40,000 लोगों का क्रेडिट कार्ड डाटा हुआ चोरी, पढ़ें आपका भी शामिल तो नहीं

चाइनीज स्मार्टफोन कंपनी वन प्लास (OnePlus) के प्रोडक्ट खरीदने वाले ग्राहकों के लिए बुरी खबर है. ऐसे ग्राहकों के क्रेडिट कार्ड की जानकारी चोरी होने का मामला सामने आया है. 

40,000 लोगों का क्रेडिट कार्ड डाटा हुआ चोरी, पढ़ें आपका भी शामिल तो नहीं
वन प्लस ने यूजर्स से अपनी क्रेडिट कार्ड के स्टेटमेंट चेक करने को कहा है.

नई दिल्ली: चाइनीज स्मार्टफोन कंपनी वन प्लास (OnePlus) के प्रोडक्ट खरीदने वाले ग्राहकों के लिए बुरी खबर है. ऐसे ग्राहकों के क्रेडिट कार्ड की जानकारी चोरी होने का मामला सामने आया है. खुद OnePlus ने इसकी पुष्टि की है. कंपनी का कहना है कि साइबर हमले की वजह से ऐसा हुआ. दरअसल, कंपनी की वेबसाइट oneplus.net को हैक किया गया था. जहां से करीब 40 हजार ग्राहकों के क्रेडिट कार्ड की जानकारी लीक हुई हैं. कंपनी के मुताबिक, ऐसे सभी ग्राहकों को ई-मेल भेजा गया है जिनके क्रेडिट कार्ड की जानकारी चोरी होने की आशंका है. 

कंपनी ने ग्राहकों को दी सलाह
चीनी कंपनी वन प्लस ने अपने यूजर्स से कहा है कि वो अपने क्रेडिट कार्ड के स्टेटमेंट चेक करें. अगर किसी तरह की संदेहस्पद ट्रांजैक्शन पाई जाती है तो उसकी जानकारी तुरन्त कंपनी को दें. कंपनी ने यह भी कहा है कि ग्राहक वन प्लस की सपोर्ट टीम से भी मदद ले सकते हैं. कंपनी के बयान के मुताबिक वह अपने प्लेटफॉर्म को ज्यादा सुरक्षित बनाने के लिए भी काम कर रही है. 

ये भी पढ़ें: 'दोस्‍त' मोदी को डोनाल्ड ट्रंप का बड़ा झटका, देश को होने वाला है ये नुकसान

क्रेडिट कार्ड पेमेंट की बंद
वन प्लस ने 40000 ग्राहकों को क्रेडिट कार्ड डीटेल्स चोरी होने पर क्रेडिट कार्ड पेमेंट को बंद कर दिया है. कंपनी का कहना है कि ऑनलाइन स्टोर से प्रोडक्ट खरीदते वक्त कोई भी कस्टमर क्रेडिट कार्ड से पेमेंट नहीं कर पाएगा. हालांकि, जांच होने तक ही यह पेमेंट ऑप्शन बंद किया गया है. थर्ड पार्टी सिक्योरिटी एजेंसी इस मामले की जांच में जुटी है. 

ये भी पढ़ें: मोदी सरकार के एक फैसले से JIO ने कमाए 500 करोड़, ये है पूरा मामला

कंपनी ने दी जानकारी
वन प्लस ने कंपनी के ऑनलाइन फोरम में लिखा, "हमारे एक सिस्टम पर हमला हुआ था और पेमेंट पेज कोड में गलत इरादे से एक स्क्रिप्ट डाल दी गई थी जो क्रेडिट कार्ड की जानकारी भरे जाने के दौरान इसे भांपती रहती थी." उन्होंने आगे लिखा, "यह धोखाधड़ी वाली स्क्रिप्ट धीमे-धीमे काम करती थी और सीधे यूजर के ब्राउजर से डाटा हासिल कर उसे भेजती रहती थी. इसके बाद से इसे हटा दिया गया."

ये भी पढ़ें: 85 रुपए होने वाला है पेट्रोल का दाम, जानिए एक महीने में कितना महंगा हुआ!

सिर्फ ऐसे यूजर्स होंगे प्रभावित
कंपनी का कहना है कि जिन यूजर्स ने मध्य नवंबर 2017 से लेकर 11 जनवरी 2018 के बीच वेबसाइट पर क्रेडिट कार्ड की नई जानकारी डाली है, सिर्फ ऐसे ही यूजर्स प्रभावित हुए हैं. अगर आपने पहले से सुरक्षित क्रेडिट कार्ड से लेनदेन किया है या फिर 'पेपल के जरिये क्रेडिट कार्ड' या पेपल डायरेक्टली से भुगतान किया, तो आपको इससे प्रभावित नहीं होना चाहिए.