मैरीकॉम ने मुक्केबाजी की राष्ट्रीय पर्यवेक्षक का पद छोड़ा

मैरीकॉम ने कहा मैने यह पद मांगा नहीं था, मुझसे इस पद को ग्रहण करने के लिये कहा गया था’

मैरीकॉम ने मुक्केबाजी की राष्ट्रीय पर्यवेक्षक का पद छोड़ा
मैने यह पद मांगा नही था: मैरीकॉम (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ के यह स्पष्ट करने के बाद कि कोई भी सक्रिय खिलाड़ी खेलों में राष्ट्रीय पर्यवेक्षक नहीं हो सकता, पांच बार की विश्व चैम्पियन एम सी मैरीकॉम ने मुक्केबाजी में राष्ट्रीय पर्यवेक्षक के पद से इस्तीफा दे दिया. पिछले महीने पांचवां एशियाई चैम्पियनशिप स्वर्ण पदक जीतने वाली मैरीकॉम ने कहा, ‘मैने दस दिन पहले ही खेलमंत्री से बात करने के बाद राष्ट्रीय पर्यवेक्षक के पद से इस्तीफा दे दिया.

मैने यह पद मांगा नहीं था, मुझसे इस पद को ग्रहण करने के लिये कहा गया था’ साथ ही उन्होंने कहा, ‘मैने तत्कालीन खेल सचिव इंजेती श्रीनिवास से उस समय पूछा भी था कि सक्रिय खिलाड़ियों को पर्यवेक्षक नहीं बनाने के बारे में क्या नियम है. उस समय मुझे बताया गया कि मैं यह पद स्वीकार कर लूं.

यह भी पढ़ें: ईओसी का रूस के 3 बॉब्सलेडर एथलीटों पर आजीवन प्रतिबंध

मैने मंत्रालय के आग्रह पर ऐसा किया और मैं किसी अनावश्यक विवाद में नहीं पड़ना चाहती जब मैने वह पद मांगा ही नहीं था.’ तत्कालीन खेलमंत्री विजय गोयल ने मार्च में 12 राष्ट्रीय पर्यवेक्षक नियुक्त किये थे जिनमें से एक मैरीकॉम थी. इस सूची में ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता निशानेबाज अभिनव बिंद्रा, दोहरे ओलंपिक पदक विजेता पहलवान सुशील, मुक्केबाज अखिल कुमार शामिल थे.

मैरीकॉम ने कहा, ‘मुझे कोई मलाल नहीं है’
सुशील और मैरीकॉम अभी भी सक्रिय खिलाड़ी हैं जबकि अखिल अब अमैच्योर मुक्केबाज नहीं हैं. मैरीकॉम ने कहा, ‘मेरी इसमें कभी भी रूचि नहीं थी लेकिन मैने मंत्रालय के आग्रह पर इसे स्वीकार किया. मेरे पास करने के लिए बहुत कुछ है. मुझे कोई मलाल नहीं है.'