डेविस कप में रामकुमार को आसान ड्रा, साकेत माइनेनी फिटनेस कारणों से बाहर

भारतीय टीम लगातार चौथी बार प्रयास कर रही है कि 16 देशों के विश्व ग्रुप में जगह बना सके. पिछले तीन साल में उसे सर्बिया ( 2014 ), चेक गणराज्य (2015 ) और स्पेन ( 2016 ) ने हराया.

डेविस कप में रामकुमार को आसान ड्रा, साकेत माइनेनी फिटनेस कारणों से बाहर
युकी भांबरी दूसरे एकल में दुनिया के 51वें नंबर के खिलाड़ी डेनिस शापोवालोव से खेलेंगे. (फाइल फोटो)

एडमंटन: कनाडा के खिलाफ डेविस कप मुकाबलें में पहले दिन अंक हासिल करने की भारत की उम्मीदों को बल मिला जब रामकुमार रामनाथन को आसान ड्रा मिला हालांकि फिटनेस कारणों से साकेत माइनेनी टीम से बाहर हो गए. विश्व रैंकिंग में 154वें स्थान पर काबिज रामनाथन को नये खिलाड़ी ब्राडले शनुर से खेलना है जो रैंकिंग में 202वें स्थान पर हैं. वहीं युकी भांबरी दूसरे एकल में दुनिया के 51वें नंबर के खिलाड़ी और कनाडा की सबसे बड़ी उम्मीद डेनिस शापोवालोव से खेलेंगे.

कनाडा की टीम ने एकल मुकाबलों में वासेक पोस्पिली को नहीं उतारा है जो खराब फॉर्म से जूझ रहे हैं. वह एटीपी टूर पर लगातार पांच मैच हार चुके हैं. भारत के गैर खिलाड़ी कप्तान महेश भूपति को माइनेनी की जगह रोहन बोपन्ना के साथ पूरव राजा को उतारना होगा. बोपन्ना और राजा अपने दूसरे डेविस कप मैच में डेनियल नेस्टर और पोस्पिली से खेलेंगे.

राजा को ऐन मौके पर रिजर्व खिलाड़ी के तौर पर टीम में शामिल किया गया जब टीम में शामिल दो रिजर्व खिलाड़ियों में से एक एन श्रीराम बालाजी की एड़ी में मोच आ गई. आखिरी दिन युकी शनूर से खेलेंगे, जबकि रामकुमार का सामना शापोवालोव से होगा.

भूपति ने ड्रा के बाद कहा,‘‘ड्रा अच्छा है. हम उम्मीद कर रहे थे कि शनूर पहले दिन खेलेगा और हम चाहते थे कि राम शुरुआत करे.’’ युगल में टीम में बदलाव के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा,‘‘हमारी सर्वश्रेष्ठ टीम युगल टीम है और साकेत पांच सेटों का मुकाबला खेलने के लिये शारीरिक रूप से अभी फिट नहीं है.’’ हाल ही में पैर की चोट के बाद प्रतिस्पर्धी टेनिस में लौटे माइनेनी ने पुणे में न्यूजीलैंड के खिलाफ भी ऐन मौके पर नाम वापिस ले लिया था जिसके बाद तत्कालीन कप्तान आनंद अमृतराज को लिएंडर पेस के साथ खेलने के लिये विष्णु वर्धन को उतारना पड़ा. माइनेनी ने इसके बाद उजबेकिस्तान के खिलाफ भी नहीं खेला और बोपन्ना ने बालाजी के साथ वह मुकाबला खेला था.

भूपति ने कहा कि मुकाबले से पहले न्यूयॉर्क में अभ्यास शिविर लगाने का टीम का फायदा मिला और इससे खिलाड़ियों की फिटनेस का पता चल सका. उन्होंने कहा,‘‘यह अच्छा फैसला था क्योंकि इससे पता चला कि खिलाड़ियों की फिटनेस का स्तर क्या है और उनमें कितना आत्मविश्वास है. भारतीय टीम लगातार चौथी बार प्रयास कर रही है कि 16 देशों के विश्व ग्रुप में जगह बना सके. पिछले तीन साल में उसे सर्बिया ( 2014 ), चेक गणराज्य (2015 ) और स्पेन ( 2016 ) ने हराया.

युकी के सामने शापोवालोव के रूप में कड़ी चुनौती है जो रफेल नडाल, जो विलफ्राइड सोंगा और जुआन मार्तिन देल पोत्रो जैसे खिलाड़ियों को हरा चुके हैं. उन्होंने कहा,‘‘यह बहुत कठिन मैच होगा क्योकि वह बहुत मजबूत खिलाड़ी है. मुझे अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना होगा.’’