पंडित दीनदयाल उपाध्याय से लेकर सतीश धवन से जुड़ा है आज का खास दिन

आज का दिन यानि 25 सितंबर इतिहास के पन्नों में काफी अहमियत रखता है. आज के दिन ही पंडित दीनदयाल उपाध्याय (Deen Dayal Upadhyay) की जयंती है, तो महान वैज्ञानिक सतीश धवन (Satish Dhawan) की जन्मशती भी आज मनाई जा रही है.

पंडित दीनदयाल उपाध्याय से लेकर सतीश धवन से जुड़ा है आज का खास दिन
फाइल फोटो

नई दिल्ली: आज का दिन यानि 25 सितंबर इतिहास के पन्नों में काफी अहमियत रखता है. आज के दिन ही पंडित दीनदयाल उपाध्याय (Deen Dayal Upadhyay) की जयंती है, तो महान वैज्ञानिक सतीश धवन (Satish Dhawan) की जन्मशती भी आज मनाई जा रही है. आज ही के दिन अमेरिका और यूरोप के बीच पहली बार अंडरवाटर टेलीफोन लाइन (Underwater Telephone Line) ने काम करना शुरू किया था.

पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती
वर्ष 1916 में आज के दिन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के विचारक और जनसंघ के सह-संस्थापक पंडित दीन दयाल उपाध्याय का जन्म मथुरा में हुआ था. उन्होंने देश को एकात्म मानववाद जैसी प्रगतिशील विचारधारा दी और कहा कि दुनिया को पूंजीवाद या साम्यवाद नहीं, बल्कि मानववाद की ज़रूरत है. दीनदयाल उपाध्याय का ये भी कहना था कि हिंदू कोई धर्म या संप्रदाय नहीं, बल्कि भारत की राष्ट्रीय संस्कृति है. वो राजनेता होने के साथ-साथ एक पत्रकार और लेखक भी थे. उन्होंने RSS द्वारा प्रकाशित साप्ताहिक पत्रिका पान्चजन्य (PanchJanya) की नींव रखी थी.इस पत्रिका के पहले संपादक देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vaajpeyi) थे.

सतीश धवन की जन्मशती
वर्ष 1920 में आज ही के दिन देश के जाने-माने अंतरिक्ष वैज्ञानिक सतीश धवन का जन्म हुआ था. भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम को ऊंचाइयों तक पहुंचाने में सतीश धवन की प्रमुख भूमिका थी. उन्हें विक्रम साराभाई के बाद देश के अंतरिक्ष कार्यक्रम की जिम्मेदारी सौंपी गई थी, और इसरो का अध्यक्ष बनाया गया था. साल 2002 में उन्हीं के नाम पर आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा सेंटर का नाम सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र रखा गया । उन्होंने ग्रामीण शिक्षा, रिमोट सेंसिंग और सेटेलाइट कम्युनिकेशन पर भी कई महत्वपूर्ण शोध किए थे.

रक्तदान से जुड़ा है आज का दिन
आप में से कई लोगों ने, कभी ना कभी रक्त-दान ज़रूर किया होगाहोगा. आज के दिन का रक्तदान से भी संबंध है. ब्रिटिश डॉक्टर जेम्स ब्लन्डेल (James Blundell) ने वर्ष 1818 में आज ही के दिन लंडन में एक इंसान से दूसरे इंसान के शरीर में खून पहुंचाया था. तब ब्लन्डेल ने एक सिरिंज के ज़रिए मरीज़ के शरीर में औंस खून चढ़ाया था । बाद में उन्होंने ब्लड ट्रांसफ्यूजन में इस्तेमाल होने वाले कुछ ऐसे उपकरणों को तैयार किया, जिनका प्रयोग आज भी किया जाता है.

सप्ताह में पांच कार्यदिवसों की शुरुआत
वर्ष 1926 में आज के दिन कार बनाने वाली फोर्ड मोटर कंपनी (Ford Motor Company) के संस्थापक हेनरी फोर्ड (Henry Ford) ने फैक्ट्रियों में काम करने वाले लोगों के लिए हफ्ते में 5 दिन और रोज़ 8 घंटे काम करने की योजना पहली बार लागू की थी. ये योजना उस दौर में लागू की गई थी, जब कई फैक्ट्रियां मशीनों को 24 घंटे चलाने की तरफ बढ़ चुकी थीं, और लोग 10 घंटे से लेकर 16 घंटे तक काम किया करते थे. लेकिन इसके बाद धीरे-धीरे सप्ताह में पांच कार्यदिवसों की पॉलिसी दुनिया भर में अपनाई जाने लगी.

अमेरिका-यूरोप के बीच अंडरवाटर टेलीफोन सर्विस की शुरुआत
आज ही के दिन 1956 में अमेरिका और यूरोप के बीच पहली अंडरवाटर टेलीफोन सर्विस शुरू हुई थी. इसके लिए 3 हज़ार 621 किलोमीटर लंबी, दो केबल अटलांटिक महासागर में डाली गई थीं. इसकी मदद से पहले 24 घंटों में लंदन और अमेरिका के बीच 588 फोन कॉल की गई थीं. इस केबल सिस्टम को 1978 में रिटायर कर दिया गया था.