जामिया हिंसा पर पुलिस का बयान कहा हमने नहीं चलाई गोली, कई जवान भी हुए हैं घायल

जामिया मामले का विरोध प्रदर्शन थमने का नाम नहीं ले रहा है. मंगलवार को एक बार फिर से दिल्ली के जाफराबाद में नागरिकता संशोधन कानून को लेकर पूरा विरोध मार्च शुरू हो गया. विरोध काफी हिंसात्मक रूप ले चुका था. इतना कि दिल्ली पुलिस के कुछ जवानों भी घायल हो गए हैं.

जामिया हिंसा पर पुलिस का बयान कहा हमने नहीं चलाई गोली, कई जवान भी हुए हैं घायल

नई दिल्ली: जामिया मिलिया इस्लामिया में पुलिस और छात्रों के बीच हिंसा के बाद से ही दिल्ली पुलिस और सरकार की लगातार आलोचना हो रही है. अब इसी बीच दिल्ली पुलिस ने एक बयान जारी किया है जिसमें जामिया में हुई घटनाओं का जिक्र किया गया और उसके बारे में बताया गया. पुलिस ने कहा कि हिंसक प्रदर्शन के दौरान छात्रों और पुलिस की झड़प में कुछ जवानों को भी काफी गंभीर चोटें आई है. दो जवान सफदरजंग अस्पताल में भर्ती किए गए हैं. हालांकि अभी भी उनकी चोटों के बारे में कुछ विशेष जानकारी नहीं मिली है कि वह गंभीर है या सामान्य. 

पुलिस ने कहा नहीं चलाई गोलियां

बार-बार यह कहा जा रहा है कि पुलिस ने प्रदर्शन के दौरान गोलियां चलाई. इस बात को सिरे से खारिज करते हुए दिल्ली पुलिस ने कहा कि हमने कभी भी गोलियां नहीं चलाईं. सिर्फ आंसू गैस के गोले ही दागे गए. लेकिन पुलिस ने इस बात की भी पुष्टि की कि घटनास्थल पर उन्हें बुलेट के खोखे मिले हैं. 

आप विधायकों की संलिप्तता की कर रहे हैं जांच

दिल्ली पुलिस की ओर से जारी बयान में यह भी कहा गया कि जामिया कांड में जो आप विधायकों की संलिप्तता का मामला दर्ज कराय गया है, हम उसकी जांच कर रहे हैं. इस बारे में अभी कोई जानकारी नहीं दी जा सकती है. लेकिन जल्द ही इसपर एक्शन लिया जाएगा. 

सीलमपुर में देखते-देखते भड़क गई हिंसा

इसके अलावा दिल्ली के जाफराबाद में शुरू हुए हिंसक विरोध के बाद पुलिस ने मोर्चा संभाला. इस बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि जाफराबाद जो उत्तरी-पूर्वी दिल्ली का हिस्सा है, वहां उपद्रवियों ने आज विरोध मार्च किया, वह भी हिंसक.

तकरीबन 1:15 बजे तक जाफराबाद के सलीमपुर में लोग इकठ्ठा होने शुरू हो गए. वहां उन्होंने पहले तो शांतिपूर्ण तरीके से विरोध करना शुरू किया लेकिन कुछ ही पल बाद अचानक से पथराव और हिंसा फैलने लग गई. लोग इधर-उधर भागने लगे और पुलिस पर हमले करने लगे. 

हालांकि, दिल्ली पुलिस ने यह भी कहा कि विरोध पर जल्द ही काबू पाया जाएगा.