X

खान-पान News

alt
शारदीय नवरात्र, 13 अक्टूबर से शुरु हो रहे हैं। क्या आप भी पूरे 9 दिन का व्रत रखना चाह रहे हैं? तो इसके लिये सबसे पहले यह सोचें कि आपको व्रत किस तरह रखना है? फलाहार करना है या फिर तरल पदार्थ जैसे दूध और जूस पीकर व्रत रखना है। वैसे भी इस मौसम में, शरीर का डिटॉक्सीफाई होना बहुत ज़रुरी है। यानि आपके शरीर के सारे विषैले पदार्थ बाहर निकल जायें। न्यूट्रीशियन और डायट एक्सपर्ट दीपा शर्मा के मुताबिक' वर्षा और शीत ऋतुओं के संधिकाल होने की वजह से, इस समय पित्त बढ़ता है। पाचन तंत्र कमज़ोर होता है। व्रत से न सिर्फ, पित्त का प्रकोप कम होता है, बल्कि पाचन तंत्र भी सुरक्षित रहता है। अगर आप 9 दिन का व्रत रख रहे हैं, तो इसके लिये आपको इन बातों का ध्यान ज़रूर रखना चाहिये। 
Oct 5,2015, 9:46 AM IST
alt
शारदीय नवरात्र, 13 अक्टूबर से शुरु हो रहे हैं। शरद ऋतु में, बीमारियां होने की संभावना ज़्यादा रहती है। इस मौसम में साफ-सफाई और खान-पान को लेकर, बहुत सावधान रहना चाहिये। नवरात्र के 9 दिन के व्रत भी, सेहत के लिये, किसी वरदान से कम नहीं। इन 9 दिनों में, शरीर के सारे विषैले तत्व, बाहर निकल जाते हैं। वैसे भी शरद ऋतु को रोगों की माता कहा गया है। इसे लेकर संस्कृत में कहावत भी है कि रोगाणाम् शारदी माता: यानि शरद ऋतु रोगों की माता है। लेकिन कई बार, नवरात्र व्रत में, उल्टा-सीधा खाने से, सेहत खराब हो जाती है। न्यूट्रीशियन और डायट एक्सपर्ट दीपा शर्मा के मुताबिक' वर्षा और शीत ऋतुओं के संधिकाल होने की वजह से, इस समय पित्त बढ़ता है। पाचन तंत्र कमज़ोर होता है। व्रत से न सिर्फ, पित्त का प्रकोप कम होता है, बल्कि पाचन तंत्र भी सुरक्षित रहता है। अगर आप 9 दिन का व्रत रख रहे हैं, तो इसके लिये आपको इन बातों का ध्यान ज़रूर रखना चाहिये। 
Oct 4,2015, 14:28 PM IST

Trending news