आखिर क्यों हरीश रावत ने गंवाया कांग्रेस का पंजाब प्रभार, ये दो गलतियां पड़ गईं भारी

हरीश रावत की जगह हरीश चौधरी को कांग्रेस का प्रभार सौंपा गया है. तत्काल प्रभाव से उनका कार्यकाल शुरू हो गया है. 

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Oct 22, 2021, 04:42 PM IST
  • कांग्रेस आलाकमान पंजाब में हुए राजनीतिक ड्रामे के चलते खुश नहीं था
  • हरीश रावत के बयानों से पार्टी के संकट को घटाने की बजाय बढ़ा दिया

ट्रेंडिंग तस्वीरें

आखिर क्यों हरीश रावत ने गंवाया कांग्रेस का पंजाब प्रभार, ये दो गलतियां पड़ गईं भारी

नई दिल्ली: आखिर वही हुआ जिसकी गूंज राजनीतिक गलियारों में पिछले महीने से ही सुनाई दे रही थी. कांग्रेस आलाकमान ने उत्तराखंड के पूर्व सीएम हरीश रावत से कांग्रेस प्रभारी की जिम्मेदारी ले ली है. हरीश रावत को भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव पद की जिम्मेदारी से भी मुक्त किया गया है. हालांकि वह कांग्रेस कार्यसमिति के सदस्य बने रहेंगे.

हरीश गए हरीश आए
हरीश रावत की जगह हरीश चौधरी को कांग्रेस का प्रभार सौंपा गया है. तत्काल प्रभाव से उनका कार्यकाल शुरू हो गया है. कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल की ओर से बयान जारी कर यह जानकारी दी गई है. हरीश चौधरी को पंजाब के अलावा चंडीगढ़ का भी प्रभारी नियुक्त किया गया है. हरीश चौधरी राजस्थान सरकार में मंत्री हैं और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के करीबी माने जाते हैं.

क्यों हुआ बदलाव, क्या उत्तराखंड चुनाव हैं कारण
बताया जा रहा है कि हरीश रावत ने खुद कांग्रेस आलाकमान से आग्रह किया था कि उन्हें पंजाब राज्य के प्रभारी के पद से मुक्त कर दिया जाए. ताकि वह उत्तराखंड विधानसभा चुनाव 2022 पर ध्यान केंद्रित कर सकें, जो की उनका गृह राज्य है. पर ये बात पूरा सच नहीं है.

ये भी पढ़ें- चीन ने ताइवान पर हमला किया तो अमेरिका उसकी रक्षा करेगा: बाइडेन

हरीश रावत से ये हुईं गलतियां
सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस आलाकमान पंजाब में हुए राजनीतिक ड्रामे के चलते राज्य के प्रभारी हरीश रावत से खुश नहीं था. हरीश रावत कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच हुए विवाद को शांत कराने में असफल रहे. बल्कि अपनी गलतबयानी से नए विवादों को भी जन्म दे दिया. हरीश रावत ने सिद्धू को कांग्रेस का भविष्य बताकर कैप्टन को नाराज कर दिया. फिर कहा कि अगला चुनाव कैप्टन के नेतृत्व में लड़ा जाएगा, जिससे फिर सिद्धू का खेमा नाराज हो गया. फिर नए सीएम की नियुक्ति के बाद रावत ने कहा कि अगला चुनाव सिद्धू के नेतृत्व में होगा. इसके बाद चन्नी और सिद्धू में तनाव आ गया. हाईकमान को आगे आकर कहना पड़ा कि चुनाव सिद्धू और चन्नी दोनों की अगुवाई में लड़ा जाएगा.

हाईकमान ने दिया था बदलाव का संकेत
हाईकमान ने पहले ही संकेत दे दिया था कि हरीश रावत को हटाया जा सकता है क्योंकि जब नवजोत सिंह सिद्धू नए सीएम बने चरणजीत सिंह चन्नी के बीज डीजीपी और एजी की नियुक्ति को लेकर विवाद हुआ था तो रावत पंजाब आना चाहते थे. लेकिन पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने उन्हें पंजाब जाने से रोक दिया गया था। फिर उनकी जगह हरीश चौधरी को पंजाब भेजा गया जिन्होंने आक्रामक हो रहे सिद्धू और सीएम चन्नी के बीच समझौता कराया.

ये भी पढ़ें- PM Modi ने 100 करोड़ वैक्सीनेशन पर देश को दी बधाई, जानिए उनके संबोधन की बड़ी बातें

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़