close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ब्रिटेन: ब्रेक्जिट को लेकर टाला गया मतदान जनवरी में होगा, PM टेरीजा ने जीता विश्वास मत

टेरीजा मे की पार्टी के 200 में से 117 सांसदों ने उनका समर्थन किया था.

ब्रिटेन: ब्रेक्जिट को लेकर टाला गया मतदान जनवरी में होगा, PM टेरीजा ने जीता विश्वास मत
फोटो साभार : PTI

लंदन: ब्रिटेन में ब्रेक्जिट को लेकर इस हफ्ते टाला गया संसदीय मतदान अब जनवरी में होगा. ब्रिटेन की संसदीय शेड्यूल की ओर से गुरुवार को जारी एक विज्ञप्ति में यह बात कही गई है. यह फैसला प्रधानमंत्री टेरीजा मे के ब्रेक्जिट पर यूरोपीय संघ के नेताओं से आश्वासन मांगने के लिये ब्रसेल्स पहुंचने के समय लिया गया. टेरीजा मे ने बुधवार को अपने नेतृत्व को लेकर संसद में पेश विश्वास मत जीत लिया था. मे की पार्टी के 200 में से 117 सांसदों ने उनका समर्थन किया था. मे ब्रसेल्स में यूरोपीय परिषद सम्मेलन में यूरोपीय संघ के नेताओं से आयरलैंड से जुड़े मुद्दे पर चर्चा करेंगी. 

हालांकि यह स्पष्ट हो गया है कि यूरोपीय संघ से निकलने के समझौते पर जनवरी में मतदान होगा. क्रिसमस के मौके पर ब्रिटेन की संसद में अवकाश के चलते यह मतदान जनवरी तक के लिये टाला गया है. बता दें कि टेरीजा मे ने विवादित ब्रेक्जिट समझौते को लेकर बुधवार को अपने नेतृत्व में सांसदों के भरोसे को कायम रखते हुए अहम विश्वास मत जीत लिया था. हालांकि, इसके लिए उन्हें बागी सांसदों को यह तसल्ली देनी पड़ी कि 2022 के अगले आम चुनावों में वह पार्टी का नेतृत्व नहीं करेंगी. 

प्रधानमंत्री पद पर बने रहने के लिए भले ही उन्हें अपनी पार्टी की समर्थन मिल गया हो, लेकिन कंजर्वेटिव पार्टी के एक तिहाई से ज्यादा सासंदों ने उनके खिलाफ मत डाले थे. यह उनके उस कड़े संघर्ष को रेखांकित करता है जिसका सामना उन्हें अपने ब्रेक्जिट समझौते को संसद से पारित कराने में करना पड़ रहा है. बुधवार रात हुए गोपनीय मतदान में कंजर्वेटिव पार्टी के कुल 317 सांसदों में से 200 ने उनके पक्ष में वोट दिए जबकि 117 मत उनके खिलाफ पड़े.

जून 2016 में 28 सदस्यीय यूरोपीय संघ से बाहर होने के लिए ब्रिटेन द्वारा डाले गए मत के बाद से प्रधानमंत्री पद पर काबिज मे के नेतृत्व को अब कम से कम एक साल के लिए किसी तरह की चुनौती का सामना नहीं करना पड़ेगा. उनकी ब्रेक्जिट नीति से आक्रोशित उनकी पार्टी के 48 सांसदों ने अविश्वास पत्र दिया था जिसके बाद यह विश्वास मत कराया गया. इन सांसदों का कहना है कि मे की ब्रेक्जिट नीति 2016 के जनमत संग्रह के परिणामों को धता बताती है. 

मे ने नतीजे घोषित होने के तुरंत बाद डाउनिंग स्ट्रीट के बाहर एक बयान में कहा, ‘‘मैं समर्थन के लिए आभारी हूं, मेरे कई सहयोगियों ने मेरे खिलाफ वोट दिया और उन्होंने जो कहा मैंने उसे सुना.’’ उन्होंने कहा, ‘‘इस वोट के बाद अब हमें ब्रिटिश लोगों के लिए बेक्जिट और इस देश के लिए बेहतर भविष्य बनाने के काम पर ध्यान लगाने की जरुरत है.’’ मे ने स्पष्ट किया कि वह जब गुरुवार को यूरोपीय परिषद की बैठक के लिए ब्रसेल्स जाएंगी तो उनकी मंशा अपने ब्रेक्जिट समझौते के विवादित आयामों पर यूरोपीय संघ के साथ बातचीत करने की होगी.

(इनपुट भाषा से)