close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोच रवि शास्त्री का दावा- विराट कोहली की टीम पिछले 15-20 साल में सर्वश्रेष्ठ

भारतीय टीम चौथे टेस्ट में 60 रन से हार गई जिससे वह पांच मैचों की सीरीज में 1-3 से पिछड़ गई.

कोच रवि शास्त्री का दावा- विराट कोहली की टीम पिछले 15-20 साल में सर्वश्रेष्ठ
भारतीय टीम पांच मैचों की सीरीज में 1-3 से पिछड़ गई. (फाइल फोटो)

लंदन: इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज हारने पर विराट कोहली की टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री ने पुरजोर बचाव किया है. शास्त्री ने कहा कि मौजूदा खिलाड़ियों ने वो सब हासिल किया है जो कोई अन्य पहले नहीं कर सका. कोच का दावा है कि मौजूदा टीम पिछले 15-20 साल में विदेशों में सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाली टीम है. भारतीय टीम चौथे टेस्ट में 60 रन से हार गई जिससे वह पांच मैचों की सीरीज में 1-3 से पिछड़ गई. सीरीज का अंतिम मैच शुक्रवार से यहां के ओवल मैदान पर खेला जाएगा.

शास्त्री ने कहा, 'हमारे खिलाड़ियों ने पूरा जोर लगाया. अगर आप पिछले तीन साल के रिकॉर्ड को देखेंगे तो हमने विदेशों में नौ मैच और तीन सीरीज में जीत दर्ज की है (वेस्टइंडीज और श्रीलंका के खिलाफ दो बार).' उन्होंने कहा, ‘मैंने पिछले 15-20 वर्षों में किसी भी भारतीय टीम का इतने कम समय में ऐसा प्रदर्शन नहीं देखा है जैसा इस टीम ने किया है. इस टीम में दमखम है.’

भारतीय कोच ने कहा, ‘जब आप मैच हारते हैं तो दुख होता है. ऐसे समय में आप अपना आकलन करते हैं और ऐसी स्थितियों से निपटने के लिए सही हल ढूंढते हैं और लक्ष्य पाने की कोशिश करते हैं. अगर आप खुद में विश्वास करते हैं तो एक दिन आप ऐसा कर पाएंगे.'

मुख्य कोच ने विदेशी परिस्थितियों में टेस्ट सीरीज जीतने के लिए मानसिक रूप से मजबूत होने की आवश्यकता पर जोर दिया जैसा कि कप्तान विराट कोहली ने भी साउथम्प्टन टेस्ट में हार के बाद कहा था.

यह भी पढ़ें- निमरत कौर से डेटिंग की खबरों पर अब रवि शास्त्री ने तोड़ी चुप्पी

कोच रवि शास्त्री ने कहा, ‘मुझे लगता है कि आपको मानसिक रूप से मजबूत होना होगा. हमने विदेशों में कड़ी टक्कर दी है लेकिन अब यह सिर्फ टक्कर देने के बारे में नहीं हैं. हमें यहां से अब मैच जीतना होगा. अब हमारा प्रयास यह समझने का होना चाहिए कि हमने कहां गलतियां की है और उस में सुधार कर आगे बढ़ना होगा.’’

आसानी से हार मानने वाले नहीं
शास्त्री ने कहा, ‘सीरीज का नतीजा 3-1 है जिसका मतलब भारत ने सीरीज गवां दी है. इस नतीजे से यह पता नहीं चलता है कि यह सीरीज 3-1 से भारत के पक्ष में या दो-दो की बराबरी पर भी हो सकती थी. पिछले मैच के बाद खिलाड़ियों को दुखी होना चाहिए और वे दुखी हैं लेकिन यह टीम आसानी से हार नहीं मानने वाली है.’

शॉट सलेक्शन की सलाह
कोच ने बल्लेबाजों को सही शॉट सलेक्शन की सलाह देते हुए कहा, ‘मुझे लगता है सही शॉट सलेक्शन होना चाहिए था. हम चाय (साउथम्प्टन) के विश्राम के बाद अच्छी स्थिति में थे लेकिन हमने उसे गवां दिया. यह ऐसा क्षेत्र है जिस पर हमें काम करना होगा और टीम की जरूरत को समझना होगा.’

एजबेस्टन मैच पर कहा ये
शास्त्री का कहना था कि जब हम चार विकेट पर 180 पर थे तो मुझे लगा कि हम 75-80 रन की बढ़त हासिल कर सकते थे और वह जरूरी होता. एजबेस्टन का मैच किसी के भी पाले में जा सकता था. एक समय इंग्लैंड की टीम की स्थिति मजबूत थी लेकिन हम वापसी करने में कामयाब रहे. पहले दिन गेंदबाजों के शानदार प्रदर्शन के बाद हमें काफी आगे होना चाहिए था.

मोईन अली तारीफ में कसीदे गढ़े
टीम इंडिया के कोच ने कहा कि दोनों टीमों में मोईन अली का एक बड़ा अंतर था जिन्होंने पिच के रफ इलाके का अश्विन से बेहतर इस्तेमाल किया. उन्होंने कहा, ‘अश्विन फिट था. आपको अंतिम दिन मोईन अली को श्रेय देना होगा. ईमानदारी से कहुं तो मोईन ने शानदार ढंग से गेंदबाजी की.’