Year Ender 2019: थल सेना का वो कमाल, जिसे याद करके थर्रा उठेगा PAK

साल 2019 में हिन्दुस्तान की थल सेना ने पाकिस्तान के परखच्चे उड़ा दिए. 2019 में भारत को मिला वज्र कैसे दुश्मनों पर घात करने वाला है. K-9 वज्र, आतंक का नया दुश्मन है. ये 155mm गन है और इसकी रेंज- 28-38 किमी प्रति घंटा है. और 2020 में ये पाकिस्तान पर तबाही बनकर टूटने वाले हैं. लेकिन इस साल एक मौका ऐसा आया था. जब तोप स्ट्राइक के सामने पाकिस्तानी आर्मी चीफ बाजवा ने बॉर्डर पर सफेद झंडा दिया था.

Year Ender 2019: थल सेना का वो कमाल, जिसे याद करके थर्रा उठेगा PAK

नई दिल्ली: 18 अक्टूबर 2019 को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि 'हम जो संकल्प लेते हैं उसे सिद्ध किए बिना ना हम रुकते है, ना थकते हैं, और झुकना तो हमें मंजूर ही नहीं है. प्रधानमंत्री ने ऐलान किया था कि 'अगर नहीं समझे तो समझा दिया जाएगा.'

सेना प्रमुख ने भी ललकारा था!

सेना प्रमुख बिपिन रावत ने समझाया था कि 'पाक ने गलती की तो नाक तोड़ दी जाएगी.' फिर भी पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आया. यही वजह रही कि भारतीय सेना को एक बार फिर आतंकिस्तान को अपना पराक्रम दिखाना पड़ा.

20 अक्टूबर 2019 को जब भारतीय सेना ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर यानी पीओके में पल रहे आतंकियों को सबक सिखाने का फैसला किया. भारतीय सेना ने PoK की नीलम घाटी में आतंकी कैंपों पर बोफोर्स से हमला बोला और गोलों की बमबारी से आतंकी कैंपों को पूरी तरह तबाह कर दिया.

PoK में भारतीय सेना का 'पराक्रम'

भारतीय सेना की कार्रवाई में PoK के जूरा, आठमुकाम, कुंडलशाही में आतंकी कैंपों पर हमले किए गए. सेना की कार्रवाई में कम से कम 3 आतंकी लॉन्च पैड तबाह कर दिए गए. पाकिस्तानी सैनिकों के कई पोस्ट को भी नुकसान पहुंचा और हमले में 20 से ज्यादा आतंकी मारे गए थे.

दरअसल, पीओके के लॉन्चिंग पैड पर 200 से ज्यादा आतंकियों के होने की थी सूचना जो जम्मू-कश्मीर में बड़ी तादाद में घुसपैठ कर हमले की साज़िश रच रहे थे. जिसका दावा खुद सेनाप्रमुख जनरल बिपिन रावत ने किया था.

भारतीय सेना ने पीओके में आतंकी कैंपों और पाकिस्तानी सेना की चौकियों पर आर्टिलरी फायरिंग की थी. सेना ने बोफोर्स तोप से पाकिस्तानी सेना के बंकरों को तबाह कर दिया था. भारत ने कारगिल युद्ध के दौरान भी दुश्मन को इन्हीं तोपों से प्रहार किया था. भारत के पास टेस्टेड और सबसे बोफोर्स सटीक हथियार है.

बोफोर्स को कोई जवाब नहीं

- बोफोर्स की एक सेल्फ प्रोपेल्ड हॉविट्जर है जो 155mm के गोले दाग सकती है
- ये पूरी तरह ऑटोमेटिक गन है यानी खुद गोले लोड करती है और दागती है
- बोफोर्स गन की रेंज 24 Km है और ये 14 सेकेंड में 3 गोले दाग सकती है
- बोफोर्स की रेंज को गोले के मुताबिक़ 42 Km तक बढ़ाया जा सकता है
- बोफोर्स गन में इस्तेमाल होने वाले गोलों का वज़न 50 Kg तक होता है

Year Ender 2019: भारत में इस वर्ष की प्राकृतिक आपदाएं

साल 2020 मं भी पाकिस्तान को इसी से निपटाया जाएगा. हांलाकि नई तोपों की डील की जा रही है और जैसे ही वो भारत आएंगे. पाकिस्तान के बुरे दिन शुरू हो जाएंगे. बार-बार स्ट्राइक के बावजूद पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है. न सिर्फ पीओके बल्कि पाकिस्तान की धरती पर आतंकी खुलेआम घूम रहे हैं. और यहीं से भारत में आतंकी हमलों की साजिश रची जा रही है. ऐसे में अब हिंदुस्तान ने पाकिस्तान को साफ संदेश दे दिया है कि अबकी बार आतंकिस्तान ने कोई हिमाकत की तो उसके चार टुकड़े होंगे.

Year Ender 2019: मोदी सरकार 2.0 में गृहमंत्री शाह के 3 ऐतिहासिक फैसले