अशरफ गनी ने पीएम मोदी से की बात, भारत को बताया सच्चा दोस्त, पाकिस्तान के पीएम अब्बासी का फोन काटा

अफगानिस्तान के राष्ट्रपति ने अप्रत्यक्ष रूप से पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए कहा, मैंने 'हमारे पड़ोस' में आतंकी पनाहगाहों को समाप्त करने की जरूरत के संबंध में बातचीत की.'

अशरफ गनी ने पीएम मोदी से की बात, भारत को बताया सच्चा दोस्त, पाकिस्तान के पीएम अब्बासी का फोन काटा
अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी और भारत के पीएम नरेंद्र मोदी एक-दूसरे से हाथ मिलाते हुए. (फाइल फोटो)

काबुल: अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने बुधवार (31 जनवरी) को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद खकान अब्बासी से टेलीफोन पर बातचीत करने से इनकार कर दिया, वहीं उन्होंने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ 'आतंकी पनाहगाहों को समाप्त करने की जरूरत' पर चर्चा की. गनी ने ट्वीट कर कहा, "प्रधानमंत्री मोदी ने मानवता के दुश्मनों द्वारा नागरिकों की मूर्खतापूर्ण हत्याओं के प्रति अपनी संवेदना जताने के लिए फोन किया था." मीडिया रिपोर्ट में हालांकि बताया गया है कि जब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री अब्बासी ने उनसे इस संबंध में फोन पर बातचीत करनी चाही, तो गनी ने इनकार कर दिया. अफगानिस्तान के राष्ट्रपति ने अप्रत्यक्ष रूप से पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए कहा, मैंने 'हमारे पड़ोस' में आतंकी पनाहगाहों को समाप्त करने की जरूरत के संबंध में बातचीत की. उन्होंने कहा कि भारत हमेशा 'अफगानिस्तान का अच्छा दोस्त रहा है जो हमारे दुख और वेदना को साझा करता है.'

Ashraf Ghani, Kabul Hotel, Kabul Attack, Afghanistan, Narendra Modi, Shahid Khaqan Abbasi, Pakistan

टोलो न्यूज के मुताबिक, "अब्बासी ने गनी को 'अफगानिस्तान में हुए हालिया आतंकी हमलों के संबंध' में फोन किया था." गनी ने 'काबुल में हुए हालिया हमलों के संबंध में सबूत' को पाकिस्तानी सेना के साथ साझा करने के लिए अपना एक प्रतिनिधिमंडल इस्लामाबाद भेजा है. काबुल इस्लामाबाद पर अफगानिस्तान में आतंकवादी समूहों को समर्थन देने का आरोप लगाता रहा है.

पाकिस्तान का आतंकी चेहरा बेनकाब, काबुल होटल के हमलावर को ISI ने दी ट्रेनिंग

इससे पहले अफगानिस्तान के एक शीर्ष राजदूत ने आरोप लगाया कि काबुल के इंटरकंटिनेन्टल होटल पर आतंकवादी हमले करने में शामिल एक आतंकवादी को पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने प्रशिक्षित किया था. इस हमले में करीब 25 लोगों की मौत हो गई थी. संयुक्त राष्ट्र में अफगानिस्तान के स्थायी प्रतिनिधि महमूद सैकल ने इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) के खिलाफ सोमवार (29 जनवरी) रात एक ट्वीट में गंभीर आरोप लगाए थे. सैकल ने ट्वीट किया था, “काबुल इंटरकंटिनेन्टल होटल पर पिछले सप्ताह हुए हमले में शामिल एक आतंकवादी के पिता अब्दुल काहर ने स्वीकार किया है कि उनके बेटे को पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने बलूचिस्तान में प्रशिक्षित किया था.” 26 जनवरी को तालिबानी आतंकवादियों ने इस होटल पर हमला कर दिया था. इस हमले में करीब 25 लोगों की मौत हो गई थी.

(इनपुट एजेंसी से भी)