mahaparinirvan diwas

बाबा साहेब की चैत्यभूमि पर शीश झुकाने आएंगे CM उद्धव? 40 साल से परहेज करता रहा है ठाकरे परिवार

बाला साहेब ठाकरे साल 1978 में चैत्य भूमि पर आए थे, लेकिन इसके बाद से उनकी राजनीतिक विरासत को संभालने वालों को चैत्य भूमि की कोई सुध नहीं रही. हालांकि शिवसेना से अलग होकर अपनी नई पार्टी बनाने वाले राज ठाकरे ने पार्टी के झंडे में आंबेडकरी विचार धारा को ध्यान में रखकर नीला रंग जरूर समाहित किया.

Dec 5, 2019, 08:58 PM IST