Meta Layoff: नेटफ्लिक्स के शो में नजर आई भारतीय इंजीनियर को फेसबुक से मिला ऐसा ई-मेल, पढ़कर रुके नहीं आंसू
topStories1hindi1477918

Meta Layoff: नेटफ्लिक्स के शो में नजर आई भारतीय इंजीनियर को फेसबुक से मिला ऐसा ई-मेल, पढ़कर रुके नहीं आंसू

Job Loss: सुरभि ने कहा कि नई नौकरी ढूंढना आसान नहीं है क्योंकि यह हॉलिडे सीजन है और अधिकतर कंपनियों ने हायरिंग की प्रक्रिया धीमी कर दी है. उन्होंने कहा कि मुश्किल वक्त में उनके माता-पिता ने हौसला बढ़ाया. 

Meta Layoff: नेटफ्लिक्स के शो में नजर आई भारतीय इंजीनियर को फेसबुक से मिला ऐसा ई-मेल, पढ़कर रुके नहीं आंसू

NetFlix Indian Matchmaking Show Winner: नेटफ्लिक्स के पॉपुलर शो Indian MatchMaking में नजर आने वाली भारतीय इंजीनियर सुरभि गुप्ता उन हजारों कर्मचारियों में से एक हैं, जिन्हें पिछले महीने फेसबुक की पेरेंट कंपनी मेटा ने  नौकरी से निकाल दिया था. बीबीसी ने अपनी रिपोर्ट में यह जानकारी दी है. सुरभि साल 2009 से अमेरिका में रह रही हैं और मेटा में वह बतौर प्रोडक्ट मैनेजर काम कर रही थीं. उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद नहीं थी कि उनको काम से निकाल दिया जाएगा क्योंकि उनकी परफॉर्मेंस अच्छी थी. लेकिन एक सुबह 6 बजे उनको नौकरी से निकाले जाने का ई-मेल मिला, जिसने उन्हें हिलाकर रख दिया.

'मुझे ब्रेकअप जैसा महसूस हुआ'

सुरभि ने कहा कि वह न तो ऑफिस का कंप्यूटर चला पा रही थीं और ना ही उनको ऑफिस जिम में एंट्री मिली, जिसने उनको हताश कर दिया. 2018 में हुई सौंदर्य प्रतियोगिता में मिस भारत-कैलिफोर्निया का खिताब जीतने वाली सुरभि ने कहा, 'मैं सुबह 6 बजे उठी और न तो मैं ऑफिस का कंप्यूटर चला पा रही थी और ना ही ऑफिस जिम में एंट्री मिल रही थी. मुझे ब्रेकअप जैसा महसूस हुआ.'

बीबीसी से बातचीत में सुरभि ने बताया कि उन्होंने अमेरिका में पिछले 15 वर्ष में अपना अलग मुकाम हासिल करने के लिए बहुत मेहनत की है. वह कहती हैं, 'मुझे ऐसा लगा जैसे टाइटैनिक डूब रहा है और वर्कप्लेस, ई-मेल और फिर लैपटॉप भी एक-एक करके मुझसे दूर हो गए.' जानकारी के मुताबिक, सुरभि को एक दम से जाने को नहीं कहा गया. उनका कंपनी में आखिरी दिन जनवरी में होगा. चूंकि वह H1-B वीजा पर हैं इसलिए वह मेटा छोड़ने के बाद अमेरिका में 60 दिन तक रह सकती हैं. उन्होंने कहा, 'अमेरिका में रुकना और काम करना मेरे H1-B वीजा पर निर्भर करता है.'

'नई नौकरी ढूंढना आसान नहीं'

उन्होंने कहा कि नई नौकरी ढूंढना आसान नहीं है क्योंकि यह हॉलिडे सीजन है और अधिकतर कंपनियों ने हायरिंग की प्रक्रिया धीमी कर दी है. उन्होंने कहा कि मुश्किल वक्त में उनके माता-पिता ने हौसला बढ़ाया. सुरभि ने कहा, 'उन्होंने मुझसे मजबूत बने रहने को कहा क्योंकि मैं वो हूं जो मुश्किलों को अवसर में बदल देती हूं. वे मुझसे कहते हैं कि कुछ और अच्छा मिल जाएगा.' बता दें कि मेटा ने पिछले महीने 11000 लोगों को नौकरी से निकाला है, जो कंपनी के कुल वर्कफोर्स का 13 प्रतिशत है. मेटा से एक हफ्ते पहले ट्विटर ने हजारों कर्मचारियों को फायर कर दिया था. 

पाठकों की पहली पसंद Zeenews.com/Hindi- अब किसी और की ज़रूरत नहीं

Trending news