पिता लालू से राजनीति सीख कर तेजस्वी कर रहे हैं जेल भरने की तैयारी

राष्ट्रीय जनता दल के नेता बिहार में CAA के विरोध में अपना प्रदर्शन सफल होने से बेहद खुश हैं. राजद के कर्ता धर्ता तेजस्वी यादव के लिए CAA विरोधी बंद उनका लिटमस टेस्ट था. जिसके लिए उन्होंने विशेष तौर पर अपने पिता और राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव से मुलाकात करके तैयारी की थी. अब तेजस्वी जेल भरो आंदोलन करने की तैयारी में जुटे हैं.   

पिता लालू से राजनीति सीख कर तेजस्वी कर रहे हैं जेल भरने की तैयारी

पटना: बिहार में CAA विरोध में सफल रैली करने के बाद तेजस्वी यादव को संजीवनी मिल गई है. एक  वक्त था कि जब राजद के अंदर से ही तेजस्वी यादव के खिलाफ आवाजें उठने लगी थीं. ऐसे में पिता लालू प्रसाद यादव सामने आए और उन्होंने बेटे तेजस्वी को राजनीति में स्थापित होने के लिए गुरु मंत्र प्रदान किया. जिसका नतीजा है कि तेजस्वी यादव अब बिहार में विपक्ष के चेहरे के तौर पर स्थापित हो गए हैं. 

जनसमर्थन को भुनाना चाहते हैं तेजस्वी
तेजस्वी यादव अपनी पार्टी को मिल रहे जनसमर्थन को भांप चुके हैं. CAA विरोध के बहाने राष्ट्रीय जनता दल के नेताओं और कार्यकर्ताओं में जो एकजुटता दिखी है, तेजस्वी यादव उसे यूं ही नहीं जाने देना चाहते. वो इस मौके को ज्यादा से ज्यादा भुनाने की रणनीति तैयार कर रहे हैं.

यही वजह है कि CAA विरोध में राजद का बिहार बंद सफल होने के बाद तेजस्वी यादव अब जेल भरो आंदोलन की तैयारी में जुट गए हैं.

लालू यादव की रणनीति से बनी बात 

राजद के बिहार बंद की सफलता के पीछे जेल में बंद लालू यादव का दिमाग था. लालू यादव एक बेहद अनुभवी और माहिर राजनीति के खिलाड़ी हैं. उन्हें अच्छी तरह मालूम है कि जनता के बीच जगह बनावने के लिए मुद्दों को किस तरह उछाला जाता है.

जिस दिन लोकसभा में CAA पास हुआ और अगले ही दिन राज्‍यसभा में पेश किया जाना था. तभी लालू यादव ने आनन फानन में रणनीति तैयार की और तेजस्वी यादव को NRC और CAA के खिलाफ धरने पर बिठा दिया.

तभी से राष्ट्रीय जनता दल पूरी ताकत से इस मामले को उछालने में लगा हुआ है. तेजस्वी यादव और उनका खेमा सिर्फ और सिर्फ लालू यादव के निर्देशों का पालन कर रहा है. 

लालू से सीख पाकर सभी मोर्चों को साधने में जुटे हैं तेजस्वी
लालू यादव जैसे माहिर रणनीतिकार यह जानते हैं कि अगर सिर्फ CAA का मुद्दा उठाया गया तो हिंदू वोट बैंक पर इसका नकारात्मक असर दिखाई दे सकता है. इसीलिए उन्होंने तेजस्वी यादव को अपनी हिंदू छवि भी बरकरार रखने का निर्देश दिया है. यही वजह है कि तेजस्वी ने बकायदा ट्विट करके खुद को हिंदू घोषित किया है.

राष्ट्रीय जनता दल ने अपने पुराने कोर वोट बैंक यादव और मुस्लिम के साथ दलितों को भी एकजुट करना शुरु दिया है. इसी मुहिम के अंतर्गत नागरिकता संशोधन कानून को लेकर राष्ट्रीय जनता दल ने अभी से ही आगे की रणनीति बनानी भी शुरु कर दी है. 

और अब तेजस्वी यादव अपनी पार्टी के साथ CAA के खिलाफ जेल भरो आंदोलन की तैयारी में जुटे हैं. जिसका एक और उद्देश्य जेल में बंद अपने पिता और राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के साथ एकजुटता दिखाना भी है.