close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

DDCA के कई सदस्यों की CoA से मांग, 'फिर से कराएं हमारे चुनाव', यह दी दलील

BCCI Elections: DDCA के कई सदस्यों की मांग है कि पिछले साल ही हुए DDCA  के चुनावों को नए संविधान के तहत फिर से कराए जाना चाहिए. 

DDCA के कई सदस्यों की CoA से मांग, 'फिर से कराएं हमारे चुनाव', यह दी दलील
बीसीसीआई में चुनाव प्रक्रिया समय पर पूरी होने की उम्मीद की जा रही है. (फोटो: IANS)

नई दिल्ली: पिछले कुछ समय से प्रशासनिक फेरबदल की प्रक्रिया से गुजर रहे भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) में 23 अक्टूबर तक चुनाव प्रक्रिया पूरी होनी है. सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त की गई प्रशासकों का समिति (CoA) इस चुनाव को कराने के लिए प्रतिबद्ध है और समय से चुनाव होने को लेकर आश्वस्त भी है. इसी बीच दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (DDCA) के सदस्यों ने प्रशासकों की समिति (CoA) से फिर से अपने यहां चुनाव कराने का अनुरोध किया है. ये चुनाव एक साल पहले ही हुए थे. 

पुराने संविधान के तहत हुआ था पिछला चुनाव
सदस्यों ने कहा है कि पिछला चुनाव सीओए द्वारा किया गया था जो कि बीसीसीआई के नए पंजीकृत संविधान के तहत नहीं था. एक सदस्य ने कहा, "डीडीसीए का पिछला चुनाव नौ अगस्त 2018 और बीसीसीआई के नए संविधान के पंजीकृत होने से पहले हुआ था. डीडीसीए का चुनाव प्रक्रिया बीसीसीआई के नए संविधान के तहत नहीं था. यह डीडीसीए के पुराना संविधान के तहत किया गया था." एक अन्य सदस्य ने कहा कि पुराने संविधान के नियमों के अनुसार चुनाव कैसे हुए? उन्होंने कहा कि पुराने संविधान के अनुसार कराए गए चुनाव में कुछ प्रमुख क्षेत्रों में चूक हुई है.

यह भी पढ़ें: IND vs SA: अश्विन-जडेजा का चला जादू, शमी की आई आंधी और धूल में मिल गया दक्षिण अफ्रीका

यह कमियां भी रहीं
सदस्यों ने कहा, "डीडीसीए में शीर्ष परिषद का कोई प्रावधान नहीं था. यहां पुरुष और महिला क्रिकेट संघ के प्रतिनिधियों के लिए भी कोई प्रावधान नहीं था. शीर्ष परिषद के लिए एक भी निदेशक नहीं था. कार्यकारी निदेशक का गठन नौ निदेशकों के बजाय 16 निदेशकों के साथ किया गया था जिसका कि बीसीसीआई के नए संविधान में उल्लेख किया गया है."

एक सदस्य ने सीओए से फिर से चुनाव से कराने का अनुरोध करते हुए कहा, "आप डीडीसीए को एक चुनाव अधिकारी नियुक्त करने का आदेश दें और सुप्रीम कोर्ट द्वारा जारी नए संविधान के तहत नए चुनाव कराने को भी कहें." 
(इनपुट आईएएनएस)