किसान आंदोलन के नाम पर दिल्ली दहलाने का 'पाकिस्तानी प्लान'

किसान आंदोलन को लेकर दिल्ली पुलिस ने बहुत बड़ा खुलासा किया है. 13 से 18 जनवरी के बीच पाकिस्तान के 308 ट्विटर हैंडल सक्रिय थे. पाकिस्तानी आतंकी ट्रैक्टर रैली के दौरान गड़बड़ी फैला सकते हैं..

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Jan 24, 2021, 08:40 PM IST
  • किसानों से जुड़ा दिल्ली पुलिस का बड़ा खुलासा
  • 308 पाक ट्विटर हैंडल के सक्रिय होने के सबूत
  • रैली के दौरान गड़बड़ी फैलने की आशंका: पुलिस
  • '13 से 18 जनवरी के बीच 308 हैंडल एक्टिव थे'
  • किसानों के ट्रैक्टर मार्च के दौरान रहेगी नजर: पुलिस
किसान आंदोलन के नाम पर दिल्ली दहलाने का 'पाकिस्तानी प्लान'

नई दिल्ली: बॉर्डर पार पाकिस्तान से दिल्ली (Delhi) को दहलाने की बड़ी साजिश का खुलासा हुआ है. पाकिस्तान किसानों के ट्रैक्टर मार्च में बड़ी गड़बड़ी फैलाने की साजिश रच रहा है. इसके जरिए दिल्ली को जलाने की कोशिश है. दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने 300 से ज्यादा ऐसे ट्विटर और सोशल मीडिया (Social Media) हैंडल की पहचान की है, जिन्हें पाकिस्तान (Pakistan) ने साजिश का औजार बना रखा है. दिल्ली पुलिस ने साफ कर दिया है कि किसानों की सुरक्षा को लेकर वो कोई कसर नहीं छोड़ेगी और 26 जनवरी पर गणतंत्र का सबसे बड़ा उत्सव शांति के साथ मनेगा.

पाकिस्तान में बैठा हैंडलर

ट्रैक्टर मार्च की आड़ में पाकिस्तान (Pakistan) की खुफिया एजेंसी बड़ी गड़बड़ी फैलाना चाहती है. सोशल मीडिया के जरिए माहौल बिगाड़ने का ऑनलाइन प्लान भड़काऊ ट्विटर (Twitter) हैंडल पाकिस्तानी निकले. पाकिस्तान के बेस कैम्प में बैठकर, देश के दुश्मन दिल्ली को ट्रैक्टर मार्च की आड़ में हिंसा की आग में झोंकने की साजिश रच सकते हैं. इस खतरे से निबटने के लिए दिल्ली पुलिस पूरी तरह सावधान है.

सोशल मीडिया पर साजिश का ट्रैक्टर!

दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के इंटेलीजेन्स स्पेशल कमिश्नर दीपेंद्र पाठक ने बताया कि 'ट्रैक्टर रैली (Tractor Rally) को डिस्टर्ब करने के इंटेलिजेंस से बहुत सारे इनपुट्स आ रहे हैं. हम सोशल मीडिया पर भी नजर रख रहे हैं. 13 जनवरी से 18 जनवरी के बीच में इस रैली को डिस्टर्ब करने के लिए लोगों के मन में भ्रम पैदा करने के लिए पाकिस्तान से 308 ट्विटर हैंडल नए बने है. 308 ट्विटर हैंडल पाकिस्तान से जेनरेट हुए है, रैली के दौरान हिंसा करने की साजिश हो रही है. अलग-अलग राज्यों के एक बड़े इलाके को सुरक्षा देनी पड़ेगी.'

किसानों की आड़ में दहशतगर्दों से निबटने का पूरा इंतजाम है, सुरक्षा में सेंध नहीं लग पाएगी. चप्पे-चप्पे पर सबसे बड़ा पहरा होगा. ट्रैक्टर मार्च तो निकलेगा, लेकिन टेरर वाली साजिश पूरी तरह नाकाम होगी. एक भी चूक रहने नहीं दी जाएगी. कोई अफवाह ना फैला सके, कोई दिल्ली को जला ना सके. किसान के चोले में घुसपैठिए आतंकी की साजिश कामयाब नहीं होने दी जाएगी.

आंदोलन के नाम पर दिल्ली दहलाने का प्लान

दीपेंद्र पाठक ने बताया कि 'पूरी सिक्योरिटी में ट्रैक्टर रैली संपन्न कराई जाएगी. दिल्ली पुलिस के लिए बहुत चैलेंजिंग टास्क होगा, लेकिन हम चाहते हैं कि दोनों के लिए इस से फायदा हो. जब 26 जनवरी की परेड खत्म हो जाएगी, तब किसान रैली शुरू होगी. परमिशन 26 तारीख की है, उस समय जैसी स्थिति होगी. उसी समय मिल बैठकर इसे खत्म कराया जाएगा. किसान भाईयों पर मुझे पूरा भरोसा है. उन्होंने बोला है वह जहां से आएंगे, वही वापस लौट जाएंगे.'

इसे भी पढ़ें- किसानों की जिद: पुलिस अनुमति दे या नहीं दे, ट्रैक्टर परेड निकालेंगे

दिल्ली पुलिस कमिश्नर का आदेश

दिल्ली पुलिस कमिश्नर एसएन श्रीवास्तव ने आदेश दिया है कि रिपब्लिक डे परेड पर जो पुलिसकर्मी तैनात रहेंगे वो शॉर्ट नोटिस पर आगे की तैनाती के लिए तैयार रहें. किसानों की रैली के चलते उन्हें रिपब्लिक डे परेड के बाद अलग-अलग जगहों पर जाना होगा. किसानों की रैली के रूट को जोनल और सेक्टरों में बांटा गया है. जहां उनकी तैनाती होगी, लेकिन उन्हें शार्ट नोटिस पर मूव करना होगा.