Russia Ukraine War: रूसी जनरलों की कब्रगाह बना यूक्रेन का यह शहर, इतना हुआ नुकसान कि भागना पड़ा वापस
topStories1hindi1474234

Russia Ukraine War: रूसी जनरलों की कब्रगाह बना यूक्रेन का यह शहर, इतना हुआ नुकसान कि भागना पड़ा वापस

Russia Ukraine Crisis: खेरसोन के बाहरी इलाके में बसे इस शहर की अब मिसाल दी जा रही है. इस शहर को लेकर कई तरह की कहानियां भी वायरल हो रही हैं. हम जिस शहर की बात कर रहे हैं उसका नाम चोर्नोबायकवा है. आइए आपको बताते हैं यहां कैसे रूस को उठना पड़ा है नुकसान.

Russia Ukraine War: रूसी जनरलों की कब्रगाह बना यूक्रेन का यह शहर, इतना हुआ नुकसान कि भागना पड़ा वापस

Russia Ukraine War: दुनिया के ताकतवर देशों में से एक रूस ने 24 फरवरी 2022 को यूक्रेन पर हमला कर युद्ध का आगाज किया. हमला करते वक्त रूस ने कहा था कि वह एक हफ्ते के अंदर युद्ध जीत लेगा, लेकिन आज 9 महीने से ज्यादा का समय बीत चुका है और रूसी सेना अब भी यूक्रेन को हरा नहीं पाई है. उलटा रूस को इस युद्ध में काफी नुकसान उठाना पड़ा है. उसे इतना नुकसान हुआ जितने की उसने कभी कल्पना नहीं की थी. जीत तो दूर यूक्रेन का एक शहर ऐसा भी है जहां रूसी सैनिकों को हार का ही सामना करना पड़ा है. खेरसोन के बाहरी इलाके में बसे इस शहर की अब मिसाल दी जा रही है. इस शहर को लेकर कई तरह की कहानियां भी वायरल हो रही हैं. हम जिस शहर की बात कर रहे हैं उसका नाम चोर्नोबायकवा है. आइए आपको बताते हैं क्या है पूरी कहानी.

पिछले महीने ही यूक्रेन ने फिर से पाया कब्जा

चोर्नोबायकवा ऐसा शहर है जिस पर रूस ने फ़रवरी में आक्रमण के कुछ दिन बाद ही क़ब्ज़ा कर लिया था, लेकिन इस बेस पर कब्ज़ा बरकरार रखना उसके लिए बड़ा मुश्किल काम साबित हुआ. यूक्रेन के सैनिक लगातार हमला करते रहे. इस हमले में यहां कई रूसी हेलीकॉप्टर और सैन्य वाहन नष्ट हो गए. यही नहीं इन हमलों में दो रूसी जनरलों की भी मौत हुई. यहां यूक्रेन के सैनिक लगातार रूस को नुकसान पहुंचा रहे थे. यूक्रेनी सेना का ये मज़बूत बदला यूक्रेन के गौरव और रूसी हार का प्रतीक बन गया. चोर्नोबायकवा यूक्रेनी लोगों के लिए वॉर मीम बन गया था. यूक्रेन ने पिछले महीने ही खेरसोन शहर और चोर्नोबायकवा पर फिर से क़ब्ज़ा पा लिया. 

वापस जाती रूसी सेना पर उसी के हथियार से हमला

दूसरी तरफ वापस जाती रूसी सेना पर यूक्रेन ने उन्हीं के गोला बारूद से जमकर हमला किया. बताया जा रहा है कि इस हमले में रूस के सैकड़ों सैनिकों की मौत हुई. हालांकि रूसी रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि नीपा नदी के पश्चिमी किनारों से पीछे हटते हुए उसके सैनिकों और साज़ोसामान को कोई नुक़सान नहीं पहुंचा है.

पाठकों की पहली पसंद Zeenews.com/Hindi - अब किसी और की ज़रूरत नहीं

Trending news