• देश में कोविड-19 से सक्रिय मरीजों की संख्या 86,422 पहुंची, जबकि संक्रमण के कुल मामले 1,73,763: स्त्रोत-PIB
  • कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या- 82,370 जबकि अबतक 4,971 मरीजों की मौत: स्त्रोत-PIB
  • रेलवे ने अपील की है कि रोगग्रस्त व्यक्ति, गर्भवती महिलाएं, दस वर्ष से छोटे बच्चे, 65 वर्ष से अधिक आयु के लोग रेल यात्रा से बचें
  • 31 मई, 2020 की सुबह 8:00 बजे से रेलगाड़ियों के अग्रिम आरक्षण की अवधि को 30 दिन से बढ़ा कर 120 दिन किया जाएगा
  • कोविड -19 से लड़ने और घरेलू उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए चिकित्सा उपकरणों और इनपुट पर सीमा शुल्क से छूट
  • लॉकडाउन के बीच 3530 रेकों के जरिए 98+ LMT खाद्यान्न की ढ़ुलाई हुई: FCI
  • 584 लाइफलाइन उड़ानों ने ने 5,40,985 किलोमीटर की दूरी तय कर 935 टन मेडिकल और आवश्यक कार्गो का परिवहन किया
  • PMJAY से संबंधित प्रश्नों के उत्तर पाने हेतु आयुष्मान भारत व्हाट्सएप नंबर 9868914555 पर मास्टर आयुष्मान से पूछें
  • आईआईटी मद्रास ने कोविड-19 के लक्षणों का शीघ्र पता लगाने के लिए कलाई ट्रैकर का विकास किया
  • सूरत स्मार्ट सिटी कोविड-19 के प्रबंधन और कंटेनमेंट के लिए प्रमुख आईटी पहल की

अभी अम्फान ने सताया, अब पड़ेगी लू की मार

मौसम विभाग की ओर से जारी अलर्ट में कहा गया है कि अगले 24 घंटे में पश्चिमी राजस्‍थान के कुछ इलाके भीषण लू की चपेट में आ सकते हैं. मौसम विभाग की ओर से जारी ऑल इंडिया वेदर बुलेटिन में कहा गया है कि प्रायद्वीपीय भारत और विदर्भ में भी अगले तीन से चार दिनों तक लू के थपेड़े जारी रहेंगे. 

अभी अम्फान ने सताया, अब पड़ेगी लू की मार

नई दिल्लीः कोरोना वायरस के महासंकट के बीच प्राकृतिक आपदाओं ने भी देश को अपना शिकार बनाना शुरू कर दिया है. हालांकि मौसम की गतिविधियों के अनुसार कुछ परिवर्तन तो होते ही हैं और वह जरूरी भी होते हैं, लेकिन उनसे बचाव भी जरूरी होता है. गर्मी के दिनों में लू चलना सामान्य है, लेकिन पश्चिम बंगाल और ओडिशा में अम्‍फान चक्रवात का कहर थमने के बाद भारत के दूसरे अधिकांश हिस्‍सों में प्रचंड गर्मी का प्रकोप देखा जा रहा है. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने चेतावनी दी है कि राजस्‍थान  और मध्‍य प्रदेश  में अगले पांच दिनों तक लू का प्रकोप जारी रहेगा. 

कई राज्यों में लू का कहर
विभाग की ओर से जारी अलर्ट में कहा गया है कि अगले 24 घंटे में पश्चिमी राजस्‍थान के कुछ इलाके भीषण लू की चपेट में आ सकते हैं. मौसम विभाग की ओर से जारी ऑल इंडिया वेदर बुलेटिन में कहा गया है कि प्रायद्वीपीय भारत और विदर्भ में भी अगले तीन से चार दिनों तक लू के थपेड़े जारी रहेंगे.

इनके अलावा पूर्वी मध्‍य प्रदेश, दक्षिणी उत्‍तर प्रदेश और छत्‍तीसगढ़ में भी अगले 24 घंटे तक लू का प्रकोप रहेगा. वहीं 24 मई से 26 मई के बीच सिक्किम और कुछ अन्य पूर्वोत्तर राज्यों में भारी बारिश की आशंका जताई जा रही है.

1970 में आया भोला और 1999 में आए तूफान रहे बेहद खतरनाक, कई तूफानों ने मचाई तबाही

पूर्वोत्तर के राज्यों में भारी बारिश
मौसम विभाग की मानें तो तूफान के प्रभाव से भारी बारिश का खतरा अभी टला नहीं है. उप हिमालयी पश्चि‍म बंगाल सिक्किम, असम  और मेघालय में 24 से 26 मई के दौरान भारी से ज्‍यादा भारी बारिश हो सकती है. अरुणाचल प्रदेश में 24 मई को भारी बारिश की आशंका है. एजेंसी स्‍काईमेट वेदर की मानें तो केरल और दक्षिणी-तटीय कर्नाटक में भी एक-दो स्थानों पर मध्यम से भारी बारिश हो सकती है.

गुजरात, हरियाणा में लू का असर
स्‍काईमेट वेदर ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि हिमाचल प्रदेश और पंजाब में एक-दो स्थानों पर हल्की बारिश हो सकती है. गुजरात, हरियाणा, तमिलनाडु, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश के कुछ हिस्सों में हीट वेब का असर दिखाई देगा.

वहीं आंतरिक तमिलनाडु, कर्नाटक के शेष हिस्सों, जम्मू-कश्मीर, मुजफ्फराबाद और गिलगित-बाल्टिस्तान में कुछ स्थानों पर हल्की बारिश के आसार हैं. मौसम विभाग की मानें तो चक्रवात अम्‍फान अब कमजोर होकर पूर्वोत्तर राज्यों पर निम्न दबाव के क्षेत्र के रूप में मौजूद है जिससे इन इलाकों में भारी बारिश का खतरा है. 

अम्फान की तबाही से निपटने को पीएम मोदी ने ओडिशा को दी 500 करोड़ की मदद