एईएस

बिहार : बांका में चमकी बुखार का कहर, एक की मौत, दूसरे की स्थिति गंभीर

मृतक को परिजनों ने पहले गांव में ही डॉक्टर से बेटी का इलाज कराया. स्वास्थ्य में सुधार न होता देख परिजनों ने एक प्राइवेट अस्पताल में उपचार कराया. 

Aug 29, 2019, 07:58 AM IST

लीची पर अफवाह से केंद्र सरकार सतर्क, काम पर जुटे लीची वैज्ञानिक

कृषि वैज्ञानिकों का दावा है कि लीची पोषक तत्वों से भरपूर फल है. यह खाने के लिए पूरी तरह सुरक्षित है. दरअसल, लीची के सबसे ज्यादा बागान बिहार के पांच-छह जिलों में फैले हुए हैं.

Jun 28, 2019, 11:47 AM IST

केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे बोले, 'बिहार में चमकी बुखार से हो रही मौतों में हुई कमी'

बिहार में पिछले कई वर्षो से गर्मी के मौसम में बच्चों के लिए काल बनकर आ रहा चमकी बुखार या एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) बीमारी का कहर इस साल भी जारी है.

Jun 25, 2019, 05:02 PM IST

बिहार: चमकी बुखार पर केंद्र और बिहार सरकार को 'सुप्रीम' निर्देश

बिहार में चमकी बुखार से बच्चों की मौत को लेकर सुप्रीम कोर्ट काफी गंभीर है. सोमवार को इस मसले पर हुई सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्य सरकार को 7 दिन के अंदर रिपोर्ट सौंपने का आदेश दिया है. मसले पर अगली सुनवाई 10 दिन के बाद होगी. वहीं मुजफ्फरपुर में CJM कोर्ट ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री और राज्य सरकार के स्वास्थ्य़ मंत्री के खिलाफ जांच के आदेश दिए हैं.

Jun 24, 2019, 07:45 PM IST

ख़बर बिहार : आज की सबसे बड़ी ख़बरें, 23 जून

नर कंकाल मिलने से SKMCH फिर से विवादों में घिर गया है. दावा किया जा रहा है कि अज्ञात शवों को अस्पताल परिसर के पीछे ही जला दिया जाता था. लेकिन ये किसके आदेश पर ऐसा होता था, बड़ा सवाल है जिसका जवाब अभी तक नहीं मिला है. कुछ लोग हैं जो ये भी दावा कर रहे हैं कि सीएम के दौरे से ठीक पहले बड़ी संख्या में शवों को यहां जलाया गया था. स्वास्थ्य विभाग को इस मसले पर सामने आना चाहिए, लेकिन स्वास्थ्य मंत्री गायब हो गए हैं.

Jun 23, 2019, 07:45 PM IST

मुजफ्फरपुर: बीमार सिस्टम कैसे करेगा इलाज ?

चमकी ने न सिर्फ आमलोगों को बल्कि मेडिकल साइंस तक को चौंका कर रख दिया है. 21वीं सदी के दौर में भी ये जानलेवा बीमारी अब तक रहस्यमयी बनी हुई है. मौत की बुखार को लेकर जितनी मुंह उतनी बातें हो रही हैं. कोई इसकी वजह लीची बता रहा हौ तो कोई कुपोषण का दंश.

Jun 22, 2019, 08:00 PM IST

ख़बर बिहार : देखिए आज की सबसे बड़ी ख़बरें, 22 जून

लंबे इंतजार के बाद दक्षिण-पश्चिम मानसून बिहार में प्रवेश कर गया। मानसून की पहली बारिश पूर्णिया में हुई. राजधानी समेत प्रदेश के अन्य इलाकों में भी आंधी चलने के साथ ही फुहारें पड़ीं.बारिश का सबसे अधिक इंतजार मुजफ्फरपुर जिले को था, वहां भी बारिश शुरू हो चुकी है.दरअसल ये इंतजार इसलिए था कि बारिश के साथ ही बच्चों में जानलेवा चमकी बुखार का खतरा कम होने लगता है.

Jun 22, 2019, 07:54 PM IST

पटना: बच्चों की मौत के सवाल पर भड़के CM नीतीश

पटना में रामविलास पासवान के नामांकन के दौरान सीएम नीतीश कुमार पत्रकारों पर भड़क गए. इधर सीएम का भड़कना था कि सुरक्षा कर्मियों ने पत्रकारों के साथ बदसलूकी शुरू कर दी.

Jun 21, 2019, 11:18 PM IST

बात बेबाक । 21 जून- CM से 'दो लफ्ज़ों' की आस ।। पार्ट 2

मुजफ्फरपुर हर पल चीख रहा है, आंसूओं का सैलाब उमड़ रहा है, लेकिन उसकी सिसकियां सुनने वाला कोई नहीं. नेता और अधिकारी आते हैं, चले जाते हैं लेकिन मंजर बदलनेवाला कोई नहीं. सूबे के मुखिया नीतीश कुमार को उनकी कितनी फिक्र है जरा वो देखिए, एक तो मासूमों की मौत पर वो ढांढस के 2 बोल भी नहीं बोल पाए. ऊपर से कोई सवाल करने की जहमत उठा रहा है तो उसे प्रोटोकोल फॉलो करने की नसीहत दे रहे हैं.

