PAK की नई आतंकी साजिश! इस बार पंजाब पर नजर

आतंक को पनाह देने वाले पाकिस्तान की कारिस्तानी का सिलसिला लगातार बढ़ता ही जा रहा है. खुफिया एजेंसियों को मिले इनपुट में जानकारी मिली है कि पाकिस्तान में खालिस्तान समर्थित आतंकियों की बड़ी बैठक के बाद पंजाब में आतंकी वारदात के लिए हथियारों की सप्लाई की कोशिशें तेज हो गई हैं.

PAK की नई आतंकी साजिश! इस बार पंजाब पर नजर

नई दिल्ली: कश्मीर में आतंक की दुकान बंद होने के बाद पाकिस्तान की गंदी नजर पंजाब पर टिकी है. पाकिस्तान खालिस्तान समर्थित आतंकियों को भड़काने में जुट गया है. 

पंजाब में आतंकी वारदात की प्लानिंग

खुफिया एजेंसियों की सूत्रों की मानें तो पाकिस्तान में खालिस्तान समर्थित आतंकियों की बड़ी बैठक हुई. इस बैठक में भारत में आतंकी गतिविधियों को तेज करने का फैसला लिया गया. खुफिया एजेंसियों को शक है कि पंजाब में आतंकी वारदात के लिए हथियारों की सप्लाई की कोशिशें तेज कर दी गई है.

आतंकी गुट इसके लिए बब्बर खालसा और खालिस्तान जिंदाबाद फोर्स की मदद ले रहा है. इसी आतंकी ग्रुप के जरिये पंजाब में हथियारों की खेप भेजने की कोशिश हो रही है. राजस्थान और हरियाणा में भी खालिस्तान समर्थित गुटों की मूवमेंट देखी गई है.

खुफिया इनपुट के बाद अर्लट जारी

खुफिया इनपुट के बाद केंद्र सरकार ने बीएसएफ, एनआइए, रॉ और आईबी को सतर्क कर दिया है. इन एजेंसियों से खालिस्तान समर्थित आतंकियों से जुड़ी गतिविधियों पर नजर रखने को कहा गया है. पंजाब से सटे पाकिस्तान सीमा के आसपास सक्रिय स्मगलर पर भी निगरानी बढ़ा दी गई है. जिससे हथियारों की स्मगलिंग की किसी भी कोशिश को नाकाम किया जा सके.

खुफिया एजेंसी पाकिस्तान में मौजूद आतंकी कैंपो के बार में भी जानकारी जुटाने में लगी है. जहां खालिस्तानी समर्थित आतंकियों को भारत पर हमले के लिए ट्रेनिंग दी जा रही है.

शेख रशीद के बयान ने दिया था हिंट

कुछ दिन पहले पाकिस्तान के रेल मंत्री शेख रशीद का भी एक बयान आया था. जिसमें उन्होंने कबूल किया कि करतारपुर कॉरिडोर पाकिस्तान आर्मी के चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा के दिमाग की उपज है. और इससे भारत को नुकसान पहुंचेगा.

उस वक्त पाकिस्तान के रेल मंत्री शेख रशीद ने कहा था कि इंडियन मीडिया ने जिस तरह से फर्जुलरहमान के धरने को कवरेज दी है. और जिस तरह से इंडिया की मीडिया ने कमर जावेद बाजवा को दिखाया. एक ऐसे सिपहसलार और ऐसे जनरल को, जिसने करतारपुर कॉरिडोर का एक ऐसा जख्म लगाया. कि सारी जिंदगी हिन्दुस्तान याद रखेगा. और वो उसके सीने पर मूंग दली कि वो हमेशा याद रखेगा. सिखों के अंदर पाकिस्तान के लिए एक नए जज्बात प्यार मोहब्बत और खुशदिली की फिजा पैदा की गई.'

करतारपुर की आड़ में आतंक फैलाने का मंसूबा!

दरअसल हुकूमत में आने के कुछ ही हफ्ते बाद जब पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने अचानक करतारपुर कॉरिडोर को खोलने की बात कही थी. तभी से भारत के कई सुरक्षा विशेषज्ञों ने पड़ोसी देश की इस दरियादिली को लेकर शंका जाहिर की थी. अब शेख रशीद के बयान और खुफिया एजेंसियों के खुलासे ने इस शंका को मजबूत कर दिया है. शंका इस बात की है कि करतारपुर कॉरिडोर को खोलने के पीछे कहीं पाकिस्तान का असल मकसद पंजाब में अलगाववादी भावनाओं को भड़काना तो नहीं है.

इसे भी पढ़ें: औकात में आया पाकिस्तान, अब भारत से चाहिए मदद

दरअसल पाकिस्तानी सीमा के अंदर पड़ने वाला करतारपुर साहिब सिखों के सबसे पवित्र तीर्थस्थलों में से एक है. गुरु नानक 4 यात्राओं को पूरा करने के बाद यहीं बसे थे.

इसे भी पढ़ें: पाक को टेंशन, फिर बढ़वाना चाहता है बाजवा का एक्सटेंशन