रूस के राष्ट्रपति से बिना वजह बहस नहीं करना चाहते डोनाल्ड ट्रंप: व्हाइट हाउस

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का मानना है कि पिछले वर्ष हुए राष्ट्रपति चुनाव में रूस के कथित हस्तक्षेप को लेकर रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से बिना वजह बहस में पड़ना उनके लिए फायदेमंद नहीं है. 

रूस के राष्ट्रपति से बिना वजह बहस नहीं करना चाहते डोनाल्ड ट्रंप: व्हाइट हाउस
ट्रंप का अब भी यह मानना है कि चुनाव प्रक्रिया के दौरान डेमोक्रेट्स के साथ मिलीभगत हुई थी.(फाइल फोटो)

वॉशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का मानना है कि पिछले वर्ष हुए राष्ट्रपति चुनाव में रूस के कथित हस्तक्षेप को लेकर रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से बिना वजह बहस में पड़ना उनके लिए फायदेमंद नहीं है. व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने आज संवाददाताओं से कहा,‘‘जैसा कि राष्ट्रपति ने पहले भी कई बार कहा है कि वह नहीं मानते कि व्लादिमीर पुतिन के साथ बिना वजह बहस में पड़ना में उनके लिए सही है. ’’बहरहाल, ट्रंप का मानना है कि कुछ क्षेत्रों में दोनों देश मिलकर काम कर सकते हैं.

सैंडर्स ने कहा,‘‘चाहे सीरिया हों, उत्तर कोरिया या अन्य बड़े वैश्विक मुद्दे हों, राष्ट्रपति का ध्यान इन पर हैं और वह उन रास्तों की तलाश कर रहे हैं जिससे हम अमेरिका के हितों में उनके साथ मिलकर काम कर सकते हैं.’’उन्होंने कहा कि ट्रंप का अब भी यह मानना है कि चुनाव प्रक्रिया के दौरान डेमोक्रेट्स के साथ मिलीभगत हुई थी. 

यह भी पढ़े- जी20 समिट: पुतिन और डोनाल्ड ट्रंप के बीच 2 घंटे की मुलाक़ात, अमेरिकी चुनाव में रूस के दख़ल का मुद्दा उठा 

अमेरिका में हुए चुनाव में रूसी हस्तक्षेप मामले को लेकर डेमोक्रेट और रिपब्लिकन सदस्यों के बीच आपसी मतभेद के चलते कांग्रेस में इस मामले की जांच की जा रही है. चुनाव में रूसी हस्तक्षेप की पुष्टि होने से ट्रंप की चुनावी जीत पर खतरे के बादल मंडरा सकते हैं.

ट्रंप ने अपने कार्यकाल के 100 दिन पूरे होने पर सीबीएस को दिए एक साक्षात्कार में अमेरिकी खुफिया प्रमुख के इस निष्कर्ष को खारिज कर दिया कि रूस ने डेमोक्रेटिक पार्टी के कम्प्यूटरों और सूचनाओं को हैक किया था. उन्होंने कहा, ‘यह चीन हो सकता है या कई अलग-अलग समूह हो सकते हैं.’ ट्रंप ने ट्विटर पर कहा, ‘रूस की फर्जी कहानी चुनाव में हार का बचाव करने का डेमोक्रेट्स का बहाना है.’