अमेरिका: 9/11 की बरसी पर भावपूर्ण श्रद्धांजलि, पीड़ितों के लिए नया स्मारक

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उपराष्ट्रपति माइक पेंस उन दो स्थलों पर कार्यक्रमों का नेतृत्व करेंगे जहां 11 सितंबर,2001 को अपहरण के बाद दोनों विमान विमान टकराए थे. 

अमेरिका: 9/11 की बरसी पर भावपूर्ण श्रद्धांजलि, पीड़ितों के लिए नया स्मारक
ट्रंप ने पिछले साल बरसी के दौरान कट्टरंपथियों को चेतावनी दी थी कि अमेरिका भयभीत नहीं हो सकता.(फाइल फोटो)

न्यूयार्क: भावभीनी श्रद्धांजलि, स्वयंसेवी परियोजनाएं और पीड़ितों को एक नया स्मारक समर्पित कर अमेरिकी 9/11 की बरसी मनाएंगे. जबकि एक साल पहले देश के इस सबसे बड़े शहर पर हुए दो हमले आतंकवाद के स्थायी खतरे को लेकर चेता चुके हैं. देबरा सिडोनिओस की तरह 9/11 के हजारों पीड़ितों के रिश्तेदार, हमले में बचे लोग, राहतकर्मी और अन्य लोग मंगलवार को वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर आयोजित बरसी में शामिल होंगे.  वह मेमोरियल प्लाजा (स्मारक स्थल) में अपने चचेरे भाई अग्निशमन कर्मी पीटर कैरोल के सम्मान के लिए अपने परिवार के साथ पहुंचेगी.  उसने कहा "निराश होकर सबके आसपास बैठे रहने के बजाय यह याद करने का एक अच्छा तरीका है. "

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उपराष्ट्रपति माइक पेंस उन दो स्थलों पर कार्यक्रमों का नेतृत्व करेंगे जहां 11 सितंबर,2001 को अपहरण के बाद दोनों विमान विमान टकराए थे.  यह अमेरिका की धरती पर हुआ सबसे भयानक आतंकी हमला था. राष्ट्रपति ट्रंप और प्रथम महिला मेलेनिया ट्रंप ने पेंसिल्वेनिया के शेंजिवले के पास एक मैदान में 11 सिंतबर की स्मृति में आयोजित एक धार्मिक कार्यक्रम में भाग लेने की योजना बनाई है. 

यहां शनिवार को "टॉवर ऑफ वायस" को समर्पित किया गया था.  पेंस पेटागन में आयोजित एक अनुष्ठान में शामिल होंगे. ट्रंप ने पिछले साल बरसी के दौरान कट्टरंपथियों को चेतावनी दी थी कि "अमेरिका भयभीत नहीं हो सकता" 9/11 को हुए आतंकी हमले में करीब 3000 लोगों की मौत हुई थी.  पिछले साल बरसी के बाद आतंकी हमला हुआ था. 

हेलोवीन के दौरान वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के कुछ ब्लॉक में बाइक पथ पर एक ट्रक ने आठ लोगों को कुचल दिया था. दिंसबर में टाइम्स स्क्वायर के पास एक सबवे में एक आत्मघाती हमलावर ने एक पाइप बम लगा दिया था. प्रशासन ने कहा था कि दोनों हमलों के संदिग्ध आईएस के कट्टरपथी समूह से प्रेरित थे.  ट्रेड सेंटर के पास काम करने वाली सिनोडिनोस ने कहा कि वह हाल में हुए हमलों को नकारने की कोशिश नहीं करती.

  उसने कहा "आपको आगे बढ़ना होगा, वरना आप डर में जिएंगे. " 9/11 की बरसी अब मृतकों के नाम पढ़ने पर केंद्रित एक परिचित धार्मिक अनुष्ठान है.  बरसी पर आयोजित कार्यक्रम के कुछ घंटों बाद मैनहैट्टन के निचले इलाके में दो शक्तिशाली लाइट बीम आकाश को जगमगाएंगे.  यह वार्षिक कार्यक्रम "प्रकाश में श्रद्धाजंलि" के तहत होगा.