close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

MP के 'उसेन बोल्ट' का देशभर में हल्ला, VIDEO देख खेलमंत्री रिजिजू बोले- 'कोई इसे मेरे पास लाओ'

रंग लाई धावक रामेश्वर गुर्जर की मुहिम, खेलमंत्री किरेन रिजिजू ने दिया आश्वासन

MP के 'उसेन बोल्ट' का देशभर में हल्ला, VIDEO देख खेलमंत्री रिजिजू बोले- 'कोई इसे मेरे पास लाओ'
दावा किया जा रहा है कि रामेश्वर गुर्जर ने 11 सेकंड में 100 मीटर की दूरी नाप ली.

भोपाल/शिवपुरी: मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले के रहने वाले धावक रामेश्वर गुर्जर का नंगे पैर दौड़ने वाला वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो चुका है. इस वीडियो ने राज्य सरकार के बाद केंद्र सरकार के खेल और युवा कल्याण मंत्री किरेन रिजिजू (Kiren Rijiju) का ध्यान अपनी ओर खींचा है. रिजिजू ने धावक को एथलेटिक अकादमी में रखने की व्यवस्था करने का आश्वासन दिया है.

मोदी सरकार में खेल मंत्रालय का जिम्मा संभाल रहे मंत्री रिजिजू ने मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को ट्विटर पर टैग करते हुए लिखा, ''शिवराज जी, किसी से कहें कि इसे (धावक) मेरे पास ले आए. मैं उसे एक एथलेटिक अकादमी में रखने की व्यवस्था करूंगा.''

दरअसल, बच्चों में मामा के नाम से लोकप्रिय मध्यप्रदेश के मुखिया रह चुके शिवराज सिंह चौहान ने धावक रामेश्वर गुर्जर को अच्छा मौका और मंच दिलवाने के लिए ट्विटर के जरिए  खेल मंत्री किरेन रिजिजू से समर्थन मांगा था.

10वीं कक्षा तक पढ़ाई
रामेश्वर गुर्जर ने 10वीं कक्षा तक पढ़ाई की है. उनके परिवार में माता-पिता और पांच भाई-बहन हैं. पूरा परिवार खेती-किसानी करता है. रामेश्वर ने परिवार की आर्थिक स्थिति कमजोर होने के कारण आगे पढ़ाई नहीं की.

राज्य सरकार की मदद
उधर, राज्य के खेल मंत्री जीतू पटवारी ने भी रामेश्वर को भोपाल में बेहतर प्रशिक्षण देने की बात कही है. रामेश्वर गुर्जर (19) धावक हैं और वह नंगे पांव सड़क पर दौड़ते हैं. उनका यह वीडियो पिछले कुछ दिनों से वायरल हो रहा है. बताया जाता है कि रामेश्वर 100 मीटर की दौड़ 11 सेकेंड में पूरी करते हैं. पटवारी ने मंगलवार को रामेश्वर को भोपाल आमंत्रित करते हुए अधिकारियों से कहा, "ऐसी प्रतिभा को बेहतर खेल सुविधा, अच्छे शूज और प्रशिक्षण दिया जाए, तो वह 100 मीटर की दूरी नौ सेकेण्ड में ही तय कर सकता है."

खेल मंत्री ने रामेश्वर की तरह उभरती ग्रामीण खेल प्रतिभाओं को प्रोत्साहित करने के लिए हरसंभव सहयोग का भरोसा दिलाया. रामेश्वर खेल मंत्री के आमंत्रण से खुश है. रामेश्वर का कहना है कि उन्हें एक मौका भर मिल जाए, तो किसी भी रेस में प्रदेश और देश का नाम रोशन कर के रहेंगे.