• चीन भारत की बातचीत में भारत का नेतृत्व लेह स्थित 14वीं कोर के जनरल कमांडिंग ऑफिसर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह ने की
  • सूत्रों के अनुसार, 'चीन की तरफ से तिब्बत मिलिटरी डिस्ट्रिक्ट के कमांडर ने अगुआई की'
  • लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की बातचीत से पहले स्थानीय कमांडरों के स्तर पर दोनों सेनाओं के बीच 12 राउंड बातचीत हो चुकी है
  • देश में कोविड-19 से सक्रिय मरीजों की संख्या 1,15,942 पहुंची, जबकि संक्रमण के कुल मामले 2,36,656: स्त्रोत-PIB
  • कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या- 1,14,072 जबकि अबतक 6,642 मरीजों की मौत: स्त्रोत-PIB
  • पिछले 24 घंटों में कुल 1.37 लाख कोरोना के नमूनों की जांच की गई. कुल परीक्षणों की संख्या 45.34 लाख से ज्यादा(ICMR)
  • कोविड-19 महामारी के बीच प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना से स्ट्रीट वेंडर्स को किफायती ऋण दिया जाएगा.
  • 6 मई से अब तक वंदे भारत मिशन के तहत करीब 64,000 लोगों को वापस लाया गया
  • आईएनएस जलाश्व के माध्यम से मालदीव और श्रीलंका से 2,700 भारतीय नागरिकों को स्वदेश वापस लाया गया
  • कोविड-19 के लक्षण दिखाई देने पर घबराएं नहीं, तुरंत 1075 डायल करें.

आतंकी नवाब डार के जनाजे में शामिल हुए सैकड़ों लोग, तोड़ा लॉकडाउन

अभी तबलीगी जमात के लोगों ने कोरोना का वाहक बनकर पूरे देश में इस वायरस को फैलाया ही है. सरकार अभी इस वाकये से निपट ही रही थी कि जम्मू-कश्मीर से ऐसी ही एक घटना सामने आ गई है. यहां एक आतंकी के जनाजे में सैकड़ों लोग शामिल हुए. 

आतंकी नवाब डार के जनाजे में शामिल हुए सैकड़ों लोग, तोड़ा लॉकडाउन

श्री नगरः कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है. बचाव के लिए देश भर में तालाबंदी का आलम है. लोग घरों में हैं और बाहर निकलना भी पड़ रहा है तो सोशल डिस्टेंसिंग फॉलो कर रहे हैं. लेकिन फिर भी कुछ लोग हैं जो इस संकट की स्थिति को नहीं समझ रहे हैं.

रोक और निषेध के बावजूद वह अपने सारे आयोजन कर रहे हैं और बिल्कुल नहीं मान रहे है. घाटी से फिर ऐसी ही खबर आई है, एक आतंकी के जनाजे में काफी भीड़ जुटी. सोचिए, एक तो मरने वाले आतंकी का जनाजा और उसमें भीड़ जुटाना. आखिर यह किस मानसिकता के लोग हैं जो आतंक को समर्थन भी दे रहे हैं और देश पर आए कोरोना संकट को बढ़ाने में भागीदारी दे रहे हैं. 

आतंकी नवाब डार का था जनाजा
जम्मू कश्मीर के सोपोर में मारे जैश-ए-मोहम्मद का आतंकी सजाद नवाब डार मारा गया था. उसका जनाजा निकला तो सैकड़ों लोगों ने उसमें हिस्सा लिया. उन लोगों में न तो कोरोना वायरस का खौफ था और ना ही लॉकडाउन को लेकर कोई फिक्र थी.

इस तरह यह लोग तबलीगी जमात के बाद एक बार फिर भारी परेशानी की वजह बन गए हैं. सैकड़ों की जुटी भीड़ को देखते हुए पुलिस ने इन लोगों पर एफआईआर दर्ज की है. आतंकी सजाद नवाब डार को मुठभेड़ में भारतीय सेना ने बुधवार को मार गिराया था.

सोपोर पुलिस ने दर्ज किया मुकदमा
सोपोर पुलिस ने बुधवार रात उन तमाम लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया, जिन्होंने आतंकी के जनाजे में हिस्सा लिया. सूत्रों ने बताया कि कश्मीर में जिस प्रकार से कोविड-19 के मामले बढ़ रहे हैं, उसे देखते हुए ज्यादा से ज्यादा लोगों को घर में रहने की हिदायत दी गई है लेकिन लोगों ने इसका पालन नहीं किया.

"मक्कार" मौलाना मोहम्मद साद की 'गुनाह कुंडली'! पढ़ें, पूरा हिसाब-किताब

पुलिस ने भीड़ न जुटाने के लिए दी थी हिदायत
पुलिस के एक अधिकारी ने मीडिया को बताया कि वीडियो फुटेज के आधार पर उन लोगों की पहचान की जा रही है, जो जनाजे में शामिल हुए. इससे पहले आतंकी डार का शव घरवालों को सौंपते वक्त पुलिस ने सख्त हिदायत दी थी कि अंतिम यात्रा में लॉकडाउन का ख्याल किया जाना चाहिए और किसी प्रकार की भीड़ जमा नहीं होनी चाहिए.

जिन लोगों ने कानून तोड़ा है उनकी तलाश की जा रही है और उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. बता दें, जम्मू-कश्मीर में बुधवार को 19 नए मामले सामने आए. अब तक प्रदेश में कुल 144 कोरोना मरीज पाए गए हैं.

कोरोना त्रासदी नहीं होती तो तबलीगी जमात का ये सच सामने ही नहीं आता