Jun 21, 2019, 10:00 PM IST

बात बेबाक । 21 जून- CM से 'दो लफ्ज़ों' की आस ।। पार्ट 1

मुजफ्फरपुर हर पल चीख रहा है, आंसूओं का सैलाब उमड़ रहा है, लेकिन उसकी सिसकियां सुनने वाला कोई नहीं. नेता और अधिकारी आते हैं, चले जाते हैं लेकिन मंजर बदलनेवाला कोई नहीं. सूबे के मुखिया नीतीश कुमार को उनकी कितनी फिक्र है जरा वो देखिए, एक तो मासूमों की मौत पर वो ढांढस के 2 बोल भी नहीं बोल पाए. ऊपर से कोई सवाल करने की जहमत उठा रहा है तो उसे प्रोटोकोल फॉलो करने की नसीहत दे रहे हैं.

Jun 21, 2019, 09:36 PM IST

'एईएस बीमारी का लीची से कोई संबंध नहीं: राष्ट्रीय लीची अनुसंधान केंद्र

लीची पूरे देश और दुनिया में सैकड़ों सालों से खाई जा रही है. लेकिन यह बीमारी कुछ सालों से मुजफ्फरपुर में बच्चों में हो रही है. इस बीमारी को लीची से जोड़ना झूठा और भ्रामक है. 

Jun 21, 2019, 09:02 PM IST

ख़बर बिहार : आज की सबसे बड़ी ख़बरें, 21 जून

चमकी बुखार का कहर अब बिहार के 16 जिलों तक जा पहुंचा है. वहीं इस महामारी से मासूमों की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा. इन सबके बीच बिहार में चमकी बुखार से जान गंवाने वाले बच्चों को आज संसद में श्रद्धांजलि दी गयी और बच्चों की मौत का मामला सदन के पटल पर उठा.

Jun 21, 2019, 07:45 PM IST

बात बेबाक । 20 जून-'मौत' पर गरमाई सियासत

चमकी बुखार का कहर बिहार में लगातार बना हुआ. इसके साथ ही बिहार में सियासी बुखार भी चढ़ता जा रहा है.

Jun 20, 2019, 11:45 PM IST

ख़बर बिहार : आज की सबसे बड़ी ख़बरें, 20 जून

बिहार में चमकी बुखार से मासूम लगातार दम तोड़ रहे हैं. मौत का बुखार बिहार में अबतक 150 बच्चों की जान ले चुका है. लेकिन, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार खामोश है...मासूमों की मौत पर कुछ नहीं बोल रहे. बच्चों की मौत के सवाल पर आज भी चुप रहे मुख्यमंत्री...ऐसे में सवाल उठता है कि जिस राज्य में तीन हफ्ते के भीतर 150 मासूमों की जान गई है, वहां के सीएम-डिप्टी आखिर मौन क्यों धारण किए हुए हैं?

Jun 20, 2019, 10:00 PM IST

बिहार: चमकी बुखार से मौत का सच क्या है ?

चमकी बुखार से बिहार में बच्चों की मौत का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है. लापरवाही और जागरुकता के अभाव में बच्चों की जान जा रही है. ज़ी बिहार-झारखंड ने इस बीमारी के तह में जाने की कोशिश की है. हमारो ग्राउंड रिपोर्ट में देखिए वो सच जो अबतक आपने नहीं देखा है.

Jun 20, 2019, 07:45 PM IST

बात बेबाक । 19 जून- 'मौत' का बुखार, नाकाम सरकार ?।। पार्ट 2

चमकी बुखार ने मुजफ्फरपुर में मातम पसार दिया है. मुजफ्फरपुर में इस बीमारी से 114 बच्चों की मौत हो गई है. मासूमों की मौत का आकड़ा पूरे बिहार में 142 है. इस बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है

Jun 19, 2019, 11:00 PM IST

बात बेबाक । 19 जून- 'मौत' का बुखार, नाकाम सरकार ?।। पार्ट 1

चमकी बुखार ने मुजफ्फरपुर में मातम पसार दिया है. मुजफ्फरपुर में इस बीमारी से 114 बच्चों की मौत हो गई है. मासूमों की मौत का आकड़ा पूरे बिहार में 142 है. इस बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है.

Jun 19, 2019, 11:00 PM IST

ख़बर बिहार : आज की सबसे बड़ी ख़बरें, 19 जून

बिहार में चमकी बुखार से अभी तक 140 से ज्यादा बच्चों की मौत हो चुकी है. विशेषज्ञ डॉक्टर मानते हैं कि मामले को लेकर लापरवाही बरती गई है. जानकार मानते हैं कि अगर दो साल पहले से जागरूकता अभियान चलाया जाता तो इतनी बड़ी कैजुअल्टी नहीं होती.

Jun 19, 2019, 09:27 PM IST

बिहार: बच्चों की मौत का जिम्मेदार कौन ?

एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम(AES) या चमकी बुखार से मासूम की मौत का सिलसिला जारी है. 19 जून तक पूरे बिहार में 142 बच्चों की मौत की पुष्टि हुई है. अकेले मुजफ्फरपुर में 114 बच्चों को मौत ने अपनी आगोश में ले लिया है.

Jun 19, 2019, 08:00 PM IST

लीची खाने से नहीं हुई कोई मौत: डॉक्टर

एईएस से अब तक 100 से अधिक बच्चों की मौत हो चुकी है. पहले लीची खाने को इसका कारण बताया जा रहा था. लेकिन डॉक्टरों ने यह साफ किया कि लीची खाने से कोई मौत नहीं हुई. सरकार इस बीमारी की वजह खोज रही है. इन अफवाहों से लीची बाजार पर बुरा असर पड़ा है.

Jun 19, 2019, 12:49 PM IST