मैच मेरे करियर के सबसे मुश्किल मैचों की सूची में ऊपर है. यह मेरा 69वां मैच है लेकिन मुझे नहीं लगता कि पहले किसी मैच में मेरी इतनी कठिन परीक्षा हुई है.”

लायन ने चटगांव की पिच के बारे में बात करते हुए कहा, “पिच काफी अच्छी थी, सच कहूं तो वहां ज्यादा स्पिन नहीं है. मैने चार सीधी गेंदे कराई और सभी पैड पर जाकर लगी. हालांकि गर्मी भी एक कारण है, इसलिए हमने प्री-सीजन कार्यक्रम शुरू किया है. आप अपने आप को मुश्किल स्थितियों में परखना चाहते हो और देखना चाहते हो कि आपकी क्या प्रतिक्रिया रहती है.”

लायन ने लगातार तीन टेस्ट मैचों में पांच विकेट हॉल लेकर शेन वार्न की बराबरी कर ली है. चटगांव और ढाका टेस्ट से पहले लायन ने भारत के दौरे पर भी शानदार प्रदर्शन किया था. इस बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा, “मेरा मानना है कि ये सब विश्वास पर निर्भर करता है. यह उपमहाद्वीप में मेरा छठां या सातवां दौरा है. इसलिए ऐसी जगह पर जहां मैं काफी क्रिकेट खेल चुका हूं मैं गेंदबाजी अटैक का नेतृत्व करना सही समझता हूं. मैने अच्छा प्रदर्शन करने को लेकर खुद पर काफी दबाव डाला है. मैने श्रीवर्धन श्रीराम के साथ काफी काम किया है.”

लायन ने उपमहाद्वीप पर गेंदबाजी करने का तरीका भी बताया. उन्होंने कहा, “यहां कि पिच पर आपको केवल अपने आपको स्थिति के हिसाब से ढालना और अपना घमंड भूलना जरूरी होता. ऑस्ट्रेलिया उपमहाद्वीप में ज्यादा काम नहीं करती है. मैं ये भी कहना चाहूंगा कि ये मेरी ताकत भी है, इसलिए मैं इससे दूर नहीं जा सकता. मैं अपना गुरूर छोड़कर विश्वास के साथ गेंदबाजी करता हूं, जिसे मेरे हिसाब से मैं ‘गंदी गेंदबाजी’ कहूंगा.” लायन का कहना है कि उन्होंने उपमहाद्वीप में क्रिकेट खेलकर बहुत कुछ सीखा है. साथ ही लगातार आने वाली चुनौतियों के लिए भी तैयार हैं.