close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

SIT का बड़ा दावा, 'चिन्मयानंद ने अपने गुनाहों को कर लिया कबूल'

लॉ की एक छात्रा ने स्वामी चिन्मयानंद पर रेप का आरोप लगाया है. इससे जुड़ा एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. इन आरोपों के सिलसिले में पिछले शुक्रवार को SIT की टीम ने करीब 7 घंटे तक स्वामी चिन्मयानंद से पूछताछ की थी.

SIT का बड़ा दावा, 'चिन्मयानंद ने अपने गुनाहों को कर लिया कबूल'
Photo Courtesy: ANI

पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद की मुश्किलें बढ़ गई हैं. यौन शोषण के आरोप में फंसे चिन्मयानंद को गिरफ्तार कर 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. इससे पहले यूपी की स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम (SIT) ने चिन्मयानंद को शाहजहांपुर से गिरफ्तार किया. जिला अदालत में चिन्मयानंद का मेडिकल टेस्ट करवाया गया. एसआईटी का दावा है कि चिन्मयानंद ने अपने गुनाहों को कबूल कर लिया है.

आपको बता दें कि लॉ की एक छात्रा ने स्वामी चिन्मयानंद पर रेप का आरोप लगाया है. इससे जुड़ा एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. इन आरोपों के सिलसिले में पिछले शुक्रवार को SIT की टीम ने करीब 7 घंटे तक स्वामी चिन्मयानंद से पूछताछ की थी. चिन्मयानंद को लेकर पुलिस भारी दबाव में थी. ऐसे में उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया. चिन्मयानंद पर IPC की धारा 376C, 354D,342 और 506 के तहत केस दर्ज है.

  • ऐसे हुई चिन्मयानंद से पूछताछ

यूपी के डीजीपी ओ पी सिंह ने इस पूरी कार्रवाई की जानकारी दी. पुलिस का कहना है कि इस मामले की काफी बारीकी से जांच की गई. एसआईटी ने स्वामी चिन्मयानंद से सारे सवाल छात्रा और उसके आरोपों के बारे में ही पूछे. चिन्मयानंद से पूछा गया कि उनसे जुड़े वीडियो का सच क्या है. वो छात्रा को कैसे जानते हैं और छात्रा के लगाए गए दुष्कर्म के आरोपों के बारे में उनका क्या कहना है. एसआईटी ने कॉलेज के हॉस्टल के कमरे में मिले सबूतों के आधार पर भी स्वामी चिन्मयानंद से पूछताछ की.

वहीं चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने के आरोप में पुलिस ने पीड़िता पक्ष के तीन युवकों को भी गिरफ्तार किया है

  • वाजपेयी सरकार में मिली थी मंत्री पद की जिम्मेदारी

72 साल के चिन्मयानंद यूपी के गोंडा के रहने वाले हैं. जो वाजपेयी सरकार में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री रहे हैं. वो पहली बार 1991 में बदायूं से बीजेपी सांसद चुने गए. 1998 में मछलीशहर, 1999 में जौनपुर से सांसद रहे. वो राम मंदिर आंदोलन के बड़े नेताओं में शुमार हैं. उन्होंने लखनऊ विश्वविद्यालय से पीएचडी की है. शाहजहांपुर में आश्रम है और वो एक लॉ कॉलेज भी चलाते हैं.