BJP के इस दांव से CAA पर छाती पीटने वाली कांग्रेस हो गई पस्त

CAA पर छिड़े संग्राम के बीच भारतीय जनता पार्टी ने सोशल मीडिया के जरिए कांग्रेस पार्टी पर करारा वार किया है. भाजपा ने मनमोहन सिंह का एक पुराना वीडियो शेयर किया है. इस वीडियो में वो धार्मिक आधार पर प्रताड़ित शरणार्थियों के लिए उदार रवैया रखने की अपील कर रहे हैं.

BJP के इस दांव से CAA पर छाती पीटने वाली कांग्रेस हो गई पस्त

नई दिल्ली: नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ देश के अलग-अलग हिस्सों में जोरदार प्रदर्शन हो रहा है. वामपंथी दलों ने आज भारत बंद बुलाया है और इसका समर्थन कांग्रेस समेत कई अन्य विपक्षी दलों ने किया है. इस बीच कांग्रेस समेत विपक्षी पार्टियों पर निशाना साधने के लिए भाजपा मास्टरस्ट्रोक खेला है.

CAA पर विपक्ष की राजनीति पर भाजपा का प्रहार

पूर्व पीएम मनमोहन सिंह के 2003 में राज्यसभा में दिए बयान का वीडियो लेकर आई है. नागरिकता संशोधन कानून पर विपक्ष की रणनीति का तोड़ भारतीय जनता पार्टी ने पूर्व पीएम मनमोहन सिंह के पुराने वीडियो से किया है. भाजपा ने मनमोहन सिंह का 2003 का एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें वह धार्मिक आधार पर प्रताड़ित शरणार्थियों के लिए उदार होने की अपील कर रहे हैं.

नीचे देखें भाजपा का ट्वीट-

भाजपा ने इस वीडियो को ट्विटर पर शेयर करते हुए अपने अकाउंट में पिन भी किया है. वीडियो में मनमोहन सिंह बांग्लादेश में धार्मिक आधार पर हिंसा के शिकार हुए शरणार्थियों के लिए सरकार को सहानुभूतिपूर्ण रवैया रखने का सुझाव दे रहे हैं.

नागरिकता कानून पर नहीं थम रही राजनीति

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ पूरे देश के अलग-अलग हिस्सों से बवाल की तस्वीरें सामने आ रही हैं. इसके कांग्रेस पार्टी और वामदलों समेत सभी विपक्षी पार्टियों ने प्रदर्शन और विरोध की आवाज बुलंद कर दी है. कई राज्यों में ट्रेन और बस रोकने, सड़क जाम करने और हिंसा की तस्वीरें आ रही हैं. सभी विपक्षी दल सड़कों पर उतर गए हैं और इसका जिम्मेदार केंद्र सरकार को बता रहे हैं.

इसे भी पढ़ें: CAA पर नहीं थम रहा बवाल, कर्नाटक तक पहुंची विरोध की 'आग'

CAA को लेकर जहां देशभर में कोहराम मचा हुआ है, इसी क्रम में कर्नाटक से लेकर बिहार तक इसका असर देखा जाने लगा है. देश की राजधानी दिल्ली भी इससे अछूती नहीं रही है. दिल्ली में सभी विपक्षी पार्टियों के बड़े नेता सड़कों पर उतर गए हैं और सरकार पर जोरदार हमला कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें: नागरिकता कानून के खिलाफ बिहार में कोहराम