महापरिनिर्वाण दिवस

बाबा साहेब की चैत्यभूमि पर शीश झुकाने आएंगे CM उद्धव? 40 साल से परहेज करता रहा है ठाकरे परिवार

बाला साहेब ठाकरे साल 1978 में चैत्य भूमि पर आए थे, लेकिन इसके बाद से उनकी राजनीतिक विरासत को संभालने वालों को चैत्य भूमि की कोई सुध नहीं रही. हालांकि शिवसेना से अलग होकर अपनी नई पार्टी बनाने वाले राज ठाकरे ने पार्टी के झंडे में आंबेडकरी विचार धारा को ध्यान में रखकर नीला रंग जरूर समाहित किया.

Dec 5, 2019, 08:58 PM IST

बाबा साहब मानते थे कि गैरबराबरी दूर करने के लिए राज्य को सख्त कदम उठाने चाहिए

भारतीय समाज में सदियों से मानवीय गरिमा का हनन होता आया है, जहां मनुष्य ही मनुष्य से घृणा रखे हुए है. ऐसे में उनका मानना था कि सामाजिक और आर्थिक असमानता एक राष्ट्र के तौर पर भारत को सशक्त नहीं बनाती हैं. 

Dec 6, 2018, 07:36 PM IST

बीआर अंबेडकर की 60वीं पुण्यतिथि पर 155 दलितों ने अपनाया बौद्ध धर्म

डॉक्टर बीआर अंबेडकर की 60वीं पुण्यतिथि पर यहां एक कार्यक्रम में 155 दलितों ने बौद्ध धर्म अपना लिया। हालांकि बानसकंठा के जिला कलेक्टर ने कहा कि प्रशासन ने इस धर्म परिवर्तन कार्यक्रम के लिए अनुमति नहीं दी थी। इन दलितों में से ज्यादातर बानसकंठा से और कुछ कच्छ जिले से हैं जिन्होंने बानसकंठा जिला दलित संगठन द्वारा यहां रामपीर मंदिर में आयोजित कार्यक्रम में बौद्ध धर्म अपनाया।

Dec 7, 2016, 11:40 AM IST