हैदराबाद गैंगरेप: महिला डॉक्टर से दरिंदगी की डरावनी दास्तां

साइबराबाद पुलिस ने पुष्टि की है कि महिला डॉक्टर की हत्या से पहले उनका गैंगरेप किया गया था. पुलिस अधिकारी ने बताया, महिला डॉक्टर के साथ सामूहिक दुष्कर्म करने के बाद उन्‍हें कंबल में लपेटा गया और फिर उनका गला घोंटा गया.साइबराबाद पुलिस ने केस को महबूबनगर फास्ट ट्रैक कोर्ट में भेजने की सिफारिश करने की बात भी की है, जिससे दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा मिल सके. 

हैदराबाद गैंगरेप: महिला डॉक्टर से दरिंदगी की डरावनी दास्तां

हैदराबादः एक महिला डॉक्टर के साथ गैंगरेप कर उनकी हत्या किए जाने के मामले में पुलिस ने खुलासा कर दिया है. पुलिस ने पूरे मामले को सामने रखते हुए बताया कि इस मामले में चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है. शुक्रवार देर शाम प्रेस वार्ता में साइबराबाद पुलिस ने पुष्टि की है कि महिला डॉक्टर की हत्या से पहले उनका गैंगरेप किया गया था. पुलिस अधिकारी ने बताया, महिला डॉक्टर के साथ सामूहिक दुष्कर्म करने के बाद उन्‍हें कंबल में लपेटा गया और फिर उनका गला घोंटा गया. इसके बाद केरोसिन डालकर उन्‍हें जला दिया गया. 

फास्ट ट्रैक कोर्ट में केस भेजने की सिफारिश
साइबराबाद पुलिस ने केस को महबूबनगर फास्ट ट्रैक कोर्ट में भेजने की सिफारिश करने की बात भी की है, जिससे दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा मिल सके. उनका कहना है कि यह जघन्य अपराध है.

वह चाहते हैं कि इसमें न्याय में देरी न हो. पुलिस ने बताया कि घटना से जुड़े चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है. आरोपियों की पहचान मोहम्मद आरिफ, नवीन, चिंताकुंता केशावुलु और शिवा के रूप में हुई है. पुलिस ने इस बात की भी पुष्टि की है कि आरोपियों ने वारदात के दौरान शराब पी रखी थी.

गृह राज्‍य मंत्री पीड़ित परिवार से मिलेंगे
तेलंगाना सरकार के गृह राज्‍य मंत्री जी. किशन रेड्डी शनिवार को महिला डॉक्‍टर के घरवालों को सांत्‍वना देने उनके घर जाएंगे. इससे पहले गृह मंत्री मोहम्‍मद महमूद अली ने बेतुका बयान दिया था कि अगर महिला डॉक्‍टर ने अपनी बहन की जगह पुलिस को फोन किया होता तो उसे बचाया जा सकता था. बाद में फजीहत होते देख गृह मंत्री ने अपना स्‍पष्‍टीकरण भी पेश किया था. शुक्रवार को गृहमंत्री मोहम्‍मद महमूद अली ने कहा, 'इस घटना से हम दुखी हैं. पुलिस सतर्क है और अपराध नियंत्रित कर रही है. यह दुर्भाग्‍यपूण है कि महिला डॉक्‍टर ने 100 नंबर की जगह अपनी बहन को फोन किया. अगर उन्‍होंने 100 नंबर पर कॉल किया होता तो उन्‍हें बचाया जा सकता था.

पीड़ित मां बोली, दोषियों को जिंदा जला दिया जाए
पीड़िता की मां ने कहा, मेरी बेटी बहुत मासूम थी. मैं चाहती हूं कि दोषियों को जिंदा जला दिया जाए. मां ने बताया कि घटना के बाद मेरी छोटी बेटी थाने में शिकायत दर्ज कराने पहुंची लेकिन उसे दूसरे थाने शमशाबाद भेज दिया गया. पुलिस ने कार्रवाई की बजाय कहा कि यह मामला उसके क्षेत्र में नहीं आता है. बाद में पीड़िता के परिवार के साथ कई सिपाही लगाए गए और सुबह 4 बजे तक तलाशी अभियान चलाया गया लेकिन उसका पता नहीं चल पाया. पीड़िता की बहन ने कहा, एक पुलिस स्‍टेशन से दूसरे पुलिस स्‍टेशन जाने में हमारा काफी समय बर्बाद हो गया.

अगर पुलिस ने समय बर्बाद किए बिना कार्रवाई की होती तो मेरी बहन आज जिंदा होती. इस बीच हैदराबाद पुलिस ने कहा है कि इस हत्‍याकांड में शामिल आरोपियों को अरेस्‍ट कर लिया गया है. इस बीच राष्‍ट्रीय महिला आयोग ने पूरे मामले की जांच के लिए एक जांच समिति का गठन किया है. 

आखिरी बार बहन से हुई थी बात 
मृतका बुधवार की रात को अपनी स्कूटी से घर लौट रही थीं. बीच में उनकी गाड़ी का टायर पंचर हो गया था. मृतका ने आखिरी बार 7.20 मिनट पर अपने बहन से बात की. उन्होंने अपनी बहन से चिंता जाहिर करते हुए कहा कि (मुझे डर लग रहा है, यहां शमसाबाद के टोल प्लाजा के पास कुछ ट्रक ड्राइवर खड़े हैं, वो कह रहे हैं मेरे गाड़ी का टायर पंचर हो गया है, वो ठीक करा देंगे, एक लड़के को मेरा गाड़ी देकर भेज दिया है, वो वापस आ गया, फिर कहीं पंचर बनाने के लिए भेजा है). 

जिसके बाद मृतका की बहन ने कहा कि गाड़ी वहीं छोड़कर वापस आ जाओ. मृतका ने जवाब दिया कि फिर सुबह मैं काम पर कैसे जा पाउंगी. उसके बाद रात 9 बजकर 44 मिनट पर जब मृतका की बहन ने दोबारा कॉल किया तो डॉक्टर का फोन स्विच ऑफ बताने लगा. जिसके बाद डॉक्टर के परिवार ने रात को 3 बजे करीब शमसाबाद पुलिस स्टेशन में जाकर मामले की शिकायत दर्ज कराई. 

एक और महिला का अधजला शव मिला
वेटरनरी डॉक्टर के रेप और हत्या का केस सामने आने के 24 घंटे के भीतर ही एक और महिला का शव संदिग्ध हालत में बरामद किया गया है. राजधानी हैदराबाद के शमशाबाद इलाके में पुलिस ने एक महिला का अधजला शव बरामद किया है. जिस महिला का शव बरामद किया गया है, उसकी उम्र 30 से 35 वर्ष के बीच कही जा रही है. शुक्रवार शाम इस महिला का शव बरामद होने के बाद हैदराबाद के प्रशासनिक अमले में हड़कंप मच गया है. महिला का शव बरामद होने की पुष्टि करते हुए साइबराबाद के पुलिस कमिश्नर वीसी सज्जनार ने कहा कि महिला का शव यहां के शमशाबाद क्षेत्र के बाहरी इलाके में बरामद किया गया है. पुलिस कमिश्नर ने बताया कि महिला का शव बरामद किए जाने के बाद पुलिस ने इसे अटॉप्सी के लिए सरकारी अस्पताल में भेजा है. इसके अलावा संदिग्ध परीस्थितियों में मौत होने का मामला दर्ज करते हुए अब केस की जांच शुरू की गई है. 

बड़ी बेरहमी से मोहम्मद अजीज और उसके साथियों ने की महिला डॉक्टर की हत्या