भारतीय क्रिकेटर्स के इन रिकॉर्ड्स को तोड़ पाना है बेहद मुश्किल

कहते हैं कि रिकॉर्ड बनते ही टूटने के लिए हैं, लेकिन भारत के कुछ खिलाड़ियों ने क्रिकेट की दुनिया में कुछ ऐसे रिकॉर्ड कायम किए हैं, जिनका टूट पाना बेहद मुश्किल है.

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Aug 11, 2020, 22:40 PM IST

नई दिल्ली: भारत में क्रिकेट को धर्म की तरह माना जाता है. अगर चर्चा की जाए भारत में सबसे अधिक लोकप्रिय खेल के बारे में को वो सिर्फ क्रिकेट ही है. भारत में क्रिकेट के इतने लोकप्रिय होने की वजह टीम इंडिया के दिग्गज क्रिकेटर्स हैं, जिन्होंने पूरे क्रिकेट जगत में भारतीय क्रिकेट का लोहा मनवाया है. इस दौरान टीम इंडिया के कई ऐसे खिलाड़ी रहे हैं, जिन्होंने इस जेंटलमैन गेम कुछ ऐसे अनूठे रिकॉर्ड कायम किए जिनका तोड़ पाना किसी भी खिलाड़ी के बेहद मुश्किल होगा या फिर ये मान लें भारत के इन महान दिग्गजों के यह रिकॉर्ड पत्थर पर खींची लकीर के समान हैं जिसका मिट पाना लगभग अंसभव है. पेश हैं इंनटरनेशनल क्रिकेट में इंडियन क्रिकेटर्स के वो रिकॉर्ड्स जो दूसरे खिलाड़ियो के लिए एवरेस्ट चढ़ने के बराबर हैं.

1/6

सचिन तेंदुलकर के अंतर्राराष्ट्रीय क्रिकेट में 100 शतक

Hundred Century in International Cricket Sachin Tendulkar

भारतीय टीम के पूर्व महान सलामी बल्लेबाज सचिन रमेश तेंदुलकर को क्रिकेट का भगवान कहा जाता है. सचिन ने बल्लेबाजी के कई सारे रिकॉर्ड बनाए हैं जो मील के पत्थर साबित हुए हैं. लेकिन मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के इंटरनेशनल क्रिकेट में शतकों के शतक के इस खास कार्तिमान को हासिल कर पाना किसी भी खिलाड़ी के लिए बेहद कठिन कार्य है. सचिन के अलावा कोई भी क्रिकेटर्स कभी भी यह रिकार्ड नहीं बना पाया है.

2/6

महेंद्र सिंह धोनी 3 आईसीसी ट्रॉफी जीतने वाले इकलौते कप्तान

Only Captain to Win all ICC Trophy MS Dhoni

इंडियन क्रिकेट में जब भी सबसे सफलतम कप्तानों की बात की जाएगी तो उस लिस्ट में सबसे सफल कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ही होंगे. धोनी ने अपनी कप्तानी के दम पर भारतीय क्रिकेट की परिभाषा बदल दी. वो इसलिए क्योंकि माही दुनिया के इकलौते कप्तान हैं, जिनके नाम आईसीसी की तीन बड़े टूर्नामेंट जीतने का रिकार्ड है. धोनी ने साल 2007 में टी-20 वर्ल्ड कप, 2011 में वनडे वर्ल्ड कप और साल 2013 में आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी जीतकर इतिहास रचा था. इसके अलावा उन्होंने टीम इंडिया को टेस्ट में नबंर-1 बनाकर आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप का गदा भी हासिल किया था.

 

3/6

राहुल द्रविड़ टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा गेंद खेलने वाले खिलाड़ी

Most ball Played in Test rahul dravid

राहुल द्रविड़ में अपनी बेहतरीन बल्लेबाजी, रक्षात्मक शॉट्स और कौशल खेल के लिए मशहूर हैं. द्रविड़ जब क्रिकेट के प्रारंभिक स्वरूप में क्रीज पर टिक जाते थे तो विपक्षी टीम के गेंदबाजों को उन्हें आउट करने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगाना पड़ता था. यही वजह थी जो राहुल द्रविड़ को टीम इंडिया का 'वॉल' कहा जाता था. राहुल द्रविड़ के नाम टेस्ट क्रिकेट में सबसे अधिक गेंदें खेलने का अनोखा रिकॉर्ड है. द्रविड़ ने अपने टेस्ट करियर में कुल 31,258 गेंदें खेली थी. ओवर के तहत देखें तो राहुल द्रविड़ ने लगभग 5,210 ओवर्स का सामना किया था.

4/6

रोहित शर्मा के वनडे में 3 दोहरे शतक और 264 रनों का सर्वोच्च स्कोर

Highest Individual Score in ODI Rohit Sharma 264

'हिटमैन' रोहित शर्मा मौजूदा समय में विश्व क्रिकेट के सबसे विस्फोटक बल्लेबाजों में शुमार हैं. रोहित शर्मा ने वनडे क्रिकेट में 3 तीन दोहरे शतक जड़कर अपनी एक खास पहचान बनाई है. इतना ही नहीं रोहित शर्मा ने वनडे में 264 रनों का सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर बनाया है, जिसे शायद कभी तोड़ा न जा सके.

5/6

अजिंक्य रहाणे एक टेस्ट मैच में सबसे अधिक कैच

Ajinkya Rahane Most Catches in a test match

टेस्ट क्रिकेट में अजिंक्या रहाणे भारत के सबसे बेहतरीन बल्लेबाज और उपकप्तान हैं. लेकिन रहाणे के नाम ये रिकार्ड बल्लेबाजी नहीं बल्कि फील्डिंग में दर्ज है. साल 2015 में अंजिक्य रहाणे ने गॉल टेस्ट के दौरान श्रीलंका के 8 बल्लेबाजों के कैच लपके थे, जो इंटरनेशनल क्रिकेट में किसी भी नॉन विकेटकीपर फील्डर के लिए सबसे ज्यादा है. रहाणे ने श्रीलंकाई की टीम की पहली पारी में 3 और दूसरी पारी में 5 कैच पकड़े थे.

6/6

अनिल कुंबले टेस्ट क्रिकेट की एक पारी में 10 विकेट

Anil Kumble 10 wickets against Pakistan in a test Inning

भारतीय क्रिकेट के दिग्गज लेग स्पिनर अनिल कुंबले टीम इंडिया के टेस्ट क्रिकेट में सबसे अधिक विकेट लेने वाले एक मात्र गेंदबाज हैं. टेस्ट क्रिकेट में जंबो के नाम 619 विकेट हैं. तो वहीं कुंबले ने अपनी करिश्माई फिरकी गेंदबाजी के दम पर टेस्ट क्रिकेट की एक पारी पूरी विरुद्धी टीम को ऑल आउट कर 10 विकेट हासिल किए थे. अनिल कुंबले ने यह कारनामा 7 फरवरी साल 1999 में दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान पर किया था. जब कुंबले ने पाकिस्तान टीम के खिलाफ 26.3 ओवर में 74 रन देकर 10 विकेट झटके.