close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

babulal dahiya

पद्मश्री बाबूलाल दाहिया : देसी अन्नों का देहाती विश्वामित्र

दाहिया जी को यह सम्मान पारंपरिक बीजों के संरक्षण और उनकी खेती के विस्तार को प्रोत्साहन देने के लिए मिला है. वे पिछले पंद्रह सालों से देसी बीजों की तलाश में पूरा देश घूम चुके हैं. बाबूलाल एक साथ दस काम ओढ़े हुए चलते हैं.

Jan 30, 2019, 04:43 PM IST

पोस्टमास्टर से ‘खेती के मास्टर’ से पद्मश्री दाहिया

सरकारी पोस्टमास्टर की नौकरी से रिटायर होने के बाद उन्होंंने अपने उस काम को संवारा, जिसके लिए उन्हें देश के प्रतिष्ठित अवार्ड के लिए चुना गया है. यह केवल दाहिया का नहीं देश के लाखों लोगों का सम्मान है.

Jan 28, 2019, 12:39 AM IST