USA: लॉस एंजिल्स में Corona की टेस्टिंग हुई कम, विशेषज्ञों ने कहा-जनता के साथ धोखा

जांच की संख्या बढ़ाने के एक साल तक चले प्रयास के बाद देशभर में संस्थाओं को जांच की मांग में तेजी से कमी देखने को मिल रही है. जांच स्थल बंद किए जा रहे हैं और जांच के उपकरण वापस करने की कोशिश की जा रही है.

USA: लॉस एंजिल्स में Corona की टेस्टिंग हुई कम, विशेषज्ञों ने कहा-जनता के साथ धोखा
तस्वीर: Reuters

वाशिंगटन: अमेरिका में कोविड-19 का 'हॉटस्पॉट' बन चुके लॉस एंजिल्स काउंटी में महज कुछ हफ्ते पहले प्रति सप्ताह 3,50,000 से ज्यादा लोगों की कोरोना वायरस जांच हो रही थी, लेकिन अब काउंटी के अधिकारियों का कहना है कि जांच की गति बहुत कम हो गयी है. सरकारी सहायता से चलने वाले 180 से अधिक जांच स्थल अपनी क्षमता से एक तिहाई पर काम कर रहे हैं. देश में जांच अभियान का नेतृत्व करने वाले डॉ क्लेमेंस होंग ने कहा, 'यह चौंकाने वाला है कि कितनी जल्दी हम लोग सौ मील प्रति घंटा की रफ्तार से घट कर 25 मील प्रति घंटा की गति पर पहुंच गए हैं.'

कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन को लेकर चिंता

जांच की संख्या बढ़ाने के एक साल तक चले प्रयास के बाद देशभर में संस्थाओं को जांच की मांग में तेजी से कमी देखने को मिल रही है. जांच स्थल बंद किए जा रहे हैं और जांच के उपकरण वापस करने की कोशिश की जा रही है. विशेषज्ञों का मानना है कि अमेरिका में कोविड-19 (Covid-19) से पांच लाख लोगों की जान जाने के बाद महामारी का प्रकोप कम हो रहा है. हालांकि विशेषज्ञों को कोरोना वायरस (Coronavirus) के नए प्रकार की चिंता भी है.

ये भी पढ़ें: सरकार ने प्राइवेट अस्पतालों में 250 रुपये तय की कोरोना वैक्सीन की कीमत

कोरोना टेस्टिंग में 28 फीसदी की कमीं

होंग ने कहा, 'सभी लोग त्वरित और व्यापक टीकाकरण के प्रति आशावान हैं लेकिन मुझे नहीं लगता कि ऐसा समय आ गया है कि हम अपना बचाव करना बंद कर दें.' उन्होंने कहा, 'संक्रमण के अगले चरण के प्रति हमारी जनता अभी प्रतिरक्षात्मक नहीं हुई है.' अमेरिका में 15 जनवरी को सर्वाधिक जांच हुई थी और उस दौरान दो लाख से अधिक जांच प्रतिदिन हो रही थी. अब प्रतिदिन होने वाली जांच में 28 प्रतिशत तक गिरावट आई है.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.